Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
.......तो क्या... योगी राज मे गैंगरेप की शिकार अर्धविक्षिप्त युवती को मिल सकेगा न्याय ? नगर पुलिस व एन्टी व्हीकल थेफ्ट टीम की संयुक्त कार्यवाही में 3 क्विंटल 17.260 किलोग्राम गांजा के साथ ... फर्जी समूह बनाकर धोखा-धड़ी करके जमाकर्ताओं के धन हड़पने वाले 06 अभियुक्त गिरफ्तार एनटीपीसी ने सौंपा एसी एंबुलेंस एवं शव वाहन डा. वी.के. वर्मा ने स्वास्थ्य परीक्षण कर वृद्ध जनों में किया फल, मिष्ठान्न का वितरण अन्याय पर न्याय के विजय का पर्व है नवरात्रि - संजय चौधरी दो ऑक्सीजन गैस प्लांट का फीता काटकर किया गया उद्घाटन नहरों की सिल्ट सफाई का कार्य प्रारम्भ फ्री बिजली गारंटी पदयात्रा निकालेगी आपः सभाजीत सिंह त्योहारों को लेकर सम्पन्न हुई पीस कमेटी की बैठक, डीएम ने दिए निर्देश

मुख्यमंत्री जी वित्तविहीन शिक्षकों को वेतन देकर सम्मान से जीने का अधिकार दीजियेः संजय द्विवेदी

-माध्यमिक शिक्षक संघ बस्ती मण्डल की वर्चुअल बैठक संपन्न
-शुल्क की रिकवरी न होने से वित्त विहीन शिक्षकों को वेतन नही दे पाए स्कूल संचालक
-वित्तविहीन शिक्षकों को आर्थिक राहत देने की मांग को लेकर लिखा मुख्यमंत्री को पत्र

संवाददाता,बस्ती। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ बस्ती मण्डल की मण्डलीय वर्चुअल बैठक सम्पन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता मण्डलीय अध्यक्ष राम पूजन सिंह व संचालन जिला संयोजक महेश राम ने किया । मण्डलीय मंत्री संजय द्विवेदी ने कहा कि लाकडाउन व हाई स्कूल, इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा निरस्त होने से वित्तविहीन विद्यालयों के संचालक शुल्क की रिकवरी नहीं कर पाए हैं, जिसके कारण अधिकांश स्कूल संचालक अपने विद्यालयों में कार्यरत वित्तविहीन शिक्षकों को वेतन नहीं दे पाए हैं। वेतन ना पाने के कारण वित्तविहीन विद्यालयों के शिक्षक भुखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं। मुख्यमंत्री जी वित्तविहीन शिक्षकों का दर्द समझिये और उनको भी वेतन देकर सम्मान से जीने का अधिकार दीजिए।
श्री द्विवेदी ने कहा की संगठन निरन्तर मांग कर रहा है कि सरकार माध्यमिक शिक्षा परिषद् के मान्यता की धारा 7क (क) को संसोधित कर 7(4) में परिवर्तित करे, और वित्तविहीन विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों की सेवा नियमावली निर्मित कर पांच अंकों में सम्मानजनक मानदेय बैंक के माध्यम से दे, किन्तु सरकार निरन्तर वादाखिलाफी कर रही है। कोरोना महामारी व लाकडाउन के कारण वित्तविहीन शिक्षकों की हालत अत्यंत चिंताजनक हो गयी है। शिक्षक नौकरी खोने के डर से वेतन ना पाने के वावजूद विरोध में आवाज नहीं उठा पा रहे हैं।
श्री द्विवेदी ने कहा कि कोरोना महामारी के संकट में सरकार मजदूर, किसान, वकील, व्यापारी सहित सभी वर्ग का ख्याल रख रही है, किन्तु प्रदेश के 25 हजार विद्यालयों में कार्यरत 4 लाख वित्तविहीन शिक्षकों के दीन-हीन दशा पर ध्यान नहीं दे रही है, जो आर्थिक विपन्नता के शिकार होकर मानसिक संत्रास से गुजर रहे हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री से अपील की है कि शिक्षकों को तत्काल सरकार की तरफ से आर्थिक राहत प्रदान किया जाय, जिससे उनको किसी के सामने हाथ फैलाने की नौबत ना आए।
वर्चुअल बैठक में प्रांतीय उपाध्यक्ष मार्कंडेय सिंह, मोहिबुल्लाह खान, गिरिजानंद यादव, युनुश अख्तर, अदनान अहमद, विनय दुबे, शैलेंद्र कुमार, रणविजय, राकेश कुमार, अनिल चैधरी, विजय यादव, जय प्रकाश गौतम, गिरिजेश कुमार, विंध्याचल सिंह, राम नारायण पांडेय, रविन्द्र चैरसिया, मुकेश यादव,मनीराम वर्मा, मोहम्मद आफताब आलम, अनिल चैधरी, मुहम्मद अदनान, मंतोष कुमार मौर्या, सलाहुद्दीन, इन्द्र प्रताप सिंह, जय गोपाल, रणविजय सिंह, पारस नाथ यादव, अफजल खान, श्रीकांत गुप्ता, संजय चैबे, कमलेश यादव व नाहिद जमाल अंसारी सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.