Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
94.6 प्रतिशत अंक अर्जित पर ऐश्वर्या माथुर ने बढाया जनपद का मान शिक्षकों ने खण्ड शिक्षा अधिकारी इन्द्रजीत को दिया भावभीनी विदाई हस्तशिल्प विकास योजना की दिया जानकारी, हस्तशिल्पियों से बनाया संवाद सपा की बैठक में बूथ स्तर पर मजबूती का निर्णय कांग्रेस ने मनाया दलित सम्मान दिवस, निकाली पद यात्रा लगाया कोविड का टीका,गांव-गांव पहुंची टीम इंडियन पब्लिक स्कूल के सभी छात्र उत्तीर्ण, 33 प्रतिशत बच्चों को मिला 90 प्रतिशत अंक जिले में 2582 दिव्यांगों को वितरण किया जायेगा उपकरण 5 अगस्त को जिले के समस्त कोटे की दुकानों पर होगा अन्न महोत्सव का आयोजन लीजेंड दादा साहेब फालके अवार्ड से सम्मानित की गई मशहूर हस्तियां

समय, सम्पत्ति और शक्ति का जो सदुपयोग करे वह देवता

9 दिवसीय संगीतमयी श्रीराम कथा
बस्ती – ‘बिनु सत्संग विवेक न होई ’ सत्संग में बैठकर गुरु के शरणागत होकर उनसे वह सब प्राप्त करो जो आपके जीवन को धन्य कर दे और आपका जीवन सफल हो सके। भक्ति के मार्ग में अहंकार का कोई स्थान नही है। भक्त का जिस रूप में समर्पण होगा उसे परमात्मा की छवि उसी अनुरूप दिखायी पड़ेगी। जीवन के जो चारो घाट और दिशायें हैं उसमें श्रीराम कथा की मानस गंगा प्रवाहित है। ज्ञान गंगा, भक्ति और उपासना की त्रिवेणी गंगा, यमुना, सरस्वती हमारे मानस को नवीन दृष्टि देती हैं। यह सद् विचार कथा व्यास पूज्य छोटे बापू जी महाराज ने नारायण सेवा संस्थान ट्रस्ट द्वारा आयोजित 9 दिवसीय संगीतमयी श्रीराम कथा का दुबौलिया बाजार के राम विवाह मैदान में दूसरे दिन व्यक्त किया।
महात्मा जी ने कहा कि कथा की सार्थकर्ता है कि जीव की व्यथा दूर हो। मानस में संसार का ऐसा कोई प्रश्न नही जिसका समुचित उत्तर निहित न हो। प्रयागराज और नदियों की महिमा का वर्णन करते हुये महात्मा जी ने कहा कि श्रीराम कथा से जीव सुधरता है और कुविचार के स्थान पर सुविचार का जन्म होता है। समय, सम्पत्ति और शक्ति का जो सदुपयोग करे वह देवता और दुरूपयोग करने वाला दैत्य है।
कथा को विस्तार देते हुये कथा व्यास ने कहा कि रामचन्द्र की मर्यादा का पालन करने से मन का रावण मरता है। जिसके मन में संसार विषय आते ही नही उसके लिये मुक्ति सुलभ है। जब बुद्धि में परमात्मा का वास होता है तो पूर्ण शांति मिलती है। इसके लिये मन पर नियंत्रण आवश्यक है।
महात्मा जी ने जीवन के विविध प्रसंगो से कथा को जोड़ते हुये कहा कि रघुनाथ का अवतार राक्षसों के बध के लिये नहीं वरन मनुष्यों को मानव धर्म सिखाने के लिये हुआ। श्रीराम मर्यादा पुरूषोत्तम हैं और कृष्ण पुष्टि पुरूषोत्तम। रामचन्द्र जी मर्यादा है तो श्रीकृष्ण प्रेम। मर्यादा और प्रेम को जीवन में स्थान मिलेगा तो जीवन सुखी होगा। मन के चंचलता की व्याख्या करते हुये महात्मा जी ने कहा कि सेवा में धन नहीं मन ही मुख्य है। सेवा का सम्बन्ध मन से है। परमात्मा सत्कर्म में सहायक होते हैं। ईश्वर की धर्म मर्यादा का उल्लंघन करने पर भक्ति सफल नहीं हो सकती। परमात्मा स्वयं कहते हैं तप और विद्या अति उत्तम है, उसे यदि विनय, विवेक का सहारा न मिले तो व्यर्थ है। यदि भक्ति शुद्ध है तो ज्ञान और वैराग्य दौड़े-दौड़े आयेंगे।
मानस के बालकाण्ड और उत्तर काण्ड के अनेक प्रसंगो की भक्तिमय व्याख्या करते हुये महात्मा जी ने कहा कि जहां युद्ध क्लेश न हो वही अयोध्या है। दशरथ जीवात्मा हैं और दस इन्द्रियों को बश में करके जो जितेन्द्रिय बन सकता है वही दशरथ है। जो सबको प्रसन्न करता है उसके यहां सर्वेश्वर आते हैं। जेहि दिन राम जनम श्रुति गांवहि। तीरथ सकल तहां चलि आवहिं।। कथा श्रवण के लाभ, जीव के शिव तत्व में विलय होने और श्रीराम जन्म की पृष्टिभूमि बनाते हुये महात्मा जी ने कहा कि भक्ति की पूर्णता तो भाव में है।
श्रीराम कथा के दूसरे दिन कथा व्यास का विधि विधान से पूजन करते हुये ई. वीरेन्द्र कुमार मिश्र ने कहा कि श्रीराम श्रवण से जीवन संवरता है, रामायण जीवन जीने की कला सिखाती है। मुख्य यजमान संजीव सिंह के साथ ही आयोजक बाबूराम सिंह, अनिल सिंह, अनूप सिंह, जसवंत सिंह, अजय सिंह, अरूण सिंह, कमला प्रसाद गुप्ता, रामू, राधेश्याम, उदय नरायन सिंह, सत्यनरायन द्विवेदी, दिनेश गुप्ता, विभा सिंह, इन्द्रपरी सिंह, दीक्षा सिंह, सोनू सिंह, शीला सिंह के साथ ही बड़ी संख्या में क्षेत्रीय नागरिक श्रीराम कथा में शामिल रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.