Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
टोल प्लाजा के अलावा अन्य सर्विस रोड पर वाहनों से वसूली पर तत्काल प्रतिबंध लगाने के लिए डीएम ने दिया ... बहू की प्रताड़ना से परेशा बुजुर्ग दम्पति ने पुलिस अधीक्षक से लगाई न्याय की गुहार जर्जर सड़क निर्माण की मांग को लेकर बबिता शुक्ला ने सौंपा ज्ञापन ग्राम पंचायतां में कराये गये कार्यो में अनियमितता पाये जाने पर दुरूपयोग की गयी धनराशि की वसूली तथा उ... सिचाई बन्धु की बैठक मे विकास कार्यों पर हुई चर्चा विधायक संजय ने चौपाल में गिनाई उपलब्धियां, प्राथमिक शिक्षा  को बेहतर बनाने पर जोर ग्राम पंचायतों मे हुए गबन पर प्रधान व सिक्रटरी पर गिरी डीएम के कार्रवाई की गाज, वसूली के आदेश स्थायी लोक अदालत के गठन क्षेत्राधिकार तथा कार्य शैली का विस्तृत प्राविधान स्काउट गाइड का प्रयास सराहनीय- नीता यादव विकास कार्यो की समीक्षा बैठक मे डीएम ने दिए गोल्डेन कार्ड बनवाने में तेजी लाने के निर्देश

अवधी, भोजपुरी कार्यशाला में लोक संस्कृति को बचाने का आवाहन

मंच पर छा गये कलाकार, जीवन्त हुये पारम्परिक गीत

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।

भोजपुरी, अवधी भाषा की मिठास, कला, लोक संस्कृति भारत सहित विश्व के अनेक देशों में लोगों की जुबान पर है। हमें अपनी कला, संस्कृति को समृद्ध करना होगा जिससे आने वाली पीढी अपने अतीत के स्वर्णिम अध्याय से जुड़ सके। यह विचार सामाजिक कार्यकर्ता जय प्रकाश यादव ने व्यक्त किया। वे लक्ष्मी ग्रामीण विकास सेवा संस्थान द्वारा भारत सरकार के सांस्कृतिक मंत्रालय के सहयोग से आयोजित तीन दिवसीय अवधी, भोजपुरी कार्यशाला को मुख्य रूप से सम्बोधित करते हुये व्यक्त किया।
गनेशपुर के डा. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम साइंस एकेडमी परिसर में तीन दिनों तक आयोजित कार्यशाला में विद्वानों के विचार और लोक कलाकारों के प्रस्तुतियांे की धूम रही। माटी में रचे बसे कलाकारोें ने पारम्परिक गीतों की ऐसी छटा बिखेरी की श्रोता मंत्र मुग्ध हो गये। लोक गायक रामभवन यादव, नरेन्द्र, श्रीमती अनीषा वर्मा, प्रिया, वीरेन्द्र, रिमझिम, प्रियंका, प्रमिला, नेहा यादव, संदीप कुमार और साथियों ने भोजपरी एवं  अवधी में सोहर, विवाह गीत, खेती किसानी से जुड़े गीत, कजरी के साथ ही विदेशिया गीतों की भी शानदार प्रस्तुतियां दी। संस्थान की प्रबंधक श्रीमती सुमन श्रीवास्तव ने अतिथियों, कलाकारोें, श्रोताओं के प्रति आभार व्यक्त करते हुये कहा कि लोक संस्कृति, कला, साहित्य के विकास हेतु सबको मिलकर साझा प्रयास करना होगा। यह हमारे माटी की अमूल्य निधि है जिन्हें भुला दिया जा रहा है।
तीन दिवस कार्यशाला के समापन अवसर पर मनोज कुमार श्रीवास्तव, रविन्द्र कुमार यादव, पूर्व प्रधान हीरालाल, विश्वनाथ, प्रदीप यादव, सुप्रिया श्रीवास्तव, पप्पू  चौधरी, सन्तोष कुमार सोनी, सार्जन यादव, अलाउद्दीन, सत्य प्रकाश, नरेन्द्र गुप्ता, शम्भू गुप्ता, राजकरन के साथ ही अनेक कला प्रेमी उपस्थित रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.