Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
जयंती पर याद किये गये किशोर कुमार, कलाकारों ने गीतों से बांधा समा छह अस्पतालों को मिली कायाकल्प अवार्ड की सौगात जनेश्वर मिश्र के जन्म दिन पर समाजवादियों ने निकाली साईकिल यात्रा दुर्भावना से ग्रस्त होकर भाजपा ने रोकी थी केजरीवाल सरकार की डोर डिलिवरी योजना 7 अगस्त को वितरित किया जायेगा दिव्यांगजनों को सहायता उपकरण जिले के 01 लाख 33 हजार व्यक्तियों को मिला अन्न योजना का लाभ कांग्रेस पिछड़ा वर्ग ने पद यात्रा निकालकर राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन पंचायत अध्यक्ष संजय ने पात्रों में किया अनाज का वितरण साईकिल यात्रा निकालकर समाजवादियों ने भाजपा सरकार पर साधा निशाना अन्न महोत्सव मंें विधायक संजय ने गिनाई उपलब्धियां

बेटे की कोरोना से मौत, सदमे में मां ने भी दम तोड़ा

बस्ती। कुदरहा क्षेत्र के ग्राम परसांव में बृहस्पतिवार की सुबह पत्रकार अखिलेश का करोना संक्रमण से मौत की खबर आई तो पूरे गांव में कोहराम मच गया। बेटे की मौत का सदमा माता पार्वती बर्दाश्त नहीं कर सकीं और शुक्रवार को उन्होंने भी दम तोड़ दिया। गांव में मां-बेटे की मौत ने ग्रामीणों को झकझोर कर रख दिया है। शुक्रवार को मां का भी अंतिम संस्कार कर दिया गया।
परसांव गांव निवासी अखिलेश कृष्ण मोहन लखनऊ में एक पत्रिका में बतौर पत्रकार काम करते थे। अखिलेश लखनऊ में ही परिवार के साथ रहते थे। परिजनों के मुताबिक, 17 अप्रैल को अचानक अखिलेश को तेज बुखार हुआ। उन्होंने तत्काल कोरोना की जांच कराई तो रिपोर्ट पॉजिटिव आई। उसके बाद वह एक निजी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती हो गए।
इसके बावजूद जब उनकी हालत बिगड़ने लगी तो राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त सेवा निवृत्त शिक्षक पिता राम गुलाम के आग्रह पर अखिलेश को पीजीआई में शिफ्ट कर दिया गया। वहां भी इलाज शुरू हुआ। परिवार को अस्पताल प्रशासन दिलासा देता रहा, मगर 13 मई को अखिलेश ने अंतिम सांस ली। भोर में हुई मौत के बाद कोरोना प्रोटोकाल के तहत शव परिवार के लोग सीधे लेकर टांडा स्थित सरयू तट पर पहुंचे, जहां अंतिम संस्कार किया गया। बेटे के खोने की खबर जैसे ही मां पार्वती तक पहुंची, वह पछाड़ खाकर गिर गईं। बेहोश जानकर ग्रामीण और परिवार के लोग उन्हें लेकर सीएचसी बनहरा पहुंचे, जहां चिकित्सकों ने पार्वती को मृत घोषित कर दिया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.