Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
फ्रंटलाइन वर्कर तथा वरिष्ठ नागरिकों से कोविड-19 की प्रिकॉशन डोज लगवाने की अपील रोटरी मण्डल 3120 के सहायक मण्डलाध्यक्ष बने आशीष श्रीवास्तव वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से दी गई स्वीप, शिकायत, मीडिया मानीटरिंग, एनवीडी के संबंध में विस्तार ... 23 जनवरी को दो पालियों में करायी जायेंगी टेट की परीक्षा सांस से सम्बन्धित कोविड मरीजों के लिए लाभकारी है चेस्ट फिजियोथैरेपी एक दिन में कोरोना संक्रमण के 17,776 नये मामले आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर यूपी मे अब तक 167 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज घर से नाराज़ होकर मुंबई पहुंच गई बालिका को सीडब्लयूसी ने उसके पिता को सौंपा विधान सभा चुनाव को लेकर बैठक मे सौंपी गई जिम्मेदारियां गृह भ्रमण कर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता देंगी पांच सेवाएं

कोविड-19 की डियूट्ी कर रही आशा बहू के साथ छेडखानी, पुलिस ने दिया आरोपियों को अभयदान

– पीडिता के तहरीर पर कार्यवाही के बजाय पुलिस पीडिता के ही तीन परिजनों के विरूद्व किया शान्तिभंग की कार्यवाही
– घटना इटवा थाने के सेमरा गांव का, पुलिस ने आरोपियों का थाने से छोडा

बस्ती। मण्डल के सिद्वार्थनगर जनपद के इटवा थाने की पुलिस मानव से भगवान बन गई है। जो थाने मे ही बैठ कर सुदूर गांवों मे घटित होने वाली घटनाओं को सेकेन्डों मे देख लेती है। इटवा थाने के सेमरा गांव निवासी एक आशा बहू से छेडखानी के मामले मे इटवा पुलिस ने यही किया। पुलिस ने पीडित महिला को उसकी तहरीर लेकर कार्यवाही करने के बजाय मामले को झूठा बताते हुए पीडित महिला के परिवार को उल्टा 151 मे चालान कर छेडखानी व मारपीट के आरोपी गांव निवासी रामकुमार को अभयदान दे दिया। अंधेर नगरी चैपट राजा का कथन यहां सटीक बैठ रहा है। जबकि प्रदेश की योगी सरकार ने कडे निर्देश जारी किये हैं कि महिला अपराध से सम्बन्धित मामलों को गंभीरता से लेते हुए कार्यवाही किया जाये। लेकिन पुलिस आपने कारनामों से ही बाज नही आ रही है। मामला इटवा थाने के सेमरा गांव का है जहां कोविड-19 की डियूटी कर रही आशा सीमा देवी के साथ छेडखानी तथा मारपीट की घटना हुई। पीडिता ने थाने पर तहरीर दिया जिसे एसएसआई प्रदीप सिंह ने मामले को फर्जी बताते हुए थाने से भगा दिया गया।
मिली जानकारी के अनुसार इटवा थाने के सेमरा गांव निवासी आशा बहू सीमा देवी अपनी सहयोगी आशा बहू सुनीता देवी के साथ रविवार को प्रातः करीब 10 बजे कोविड-19 की डियूटी कर रही थी। कि उसी समय सेमरा गांव के ही रहने वाले रामकुमार ने सीमा के साथ छेडखानी करने लगा। जब पीडिता ने इसका विरोध किया तो मनबढ आरोपी महिला के साथ मारपीट करने लगा। महिला को मारने पीटने मे आरोपी रामकुमार के दोनों भाई राजकुमार व संजय भी शामिल बताए जा रहे है। पीडिता आरोपियों जान बचाने के लिए किसी घर मे घुसकर दरवाजा बन्द कर लिया। घटना की सूचना पीडिता सीमा ने 112 नम्बर पर दिया। लेकिन मौके पर पहुंची पुलिस ने कोई कार्यवाही नही किया।
पीडिता सीमा अपने परिजनों के साथ इटवा थाने पर गई और तहरीर देकर आरोपियों के विरूद्व कार्यवाही की गुहार लगाई। लेकिन पुलिस ने पीडिता का आरोप फर्जी बताते हुए उसे थाने से ही भगा दिया। पुलिस ने पीडिता के घर के तीन लोगों को 151 मे चालान कर नामजद आरोपियों को अभयदान दे दिया। पीडिता ने कबीर बस्ती न्यूज को बताया कि थाने मे दरोगा जी ने हमें धमकाते हुए कई सादे पन्ने पर हस्ताक्षर भी करा लिए है।
प्रकरण के सम्बन्ध मे आईजी अनिल कुमार राय से पक्ष लिया गया तो उन्होेने बताया कि यह प्रकरण अभी हमारे मे नही आया है। आपने बताया है मामले मे पीडित महिला के तहरीर पर निश्चित रूप से उचित कार्यवाही की जायेगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.