Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
समाजवादी पार्टी सांस्कृतिक प्रकोष्ठ पदाधिकारियों की घोषणा रोटरी ने ग्राम प्रधान को भेंट किया कोरोना से बचाव का संसाधान राज्य स्तरीय फार्म एन फ़ूड अवार्ड से नवाजे गए किसान संघर्ष और साधना की मिसाल है सप्रे जी का जीवन : हृदय नारायण दीक्षित फोकस्ड सैम्पलिंग में नहीं मिला एक भी कोरोना मरीज डीएम, एसपी ने किया जिला कारागार का किया गया आकस्मिक निरीक्षण यशकान्त सिंह अध्यक्ष, अनिल दूबे प्रमुख संघ के महामंत्री बन कोविड-19 से संबंधित आवश्यक मेडिकल सामग्री तैयार करने का उधम शुरू करें उधमी: डीएम कोविड-19 गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए मनाया जाएगा स्वतंत्रता दिवस प्राकृतिक तरीको से घटाए यूरिक एसिड का लेवल- डा.वी.के.वर्मा

मुख्यमंत्री जी वित्तविहीन शिक्षकों को वेतन देकर सम्मान से जीने का अधिकार दीजियेः संजय द्विवेदी

-माध्यमिक शिक्षक संघ बस्ती मण्डल की वर्चुअल बैठक संपन्न
-शुल्क की रिकवरी न होने से वित्त विहीन शिक्षकों को वेतन नही दे पाए स्कूल संचालक
-वित्तविहीन शिक्षकों को आर्थिक राहत देने की मांग को लेकर लिखा मुख्यमंत्री को पत्र

संवाददाता,बस्ती। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ बस्ती मण्डल की मण्डलीय वर्चुअल बैठक सम्पन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता मण्डलीय अध्यक्ष राम पूजन सिंह व संचालन जिला संयोजक महेश राम ने किया । मण्डलीय मंत्री संजय द्विवेदी ने कहा कि लाकडाउन व हाई स्कूल, इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा निरस्त होने से वित्तविहीन विद्यालयों के संचालक शुल्क की रिकवरी नहीं कर पाए हैं, जिसके कारण अधिकांश स्कूल संचालक अपने विद्यालयों में कार्यरत वित्तविहीन शिक्षकों को वेतन नहीं दे पाए हैं। वेतन ना पाने के कारण वित्तविहीन विद्यालयों के शिक्षक भुखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं। मुख्यमंत्री जी वित्तविहीन शिक्षकों का दर्द समझिये और उनको भी वेतन देकर सम्मान से जीने का अधिकार दीजिए।
श्री द्विवेदी ने कहा की संगठन निरन्तर मांग कर रहा है कि सरकार माध्यमिक शिक्षा परिषद् के मान्यता की धारा 7क (क) को संसोधित कर 7(4) में परिवर्तित करे, और वित्तविहीन विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों की सेवा नियमावली निर्मित कर पांच अंकों में सम्मानजनक मानदेय बैंक के माध्यम से दे, किन्तु सरकार निरन्तर वादाखिलाफी कर रही है। कोरोना महामारी व लाकडाउन के कारण वित्तविहीन शिक्षकों की हालत अत्यंत चिंताजनक हो गयी है। शिक्षक नौकरी खोने के डर से वेतन ना पाने के वावजूद विरोध में आवाज नहीं उठा पा रहे हैं।
श्री द्विवेदी ने कहा कि कोरोना महामारी के संकट में सरकार मजदूर, किसान, वकील, व्यापारी सहित सभी वर्ग का ख्याल रख रही है, किन्तु प्रदेश के 25 हजार विद्यालयों में कार्यरत 4 लाख वित्तविहीन शिक्षकों के दीन-हीन दशा पर ध्यान नहीं दे रही है, जो आर्थिक विपन्नता के शिकार होकर मानसिक संत्रास से गुजर रहे हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री से अपील की है कि शिक्षकों को तत्काल सरकार की तरफ से आर्थिक राहत प्रदान किया जाय, जिससे उनको किसी के सामने हाथ फैलाने की नौबत ना आए।
वर्चुअल बैठक में प्रांतीय उपाध्यक्ष मार्कंडेय सिंह, मोहिबुल्लाह खान, गिरिजानंद यादव, युनुश अख्तर, अदनान अहमद, विनय दुबे, शैलेंद्र कुमार, रणविजय, राकेश कुमार, अनिल चैधरी, विजय यादव, जय प्रकाश गौतम, गिरिजेश कुमार, विंध्याचल सिंह, राम नारायण पांडेय, रविन्द्र चैरसिया, मुकेश यादव,मनीराम वर्मा, मोहम्मद आफताब आलम, अनिल चैधरी, मुहम्मद अदनान, मंतोष कुमार मौर्या, सलाहुद्दीन, इन्द्र प्रताप सिंह, जय गोपाल, रणविजय सिंह, पारस नाथ यादव, अफजल खान, श्रीकांत गुप्ता, संजय चैबे, कमलेश यादव व नाहिद जमाल अंसारी सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.