Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
समाजवादी पार्टी सांस्कृतिक प्रकोष्ठ पदाधिकारियों की घोषणा रोटरी ने ग्राम प्रधान को भेंट किया कोरोना से बचाव का संसाधान राज्य स्तरीय फार्म एन फ़ूड अवार्ड से नवाजे गए किसान संघर्ष और साधना की मिसाल है सप्रे जी का जीवन : हृदय नारायण दीक्षित फोकस्ड सैम्पलिंग में नहीं मिला एक भी कोरोना मरीज डीएम, एसपी ने किया जिला कारागार का किया गया आकस्मिक निरीक्षण यशकान्त सिंह अध्यक्ष, अनिल दूबे प्रमुख संघ के महामंत्री बन कोविड-19 से संबंधित आवश्यक मेडिकल सामग्री तैयार करने का उधम शुरू करें उधमी: डीएम कोविड-19 गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए मनाया जाएगा स्वतंत्रता दिवस प्राकृतिक तरीको से घटाए यूरिक एसिड का लेवल- डा.वी.के.वर्मा

……आपका ध्यान किधर है अवैध गांजे का दुकान इधर है

10 हजार रूपये घूस लेकर गांजा बेंचवाती है पुलिस, कैमरे मे कैद हुआ पूरा मामला

बख्शे नही जायेगे गैर कानूनी कार्य करने वाले- एसपी

कबीर बस्ती ब्यूरो, बस्ती। वर्तमान समय की पुलिसिंग अधिकतर खाउ-कमाउ नीति पर आधारित हो गयी है। इन्हें गलत सही से कोई मतलब नही है सिर्फ नाजायज तरीके से अधिक से अधिक धन अर्जित कर लेना शायद वर्तमान समय की पुलिसिंग हो गई है। हलांकि व्यवस्था पर लगातार सुधार करने मे लगे नवागत पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव को ऐसे चुनौतियों को झेलना होगा। यहां कहना गलत नही होगा कि बिना पुलिस के मर्जी के एक पत्ता भी नही खडक सकता। चाहे वह अवैध नशीली वस्तुओं का कारोबार या कोई और। अपराध और अपराधियों को बढावा पुलिस ही देती है। ताजा मामला कोतवाली थाना क्षेत्र के जिगना चैराहे के निकट की है। जहां वर्षांे से एक महिला गांजा बेचने का कार्य खुलेआम कर रही है और स्थानीय पुलिस को पता ही नही है। गांजा बेचने वाली यह महिला स्थानीय पुलिस को 10 हजार रूपये का नजराना भी चढाती है।
कबीर बस्ती न्यूज के स्टििंग आपरेशन मे कई चैंकाने वाले तथ्य सामने आये। महिला के लडके विनोद ने बताया कि कोतवाली पुलिस के सेटिंग से उसकी मां गांजा का कारोबार वर्षों से करती आ रही है। अब तक वह महिला गांजा बेचने के मामले मे तीन बार जेल भी जा चुकी है। फिर भी मुकामी पुलिस को जानकारी नही है। जब रक्षक ही भक्षक का रोल अदा करने लगें तब अपराध और अपराधियों पर लगाम कौन लगाएगा। जिले मे गांजा, चरस, अफीम, कोकीन तथा अन्य नशीली वस्तुओं का संजाल बिछा हुआ है। लेकिन सेटिंग के बल पर यह काला कारोबार बेरोकटोक चल रहा है।
खुलेआम ग्राहक आते हैं और 50 रूपये पुडिया गांजा खरीद कर ले जाते है। यहां ऐसा कोई माहौल नही है कि वह महिला कोई गैर कानूनी कार्य कर रही है। वह विन्दास होकर गांजे की पुडिया बेचने मे मशगूल रहती है। देखने पर ऐसा लगता है कि उसे प्रदेश सरकार से कोई विशेष लाईसेन्स मिला हो।
इस सम्बन्ध मे पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि प्रकरण आपके द्वारा संज्ञान मे लाई गयी है शीघ्र ऐसे गैर कानूनी कार्य करने वालों के विरूद्व कडी कार्यवाही की जायेगी। उन्होेने कहा कि ऐसे कार्यों मे लिप्त पुलिस कर्मियों को भी नही बख्शा जायेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.