Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
जयंती पर याद किये गये किशोर कुमार, कलाकारों ने गीतों से बांधा समा छह अस्पतालों को मिली कायाकल्प अवार्ड की सौगात जनेश्वर मिश्र के जन्म दिन पर समाजवादियों ने निकाली साईकिल यात्रा दुर्भावना से ग्रस्त होकर भाजपा ने रोकी थी केजरीवाल सरकार की डोर डिलिवरी योजना 7 अगस्त को वितरित किया जायेगा दिव्यांगजनों को सहायता उपकरण जिले के 01 लाख 33 हजार व्यक्तियों को मिला अन्न योजना का लाभ कांग्रेस पिछड़ा वर्ग ने पद यात्रा निकालकर राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन पंचायत अध्यक्ष संजय ने पात्रों में किया अनाज का वितरण साईकिल यात्रा निकालकर समाजवादियों ने भाजपा सरकार पर साधा निशाना अन्न महोत्सव मंें विधायक संजय ने गिनाई उपलब्धियां

जिम्मेदारों ने ही फंुकवा दी लाखों रूपये की इक्सपायर दवाऐं

– सिद्वार्थनगर जिले के बांसी ब्लाक स्थित बसन्तपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का मामला

– दवा जलाने की घटना के 10 दिन बाद भी हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं अफसर

– स्वास्थ्य विभाग मे मामले को दबाने के लिए लीपापोती का काम शुरू,

– 10 दिन तक रिर्पोट नही दे पाये डिप्टी सीएमओ, सीएमओ को जांच रिर्पोट का इन्तजार

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती। जीवन रक्षक दवाओं पर सरकार पानी की तरह करोडों रूपये बहा रही है। सरकार की मंशा है कि समाज के अन्तिम व्यक्ति तक इसका लाभ मिले। लेकिन सरकार की मंशा पर कालिख पोतकर स्वास्थ्य विभाग मे बैठे जिम्मेदार द्वारा करोडों के कमीशनखोरी मे नाना प्रकार की कलाकारी की जा रही है। करोडों के कीमत की दवाऐं मरीजों जरूरतमंदों तक नही पहुंच पायीं और इक्सपायर हो गयीं। जिसे साहब ने शासन के निर्देशों के विरूद्व नष्ट करा दिया। जिसका बीडियो फुटेज कबीर बस्ती न्यूज ने प्राप्त कर मामले की पडताल शुरू कर दिया। करोडों के कीमत की दवाओं को जलाने का मामला सिद्वार्थनगर जिले के बांसी ब्लाक के बसन्तपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का है। यह घटना 11 व 12 जून 2021 की बतायी जाती है। मुख्य चिकित्साधिकारी सिद्वार्थनगर डा0 संदीप चैधरी ने बताया कि प्रकरण संज्ञान मे है। प्रकरण के जांच हेतु डिप्टी सीएमओ को निर्देश दिया गया है। जांच रिर्पोट मिलते ही उचित कार्यवाही की जायेगी। जबकि एडी हेल्थ बस्ती मण्डल डा0 सी0पी0 कश्यप ने बताया कि मामला आपके द्वारा मेरे संज्ञान मे लाया गया है। सीएमओ सिद्वार्थनगर से जानकारी प्राप्त कर बताऐंगे।
एक तरफ जहां कोविड महामारी को लेकर शहर से लेकर सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों तक हर आम आवाम भारी परेशानियों से गुजरा है। वहीं विभिन्न प्रकार के रोगों से ग्रसित बूढे, बच्चे व महिलाएं सीएचसी/पीएचसी पर मिलने वाली दवाओं से वंचित रहे। स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदारों ने जरूरतमंद व गरीबों को भी आत्मनिर्भर बना डाला। यह हाल सिद्वार्थनगर जिले के बांसी ब्लाक के बसन्तपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द का है। जहां लाखों रूपये की दवा व सीरप का एक बडा इस्टाक इस्पायर होने के कारण जला दिया गया। यदि समय से यह दवाऐं मरीजों एंव जरूरतमंदों को मिल जाती तो शायद सरकार की मंशा पूरी होती और लोगों को इसका लाभ मिल जाता। जहां मामला लाखों के कमीशन से जुडा हो तो स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदार कुछ ऐसा ही रास्ता अपनाते हैं।
यहां विचारणीय प्रश्न यह है कि दवाओं को जलाने की घटना का वीडियो विजुवल 11 व 12 जून 2021 की है। प्रकरण सीएमओ के संज्ञान मे होने के बाद भी 10 दिन गुजर गये अभी साहब की जांच पूरी नही हो पायी। यह जांच कब तक पूरी होगी ? दोषियों का गर्दन कब कानून के शिकंजे मे होगा या मामले मे लीपापोती कर मामले को रफा दफा कर दिया जायेगा। यह तो वक्त ही बताएगा।
इस सम्बन्ध मे एमओआईसी बसन्तपुर डा0 राजीव रंजन ने पूछने पर बताया कि मेरे भी संज्ञान मे लाया गया था कि दवाऐं जलाई गयी है। जब हमने पूछताछ किया तो पता चला कि कूडा जलाया गया था। दवा जलाने की घटना यहां की नही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.