Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
94.6 प्रतिशत अंक अर्जित पर ऐश्वर्या माथुर ने बढाया जनपद का मान शिक्षकों ने खण्ड शिक्षा अधिकारी इन्द्रजीत को दिया भावभीनी विदाई हस्तशिल्प विकास योजना की दिया जानकारी, हस्तशिल्पियों से बनाया संवाद सपा की बैठक में बूथ स्तर पर मजबूती का निर्णय कांग्रेस ने मनाया दलित सम्मान दिवस, निकाली पद यात्रा लगाया कोविड का टीका,गांव-गांव पहुंची टीम इंडियन पब्लिक स्कूल के सभी छात्र उत्तीर्ण, 33 प्रतिशत बच्चों को मिला 90 प्रतिशत अंक जिले में 2582 दिव्यांगों को वितरण किया जायेगा उपकरण 5 अगस्त को जिले के समस्त कोटे की दुकानों पर होगा अन्न महोत्सव का आयोजन लीजेंड दादा साहेब फालके अवार्ड से सम्मानित की गई मशहूर हस्तियां

भाजपा विधायक संजय ने मेडिकल कालेज प्राचार्य पर लगाया मनमानी का आरोप, जांच की मांग

  • जिला अस्पताल में नहीं हो रहा समुचित इलाज, नर्सिंग होमों में सेवा दे रहे हैं सरकारी चिकित्सक
  • मुख्यमंत्री को फिर पत्र भेजकर किया दोषियों के विरूद्ध कार्रवाई की मांग
  • बीडीसी, जिला पंचायत सदस्यों से प्रमाण-पत्र लेने वालों के विरूद्ध हो कार्रवाई

बस्ती । रूधौली विधायक संजय प्रताप जायसवाल द्वारा कोरोना संकट काल में मरीजों और उनकेे तीमारदारों को सुविधा उपलब्ध कराने हेतु मुख्यमंत्री को पत्र भेज कर समस्याओं को निस्तारित कराये जाने का क्रम लगातार जारी है। उन्होने पुनः मुख्यमंत्री को तीसरा पत्र भेजकर जिला चिकित्सालय बस्ती में कोविड-19 गाइड लाइन का अनुपालन न किये जाने पर कार्यवाही और महर्षि वशिष्ठ मेडिकल कालेज प्राचार्य द्वारा किये गये अनियमितता का उच्च स्तरीय टीम गठित कर जांच कराये जाने का आग्रह किया है। इसी कड़ी में विधायक संजय ने पुलिस अधीक्षक को पत्र देकर ब्लाक प्रमुख एवं जिला पंचायत अध्यक्ष पद के दावेदारों द्वारा भ्रष्टाचार एवं प्रलोभन देकर बीडीसी एवं जिला पंचायत सदस्यों का प्रमाण-पत्र ले लिये जाने के सम्बन्ध में दोषियों के विरूद्ध कार्यवाही सुनिश्चित किये जाने की मांग किया है।
विधायक संजय प्रताप ने मुख्यमंत्री को भेजे पत्र में कहा है कि जिला चिकित्सालय बस्ती में कोविड-19 गाइड लाइन का अनुपालन नहीं किया जा रहा है । महामारी को देखते हुये ओपीडी बंद किये जाने का निर्देश जारी किया गया था जिससे आपातकालीन स्थिति में भर्ती किये गये मरीजों को डाक्टरों द्वारा बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराया जा सके किन्तु जिला अस्पताल के इमरजेन्सी के एक शिफ्ट में केवल एक ईएमओ एवं दो फार्मासिस्टों द्वारा कार्य किये जाने के कारण मरीजों को समुचित स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध नहीं हो पा रही है। ओपीडी के कुछ अन्य डाक्टर अस्पताल में सेवा देने की जगह अपने घर पर, निजी नर्सिंग होम, प्राइवेट अस्पतालों में 500 से 800 रूपये तक की फीस लेकर मरीज देख रहे हैं और जिला अस्पताल में उपेक्षा के कारण मरीज दम तोड़ने को मजबूर हैं। उन्होने मुख्यमंत्री से मांग किया है कि जिला अस्पताल मंें इमरजेन्सी सेवा की चिकित्सा बेहतर बनाने के साथ ही डाक्टर, आक्सीजन, जीवन रक्षक दवायें उपलब्ध करायी जाय।
मुख्यमंत्री को भेजे दूसरे पत्र मेंरूधौली के भाजपा विधायक संजय प्रताप जायसवाल ने कहा है कि महर्षि वशिष्ठ मेडिकल कालेज प्राचार्य द्वारा लगातार मनमानी की जा रही है। उनके मनमाने कार्यशैली से मरीज, तीमारदार परेशान है और कोरोना से मौतों का दुःखद सिलसिला जारी है। जन प्रतिनिधियों के प्रति भी उनकी भाषा ठीक नही है। विधायक संजय ने मांग किया है कि महर्षि वशिष्ठ मेडिकल कालेज प्राचार्य द्वारा किये गये अनियमितता का उच्च स्तरीय टीम गठित कर जांच कराया जाय।
पुलिस अधीक्षक को भेजे पत्र में विधायक संजय प्रताप ने कहा है कि ब्लाक प्रमुख एवं जिला पंचायत अध्यक्ष पद के भावी दावेदारों द्वारा भ्रष्टाचार एवं प्रलोभन देकर बीडीसी एवं जिला पंचायत सदस्यों का प्रमाण-पत्र ले लिये जाने के मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे में जिला पंचायत, बीडीसी के नव निर्वाचित सदस्यों की बैठक बुलाकर उन्हें जागरूक किया जाय और शिकायत मिलने पर दोषियों के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही हो।

Leave A Reply

Your email address will not be published.