Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
आपदा प्रबंधन क्षमता एवं सम्बवर्धन के तहत प्राथमिक चिकित्सा पर एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित जो लोग फ्री में ‘बिजली’ देने की बात करते हैं, उन्होंने उत्तर प्रदेश को ‘अंधेरे’ में रखा: सीएम योगी तीन जिलों के डीएम व दो जिलों के एसपी हटा कर की गयी नई तैनाती रोड शो, पद-यात्रा, रैली तथा जुलूस 31 जनवरी तक रहेंगे प्रतिबन्धित अमेरिका के वैज्ञानिक जर्नल में प्रकाशित हुआ बस्ती के हर्षित का शोध पत्र यूपी चुनाव: ब्राह्मणों को साधने में जुटी BJP में अखिलेश ने लगाई सेंध, सपा का MYB फॉर्मूला बढ़ाएगा यो... परम्परागत एवं सादगीपूर्ण ढंग से मनाया जायेगा 73वां गणतंत्र दिवस पुण्यतिथि पर याद किये गये प्रखर समाजवादी जनेश्वर मिश्र भाजपा ने देश को बेरोजगारी दिया, कांग्रेस का भर्ती विधान घोषणा पत्र युवाओं का भविष्य संवारेगा- अंकुर ... वरिष्ठ पत्रकार रामसेवक पाण्डेय के निधन पर पत्रकारों ने जताया शोक

शिव सेना ने किया सरकारी अस्पतालों मंे ओपीडी सेवा शुरू करने की मांग

मंहगाई नियंत्रण, रोजगार के लिये मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन

स्ंावाददाता,बस्ती। शिव सेना जिला प्रमुख प्रमोद पाण्डेय के नेतृत्च में बुधवार को शिव सेना एवं भवानी सेना के पदाधिकारियों ने जिलाधिकारी के प्रशासनिक अधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को 3 सूत्रीय ज्ञापन देकर सरकारी अस्पतालों में ओ.पी.डी. सेवा बहाल किये जाने, मंहगाई पर नियंत्रण और कोरोना काल में बेरोजगार हुये लोगों को रोजगार से जोड़ने की मांग किया।
मुख्यमंत्री को भेजे ज्ञापन में कहा गया है कि कोरोना काल में स्वास्थ्य सेवायें बुरी तरह से लड़खड़ा गई है और इसका फायदा उठाकर निजी अस्पताल एवं कुछ डाक्टर मनमाना फीस एवं जांच के नाम पर उगाही कर रहे हैं। शिवसेना ने मांग किया है कि निजी अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवा एवं पैथालोजी जांच की दर निर्धारित करने के साथ ही सरकारी अस्पतालों में ओ.पी.डी. सेवा बहाल किया जाय क्योेंकि गरीब मरीजों और उनके परिजनों को काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है।
ज्ञापन सौंपते हुये शिव सेना जिला प्रमुख प्रमोद पाण्डेय ने बताया कि कोरोना संकट काल में जहां बेरोजगारी बढी है वहीं मंहगाई चरम पर है। डीजल, पेट्रोल मूल्य वृद्धि के साथ ही सरसो तेल, दाल आदि की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि से लोग परेशान है। मांग किया है कि मंहगाई पर अंकुश लगाने के साथ ही रोजगार के अवसर पैदा किये जांय।
मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपने वालों में मुख्य रूप से दीन दयाल तिवारी, शुभम शर्मा, सर्वजीत मिश्र, सिद्धार्थ शुक्ल, चन्द्रावती, राम प्रकाश गौतम, संदीप जायसवाल, सुनील मिश्र, कलावती, मीरा, सुनीता, अनीता, अर्चना, कुशलावती आदि शामिल रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.