Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
गायत्री शक्तिपीठ में श्रद्धापूर्वक मनाया गया गुरु पूर्णिमा पर्व स्व. विष्णुदत्त ओझा के पुण्य तिथि पर रक्तदान, संगोष्ठी 25 को, तैयारियां पूरी जवाहर नवोदय विद्यालय मे प्रवेष हेतु 11 अगस्त को विभिन्न केन्द्रों पर होगी परीक्षा विधायक संजय ने किया राशन कोटेदारों को भुगतान दिलाने की मांग डीएम. एसपी ने सुनीं फरियादियों की समस्याएं, दिए निर्देश  छिनैती व चोरी करने वाले अन्तर्जनपदीय गिरोह के दो शातिर पुलिस मुठभेड़ में गिरफतार बस्ती में चल रहे भोजपुरी फिल्म सतरंगी बालम में नजर आयेंगी फेमस हिरोइन नीलू शंकर इनकम टैक्स की रेड के खिलाफ आप कार्यकर्ताओं ने सौंपा ज्ञापन विधि सम्मत ही करें कानून का उपयोग -सौम्या अग्रवाल अस्पताल जाएं तो विशेष सतर्कता अपनाएँ : - सीएमओ

चाईल्ड लाईन से कहां गायब हो गयी 14 वर्षीय साहिबा……के सवाल पर सन्नाटे मे सदस्या

प्रेस कांफ्रेस मे नही मिला जबाब, सदस्या को गुमराह करते रहे जिम्मेदार, सदस्या ने लिया मामलों का संज्ञान

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।

शासन की ओर से बाल कल्याण को लेकर चलाई जा रही योजनाओं का हकीकत जानने शुक्रवार को बस्ती पहुंची बाल अधिकार संरक्षण आयोग की सदस्या डॉ सुचिता चतुर्वेदी ने सर्किट हाउस में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि सरकार की ओर से चलाई गई बाल सेवा योजना के बेहतर क्रियांव्यन को लेकर समीक्षा किया गया है। उन्होने कहा कि आपसी समन्वय स्थापित करने का निर्देश दिया गया है। उन्होेने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा घोषित बाल सेवा योजना का लाभ पात्र बच्चों को दिलाना, कोरोना के कारण निराश्रित हुए बच्चों के भरण पोषण, शिक्षा एवं सुरक्षा का लाभ दिलाये जाने तथा। महिला एवं बाल विकास, बेसिक शिक्षा, श्रम, पुलिस, स्वास्थ्य, आपूर्ति विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि ऐसे निराश्रित बच्चों को विभागीय योजनाओं का भी लाभ दिलायें जाने का निर्देश दिया गया है।
एक पत्रकार द्वारा दो वर्ष पूर्व चाईल्ड लाईन से गायब हुई 14 वर्षीय साहिबा के बारे मे सवाल किया तो सदस्या ने जिला प्रोबेशन के जिम्मेदारों से सवाल का उत्तर देने को कहा। लेकिन साहिबा के बारे को कोई संतोषजनक जानकारी विभाग नही दे पाया। बाल अपचारी के मौत के सवाल पर सन्नाटा रहा। जिम्मेदार भी बंगले झाकने लगे, फिलहाल उन्होने प्रकरण को संज्ञान में ले लिया।
प्रदेश में बढ़ रहे बाल अपराध के सवाल पर उन्होंने कहा कि हमारी सरकार में बाल अपराध पर अंकुश लगा है। बाल संप्रेक्षण गृह में क्षमता से अधिक रह रहे बाल अपचारियों के सवाल पर उन्होंने कहा कि पचपेड़िया में बने आश्रय गृह का उन्होंने निरीक्षण किया है जहां 30 की अपेक्षा 80 बच्चे रह रहे हैं। बताया कि उन्होंने डीएम सौम्या अग्रवाल से वार्ता किया और स्थिति से अवगत कराते हुए आश्रय गृह में कुछ बाल अपचारियों को सिफ्ट किए जाने का सुझाव दिया। जिसपर सहमति बन गई। जल्द ही संप्रेक्षण गृह में रह रहे कुछ बाल अपचारियों को यहां सिफ्ट किया जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.