Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
यूपी की भाजपा सरकार को तिरंगा यात्रा भी लगता है अवैध- संजय सिंह जागरूकता का परिचय दें अन्त्योदय कार्ड धारक, बनवाएं आयुष्मान कार्ड 30 अक्टूबर तक जिले के सभी बैंक शाखाओं पर आयोजित किया जायेंगा कैम्प सपा की मासिक बैठक में बनी रणनीति इस बार दीपवाली में 11 फिट के दिये के साथ जगमगाएगा अमहट घाट श्रमिको के लिए कल्याणकारी योजनाओं को संचालित कर रही है प्रदेश सरकार-सुनील कुमार भराला टीकाकरण कर्मियों की लगन का फल है सफल टीकाकरण एक माह में नौ हजार अंत्योदय लाभार्थियों ने किया आवेदन श्री रामलीला महोत्सव में गुरुवार को राम बारात एवं राम विवाह का किया गया मंचन 100 करोड़ कोविड टीकाकरण में जिले ने दिया 8.55 लाख का योगदान

विश्व धूम्रपान निषेध दिवस पर वर्चुअल सेमिनार का हुआ आयोजन

बस्ती। कोरोना कॉल मे जो लोग नशा को छोड़ देंगे उन्हें जीवन में कभी कोई बीमारी हो ही नहीं सकता है उक्त विचार दीदी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा आयोजित एक वर्चुअल सेमिनार को संबोधित करते हुए समाज के विषय विशेषज्ञों ने व्यक्त किया उन्होंने कहा कि कोरोना ऐसी घातक बीमारी मे जो लोग धूम्रपान करते थे उन्हें ज्यादा तकलीफ हुआ और उन लोगों को ही कोरोना ने ज्यादा अपनी चपेट में लिया मृतकों की संख्या देखी जाए तो 20 परसेंट से अधिक इन्ही लोगों की है
वेबीनार के माध्यम से सेमिनार को संबोधित करते हुए हेमंत सिंह एवं विजय नारायण तिवारी ने कहा कि समाज के प्रबुद्ध जनों को मिलकर के इस व्यापक बुराई को समाज से दूर भगाना होगा समय रहते यदि हम लोगों ने नहीं चेता तो वह दिन दूर नहीं जब धूम्रपान करने वालों की संख्या बद से बदतर हो जाएगी हर व्यक्ति का समाज के प्रति कुछ ना कुछ जिम्मेदारियां है उसी जिम्मेदारियों के तहत धूम्रपान के प्रति जागरूकता लाते हुए इस आदत से उन्हें मुक्त कराना होगा
वर्चुअल वेबीनार के माध्यम से समाज को आईना दिखाते हुए प्रख्यात समाजसेवी सुधीर सिंह एवं गौरी शंकर त्रिपाठी ने कहा कि नशा अपना ही नास नहीं करता है परिवार रिश्तेदार एवं अपने जानने वालों तक को बर्बाद कर देता है यदि हम आज ही से जागरूक हो जाएं तो हमें इस लत से छुटकारा मिल सकता है।
वर्चुअल सेमिनार को संबोधित करते हुए छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष दीदी चैरिटेबल ट्रस्ट के संस्थापक डॉ मनोज सिंह ने कहा कि हमारे जानकारी में सरकारों को चाहिए धूम पान से संबंधित या नशा से संबंधित सभी उत्पादो को बंद कर देना चाहिए जो वस्तु समाज में जीवन के साथ नुकसानदायक है उसका उत्पादन तत्काल बंद होना चाहिए लेकिन किसी कारणवश यदि सरकार उत्पादन बंद नहीं कर रहा है तो जो चीज हमें नुकसान कर रहा है उसको हमें स्वयं ही बंद कर देना चाहिए।
वर्चुअल सेमिनार में दुर्गेश प्रताप सिंह, रमेश चंद्र, संतोष सिंह, गणेश त्रिपाठी, उमेश गोस्वामी, करुणानिधान, अजय श्रीवास्तव सहित दर्जनों लोगों ने संबोधित किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.