Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
‘महीने में आठ बार आयरन और छह महीने पर विटामिन ए सीरप का सेवन आवश्यक’’ बच्चों को विटामिन ए पिलाकर बाल स्वास्थ्य पोषण माह का शुभारंभ पेगासस साफ्टवेयर का इस्तेमाल भारतीय संस्थाओं और पत्रकारों पर करना देशद्रोह-महेन्द्र श्रीवासतव लक्ष्मण पाण्डेय हत्याकाण्ड के दोषियों को गिरफ्तार करने की मांग, बबिता शुक्ल ने सौंपा ज्ञापन डॉ. अजीत प्रताप शिक्षक प्रकोष्ठ, गिरीश पाण्डेय को भाजपा पंचायत प्रकोष्ठ संयोजक बनाये जाने पर प्रसन्न... पार्टी के समर्पित कार्यकर्ताओं को विभिन्न पदों की सौंपी गयी जिम्मेदारी सीडब्ल्यूसी अध्यक्ष पद का प्रेरक मिश्रा ने संभाला कार्यभार ब्लाक प्रमुखों को प्रशासनिक एंव वित्तीय अधिकार दिलाने के लिए किया जायेंगा प्रयासः राजेन्द्र प्रताप स... प्रभारी मंत्री ने कप्तानगंज ब्लाक में निरीक्षण कर जाना योजनाओं का हाल 25,000 के इनामिया वांछित अभियुक्त पुलिस मुठभेड़ में गिरफ्तारः-

04 करोड़ रूपये से बनने वाले किसान प्रशिक्षण केन्द्र बंजरिया का डीएम ने किया निरीक्षण

खाद्य प्रसंस्करण केन्द्र की अव्यवस्था पर नाराज दिखी जिलाधिकारी

संवाददाता,बस्ती। जिलाधिकारी श्रीमती सौम्या अग्रवाल ने भारत, इजराइल फल उत्कृष्टता केन्द्र, बंजरिया का निरीक्षण कर इससे जिले के किसानों को जोड़कर फल एंव सब्जी उत्पादन वृद्धि के लिए कार्य करने का निर्देश दिया है। उन्होने 04 करोड़ रूपये से बनने वाले किसान प्रशिक्षण केन्द्र, प्रशासनिक भवन, हास्टल एवं गारमेट्री का निर्माण शुरू कराने के लिए कार्यदायी संस्था को रिमाइण्डर भेजने का निर्देश दिया। इस केन्द्र पर उन्होने अतिविकसित इजराइल तकनीक से लगाये गये आम, अमरूद, बेल, नीबू, लीची के बाग का निरीक्षण किया।
उन्होने कहा कि समय-समय पर किसानों को इस केन्द्र का भ्रमण कराया जाय। जिलाधिकारी ने 1152 वर्गमीटर में उच्च तकनीक मिट्टीबिहीन सब्जी/फल पौधशाला का निरीक्षण किया। इसकी क्षमता 10 लाख पौध प्रतिवर्ष उत्पादन की है। जिलाधिकारी ने केन्द्र पर स्थापित आटोमैटिक कम्प्यूटराइज सिंचाई कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया। संयुक्त निदेशक ने बताया कि इस कंट्रोल रूम से जमीन में तथा ड्रिप सिचाई से नियंत्रित किया जाता है। 50 एकड़ क्षेत्र में फैले इस केन्द्र के प्रत्येक हिस्से में अलग-अलग सिंचाई किया जा सकता है। इसमें एक एप स्थापित है। यहाॅ से आम के पौधे ले जाकर गोण्डा, बलरामपुर, बाराबंकी बागीचा लगाते है। पूरे साल फलों के पौधो की डिमाण्ड बनी रहती है। उन्होने बताया कि बंजरिया तथा बस्ती के उद्यान से प्रतिवर्ष लगभग 60 लाख रूपये राज्य सरकार को राजस्व प्राप्त होता है।
उन्होने मुख्यालय पर स्थित औद्यानिक प्रशिक्षण केन्द्र का निरीक्षण किया। यहाॅ पर उन्होने 45 साल पुराने आम के पेड़ो को हटवाकर नये बेरायटी के पौधे लगवाने का निर्देश दिया। यहाॅ उन्होने प्रयोगशाला, पौधशाला, ओपेन जिम का निरीक्षण किया। उन्होने मशरूम प्रयोगशाला का निरीक्षण किया। इसके प्रभारी विवके कुमार ने बताया कि 10 कुन्तल मशरूम का बीज पौदा करके किसानों को उपलब्ध कराया जाता है। निरीक्षण के दौरान जिला उद्यान अधिकारी राजेन्द्र यादव, वैज्ञानिक सुरेष सिंह, डाॅ0 आरबी सिंह, धीरेन्द्र पाण्डेय उपस्थित रहें।
उद्यान विभाग परिसर का निरीक्षण करते हुए जिलाधिकारी ने मण्डलीय खाद्य प्रसस्करण कार्यालय एवं केन्द्र का भी निरीक्षण किया। यहाॅ पर उपस्थित कर्मचारियों ने बताया कि खाद्य प्रसंस्करण अधिकारी दुर्गेश श्रीवास्तव सिद्धार्थनगर गये है। जिलाधिकारी ने जब कार्यालय के साथ-साथ केन्द्र का निरीक्षण किया तो वहाॅ पर सिलेण्डरयुक्त गैस चुल्हाॅ, खाना बनाने की सामग्री तथा बर्तन आदि मेज पर सजे पाये गये। जिलाधिकारी के पूछने पर कोई भी कर्मचारी समुचित जबाव नही दे पाया। जिलाधिकारी ने इस स्थिति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए खाद्य प्रसंस्करण अधिकारी का स्पष्टीकरण तलब करने तथा केन्द्र का तत्काल सफाई कराने का भी निर्देश दिया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.