Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
फ्रंटलाइन वर्कर तथा वरिष्ठ नागरिकों से कोविड-19 की प्रिकॉशन डोज लगवाने की अपील रोटरी मण्डल 3120 के सहायक मण्डलाध्यक्ष बने आशीष श्रीवास्तव वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से दी गई स्वीप, शिकायत, मीडिया मानीटरिंग, एनवीडी के संबंध में विस्तार ... 23 जनवरी को दो पालियों में करायी जायेंगी टेट की परीक्षा सांस से सम्बन्धित कोविड मरीजों के लिए लाभकारी है चेस्ट फिजियोथैरेपी एक दिन में कोरोना संक्रमण के 17,776 नये मामले आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर यूपी मे अब तक 167 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज घर से नाराज़ होकर मुंबई पहुंच गई बालिका को सीडब्लयूसी ने उसके पिता को सौंपा विधान सभा चुनाव को लेकर बैठक मे सौंपी गई जिम्मेदारियां गृह भ्रमण कर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता देंगी पांच सेवाएं

बड़ी खबर।छत्तीसगढ़ ढाई ढाई साल सीएम बनने के सवाल पर सीएम भूपेश बघेल का बड़ा बयान, टीएस सिंह देव का दिल्ली दौरा

रायपुर। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार के 2 साल पूरे होते ही, ढाई साल में सीएम बदलने के फार्मूले की चर्चा ने जोर पकड़ लिया है। विधानसभा चुनाव में बहुमत मिलने के बाद कांग्रेस पार्टी के 4 नेता मुख्यमंत्री की दौड़ में शामिल थे, जिसमें भूपेश बघेल, टी एस सिंह देव, चरणदास महंत कथा ताम्रध्वज साहू। हाईकमान के फैसले के बाद सीएम भूपेश बघेल को छत्तीसगढ़ का मुख्यमंत्री बनाया गया था। तभी से से ढाई साल बाद टी एस सिंह देव के सीएम बनने की चर्चा भी समय-समय पर उठती आई है। इस बात को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता कि कहीं ना कहीं हाईकमान के साथ छत्तीसगढ़ के नेताओं की चर्चा में कुछ तो समझौता हुआ था, क्योंकि एक कहावत प्रचलित है कि जहां आग होता है वहीं से धुआं उठता है। इस 2 साल के कार्यकाल में समय-समय पर टी एस सिंह देव के सीएम बनने की चर्चा उठती आ रही है। 3 दिन पहले टी एस सिंह देव के बयान के बाद छत्तीसगढ़ में फिर ढाई साल का मुद्दा चर्चा में आ गया है। टी एस सिंह देव ने स्पष्ट तौर पर मीडिया से कहा था कि सीएम कौन कितने दिन रहेगा या फैसला हाईकमान तय करेगा। आज मीडिया के सवाल पर सीएम भूपेश बघेल ने कहा मैं हाईकमान के फैसले के आगे नतमस्तक हूं , जो निर्णय लेगा उसका पालन करूंगा, मुझे इस्तीफा देने के लिए कहेगा तो मैं तत्काल इस्तीफा दे दूंगा। लेकिन यह समझना होगा कि छत्तीसगढ़ के विकास से किन लोगों को दिक्कत हो रही है, वह लोग छत्तीसगढ़ का विकास नहीं चाहते। उनके इस बयान के भी कई मायने निकाले जा रहे हैं कि उनका इसारा अपनी पार्टी के नेताओं के तरफ है या विपक्ष की तरफ। आगे देखना होगा कि हाईकमान इस विषय पर क्या फैसला लेता है ढाई साल के फार्मूले पर विचार करता है या भूपेश बघेल अपने कार्यकाल को गरिमामय ढंग से पूर्ण करेंगे। टीएस बाबा का दिल्ली दौरा भी इस चर्चा को काफी हवा दे रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.