Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
बस्ती में चल रहे भोजपुरी फिल्म सतरंगी बालम में नजर आयेंगी फेमस हिरोइन नीलू शंकर इनकम टैक्स की रेड के खिलाफ आप कार्यकर्ताओं ने सौंपा ज्ञापन विधि सम्मत ही करें कानून का उपयोग -सौम्या अग्रवाल अस्पताल जाएं तो विशेष सतर्कता अपनाएँ : - सीएमओ जितने साल का होता हूं उतने पौधे पृथ्वी को भेंट करता हूं-पत्रकार अशोक श्रीवास्तव स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार तथा कार्यक्रमों में तेजी लाने के निर्देश जब एक बाप ही बन गया अपने नवजात् बेटे के मौत का सौदागर........... 95 सहायक अध्यापको को सौंपा गया नियुक्ति पत्र छूटे परिवारों के लिए चलेगा अभियान, बनेगा आयुष्मान कार्ड 24 को गायत्री शक्तिपीठ पर मनाया जायेगा गुरु पूर्णिमा

महिला अस्पताल सहित 27 सीएचसी पर हुई गर्भवती की जांच

पीएम सुरक्षित मातृत्व अभियान
– गर्भवती के पंजीकरण के साथ चिन्ह्ति की जाती है एचआरपी महिलाएं
कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती,उ0प्र0।
 प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत जिला महिला अस्पताल सहित 27 सीएचसी/पीएचसी पर गर्भवती की जांच की गई। हर माह की नौ तारीख को पीएम सुरक्षित मातृत्व अभियान का संचालन किया जाता है। इसका उद्देश्य समय से गर्भवती को इलाज व संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देकर मातृ एवं शिशु मृत्यु दर को न्यूनतम किया जाना है।
केंद्र सरकार की इस महत्वकांक्षी योजना का संचालन उन अस्पतालों में किया जाता है, जहां पर एमबीबीएस चिकित्सक की तैनाती है। इसके तहत गर्भवती का पंजीकरण करने के साथ ही उसकी समय-समय पर चार बार जांच की जाती है। हाई रिस्क अर्थात कम खून, हाई बीपी, ज्यादा मोटापा सहित अन्य रोग से ग्रसित महिलाओं को इस अभियान के दौरान चिन्ह्ति किया जाता है तथा उनका पंजीकरण अलग से किया जाता है। हाई रिस्क वाली महिलाओं का प्रसव हॉयर सेंटर पर सुरक्षित हाथों से कराया जाता है।
सीएमओ डॉ. अनूप कुमार ने बताया कि जिला महिला अस्पताल के अलावा सभी ब्लॉक स्तरीय अस्पताल के साथ सीएचसी मुंडेरवा, पीएचसी ओड़वारा, चिलमा, दयानगर, इंदौली, सिंकंदरपुर व करमहिया सहित 27 अस्पतालों में यह कार्यक्रम संचालित किया गया। कार्यक्रम की मॉनीटरिंग के लिए 15 अधिकारियों को लगाया गया है, जो अपने क्षेत्र में पड़ने वाले अस्पतालों पर जाकर देखेंगे तथा कार्यक्रम में सहयोग प्रदान करेंगे। उन्होंने बताया कि सभी सूचनाएं ऑनलाइन प्रेषित की जानी है। अस्पतालों से कहा गया है कि वह मरीज का विवरण ऑनलाइन दें। समय-समय पर पोर्टल पर मौजूद आंकड़ों की समीक्षा की जाती है। अस्पतालों में प्रसव आदि की व्यवस्था को और बेहतर बनाने का प्रयास किया जा रहा है।
यूनिसेफ के डिविजनल मॉनीटर सुरेंद्र शुक्ला ने सीएचसी हर्रैया पहुंचकर वहां चल रहे कार्यक्रम की जानकारी ली। स्टॉफ को बताया कि जो भी गर्भवती आ रही हैं, उनका पंजीकरण कराएं, तथा उन्हें बताएं कि प्रसव के पूर्व तक चार जांच जरूर कराएं। प्रसव हर हाल में अस्पताल में कराएं।
इस साल 2375 गर्भवती ने कराया पंजीकरण
पहली अप्रैल 2021 से अब तक 2375 गर्भवती ने विभिन्न अस्पतालों में पंजीकरण कराया है। मातृ स्वास्थ्य सलाहकार राजकुमार के अनुसार 14 ब्लॉक स्तरीय, जिला अस्पताल व नगरीय पीएचसी में गर्भवती का पंजीकरण किया जा रहा है। अब तक दूसरी व तीसरी तिमाही में जांच के लिए 1899 महिलाएं अस्पताल आईं। इस साल 247 एचआरपी गर्भवती चिन्ह्ति की जा चुकी हैं, जिनकी मॉनीटरिंग स्वास्थ्य विभाग द्वारा की जा रही है। अस्पताल में गर्भवती की हीमोग्लोबीन, एचआईवी, जीडीएम, सिफलिस की जांच के साथ आवश्यकता पड़ने पर इनकी अल्ट्रासाउंड जांच भी कराई जा रही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.