Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
.......तो क्या... योगी राज मे गैंगरेप की शिकार अर्धविक्षिप्त युवती को मिल सकेगा न्याय ? नगर पुलिस व एन्टी व्हीकल थेफ्ट टीम की संयुक्त कार्यवाही में 3 क्विंटल 17.260 किलोग्राम गांजा के साथ ... फर्जी समूह बनाकर धोखा-धड़ी करके जमाकर्ताओं के धन हड़पने वाले 06 अभियुक्त गिरफ्तार एनटीपीसी ने सौंपा एसी एंबुलेंस एवं शव वाहन डा. वी.के. वर्मा ने स्वास्थ्य परीक्षण कर वृद्ध जनों में किया फल, मिष्ठान्न का वितरण अन्याय पर न्याय के विजय का पर्व है नवरात्रि - संजय चौधरी दो ऑक्सीजन गैस प्लांट का फीता काटकर किया गया उद्घाटन नहरों की सिल्ट सफाई का कार्य प्रारम्भ फ्री बिजली गारंटी पदयात्रा निकालेगी आपः सभाजीत सिंह त्योहारों को लेकर सम्पन्न हुई पीस कमेटी की बैठक, डीएम ने दिए निर्देश

पत्रकार उत्पीड़न पर गंभीर हुआ भारतीय प्रेस परिषद, डीएम एसपी सहित 6 जिम्मेदारों से मांगा जवाब

बस्ती। अक्टूबर 2019 में वाल्टरगंज थाना क्षेत्र में हुये गम्मज हत्याकांड में गिरफ्तार आरोपी का जनेऊ उतरवाकर उसके साथ अमानवीय व्यवहार किये जाने की निष्पक्ष खबर लिखने पर पत्रकार दिनेश प्रसाद मिश्र के खिलाफ स्थानीय पुलिस ने 13 दिन के अंदर ताबड़तोड़ चार मुकदमे दर्ज किये थे और एक आपराधिक इतिहास बनाते हुए उन पर गुंडा एक की भी कार्यवाही प्रशासन द्वारा किया गया। पीड़ित वरिष्ठ पत्रकार दिनेश मिश्र ने पूरे प्रकरण को भारतीय प्रेस परिषद में उठाया। मामले को गंभीरता से लेते हुये भारतीय प्रेस परिषद ने इसे प्रेस की स्वतंत्रता पर कुठाराघात माना और मुख्य सचिव उ.प्र. शासन, सचिव गुह (पुलिस विभाग), पुलिस महानिरीक्षक ए.के. राय, जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन, पुलिस कप्तान हेमराज मीणा तथा प्रभारी निरीक्षक कोतवाली रामपाल यादव को नोटिस भेजकर दो हफ्ते के अंदर लिखित जवाब मांगा है। प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के इस पत्र को मिलने के बाद प्रशासन में हड़कंप का माहौल है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.