Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
रेलवे से रिटायर्ड इंजीनियर को दबंग ठेकेदार ने अपने दो साथियों के साथ रात भर बंधक बनाकर पीटा राखी बंधवाने आए एक युवक की दो लोगों ने ब्लेड से रेत दिया गला, आरोपियों के तलाश मे पुलिस राज्य कर्मचारियों ने निकाली तिरंगा यात्राः डीएम ने बढाया हौसला एपीएन के छात्रों ने निकाली तिरंगा यात्रा पोषण व पुनर्वास केन्‍द्र में भर्ती बच्‍चों ने एक दूसरे को बांधी राखी गर्भावस्था में महिलाएं हो सकती हैं वैनिशिंग ट्विन सिंड्रोम की शिकार नगर पंचायतों में जलकर प्राप्त करने के लिए डीएम ने दिए निर्देश बेगम खैर गर्ल्स इण्टर कालेज की छात्राओं ने निकाली तिरंगा यात्रा 14 अगस्त को आयोजित हो रहे तिरगां यात्रा को लेकर तैयारियों पर चर्चा आज मेट्रो ट्रेन मॉडल का वर्चुअल अनावरण करेंगे मुख्यमंत्री योगी

सीएम भूपेश बघेल बोले- हम दलबदल नहीं चाहते, हमारे पास पर्याप्त विधायक

रायपुर जरा हटके। मरवाही उपचुनाव से पहले मंत्री जयसिंह अग्रवाल के बयान के बाद जोगी कांग्रेस में खींचतान मची हुई है। सियासत के बीच मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने साफ कर दिया कि जोगी कांग्रेस के विधायक कांग्रेस में आना चाहते हैं, लेकिन वह दलबदल नहीं चाहते ।उन्होंने कहा कि हमारे पास पर्याप्त विधायक है। इसलिए हम जल्दबाजी में कोई निर्णय नहीं करना चाहते हैं। लेकिन इस पर हाईकमान को ही फैसला करना है। दूसरी तरफ देवव्रत सिंह ने दो टूक शब्दों में स्वीकार किया कि उनको कांग्रेस में ही अपना भविष्य दिखता है और वे उचित समय आने पर कांग्रेस में शामिल हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में दो ही पार्टी कांग्रेस और भाजपा का भविष्य है। कांग्रेश हमारे खून में है। कांग्रेस से ही 3 बार विधायक और एक बार सांसद बना। भावनात्मक रूप से कांग्रेसी है लेकिन संवैधानिक रूप से जोगी कांग्रेस के विधायक हैं। इसलिए अभी हम पार्टी में बने रहेंगे। यदि चार में से तीन विधायक कांग्रेस में शामिल होने पर सहमत होते हैं और कांग्रेस इस पर सहमति देती है तो हम कांग्रेस पार्टी में जाएंगे।देवव्रत ने कहा कि जोगी कांग्रेस के कांग्रेस में विलय की बात पिछले डेढ़ साल से चल रही है।
विधायक देवव्रत सिंह के बयान के बाद बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा ने भी देवव्रत के साथ खड़े होने की बात कही है। उन्होंने कहा कि वे विधायक देवव्रत के साथ हैं। देवव्रत जिस पार्टी में जाना चाहते हैं, मैं उनके साथ रहूंगा। उन्होंने आगे कहा कि छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस की सुप्रीमो रहे अजीत जोगी उनके राजनीतिक गुरु थे। लेकिन अब उनके जाने के बाद वे विधायक देवव्रत सिंह के साथ हैं।