Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
‘महीने में आठ बार आयरन और छह महीने पर विटामिन ए सीरप का सेवन आवश्यक’’ बच्चों को विटामिन ए पिलाकर बाल स्वास्थ्य पोषण माह का शुभारंभ पेगासस साफ्टवेयर का इस्तेमाल भारतीय संस्थाओं और पत्रकारों पर करना देशद्रोह-महेन्द्र श्रीवासतव लक्ष्मण पाण्डेय हत्याकाण्ड के दोषियों को गिरफ्तार करने की मांग, बबिता शुक्ल ने सौंपा ज्ञापन डॉ. अजीत प्रताप शिक्षक प्रकोष्ठ, गिरीश पाण्डेय को भाजपा पंचायत प्रकोष्ठ संयोजक बनाये जाने पर प्रसन्न... पार्टी के समर्पित कार्यकर्ताओं को विभिन्न पदों की सौंपी गयी जिम्मेदारी सीडब्ल्यूसी अध्यक्ष पद का प्रेरक मिश्रा ने संभाला कार्यभार ब्लाक प्रमुखों को प्रशासनिक एंव वित्तीय अधिकार दिलाने के लिए किया जायेंगा प्रयासः राजेन्द्र प्रताप स... प्रभारी मंत्री ने कप्तानगंज ब्लाक में निरीक्षण कर जाना योजनाओं का हाल 25,000 के इनामिया वांछित अभियुक्त पुलिस मुठभेड़ में गिरफ्तारः-

पराली जलाने पर लग सकता है 15 हजार रुपये तक जुर्माना

बलौदाबाजार 9 नवम्बर 2020/राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के दिशा निर्देशानुसार फसल अवशेष को खेतों में जलाने पर कड़ी जुर्माना का प्रावधान लगाया गया है। जिसके तहत किसानों को जीरो से 2 एकड़ तक रकबा में एक बार फसल जलाता है तो उसे 25 सौ रूपये, 2 से लेकर 5 एकड़ तक 5 हजार रुपये एवं 5 एकड़ से अधिक में 15 हजार रुपये का जुर्माने का प्रावधान लगाया गया है। कृषि विभाग के उपसंचालक मोनेश साहू ने बताया की खरीफ के फसल कटाई के बाद बचे पराली को जलाने से पर्यावरण प्रदूषित होता है। इसके साथ ही मिट्टी में उपस्थित नमी भी समाप्त होने साथ ही सहायक सूक्ष्म जीव के नष्ट होने से मिट्टी की उर्वरा शक्ति भी नष्ट हो जाती है। जिससे अधिक उर्वरक का उपयोग करने से कृषि लागत में वृद्धि हो जाती है। जो की एक आम किसान के लिए नुकसानदायक है। पराली को जलाने से धुंध का निर्माण के साथ ही फेफड़ों से सम्बंधित मरीजों को श्वास लेने में तकलीफ होता है। जिसके तहत सुप्रीम कोर्ट द्वारा पराली जलाना प्रतिबंधित किया गया है। उन्होंने सभी जिले के किसानों से आग्रह किया है। की उच्च न्यायालय के आदेशों का पालन करतें हुए फसल अवशेष नही जलाने का आग्रह किया है। इसके साथ ही यदि किसी किसान भाइयों के पास अतिरिक्त पैरा, भूसा है तो वह अपने नजदीकी गौठान में भी पैरा दान कर सकतें है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.