Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
जयंती पर याद किये गये किशोर कुमार, कलाकारों ने गीतों से बांधा समा छह अस्पतालों को मिली कायाकल्प अवार्ड की सौगात जनेश्वर मिश्र के जन्म दिन पर समाजवादियों ने निकाली साईकिल यात्रा दुर्भावना से ग्रस्त होकर भाजपा ने रोकी थी केजरीवाल सरकार की डोर डिलिवरी योजना 7 अगस्त को वितरित किया जायेगा दिव्यांगजनों को सहायता उपकरण जिले के 01 लाख 33 हजार व्यक्तियों को मिला अन्न योजना का लाभ कांग्रेस पिछड़ा वर्ग ने पद यात्रा निकालकर राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन पंचायत अध्यक्ष संजय ने पात्रों में किया अनाज का वितरण साईकिल यात्रा निकालकर समाजवादियों ने भाजपा सरकार पर साधा निशाना अन्न महोत्सव मंें विधायक संजय ने गिनाई उपलब्धियां

धान की नर्सरी डालने के पूर्व बीज शोधन एवं भूमि शोधन जरूरी

स्ंावाददाता,बस्ती। उप कृषि निदेशक (कृषि रक्षा) ने जनपद के किसान भाईयों से अपील किया है कि खरीफ में धान की नर्सरी डालने के पूर्व बीज शोधन/भूमि शोधन अवश्य करें। उन्होने बताया है कि भूमि शोधन की प्रक्रिया में भू-जनित कीट/रोगो के नियंत्रण हेतु ट्राईकोडरमा/ब्यूबैरिया वैंसियाना बायोपेस्टीसाइडस् की 2.5 से 3 किलोग्राम मात्रा अथवा क्लोरपायरीफास 20 प्रति ई0सी0 2.5 से 3 लीटर मात्रा प्रति हेक्टेयर की दर से प्रयोग करें।
उन्होने बताया कि बीज शोधन के लिए ट्राईकोडरमा की 100 ग्राम मात्रा 25 किलोग्राम बीज की मात्रा की दर से प्रयोग किया जा सकता है। जीवाणु झुलसा/जीवाणुधारी रोग/फाल्स स्मट रोग के नियंत्रण हेतु 25 किलोग्राम बीज के लिए 04 ग्राम स्टेªप्टोसाइक्लीन या 40 ग्राम प्लान्टोमाइसीन या 75 ग्राम थीरम या 50 ग्राम कार्बेडाजिम 50 प्रति डब्लू0पी0 को 8-10 लीटर पानी में रात भर भिगोकर दूसरे दिन छाया में सुखाकर नर्सरी डालें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.