Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
टोल प्लाजा के अलावा अन्य सर्विस रोड पर वाहनों से वसूली पर तत्काल प्रतिबंध लगाने के लिए डीएम ने दिया ... बहू की प्रताड़ना से परेशा बुजुर्ग दम्पति ने पुलिस अधीक्षक से लगाई न्याय की गुहार जर्जर सड़क निर्माण की मांग को लेकर बबिता शुक्ला ने सौंपा ज्ञापन ग्राम पंचायतां में कराये गये कार्यो में अनियमितता पाये जाने पर दुरूपयोग की गयी धनराशि की वसूली तथा उ... सिचाई बन्धु की बैठक मे विकास कार्यों पर हुई चर्चा विधायक संजय ने चौपाल में गिनाई उपलब्धियां, प्राथमिक शिक्षा  को बेहतर बनाने पर जोर ग्राम पंचायतों मे हुए गबन पर प्रधान व सिक्रटरी पर गिरी डीएम के कार्रवाई की गाज, वसूली के आदेश स्थायी लोक अदालत के गठन क्षेत्राधिकार तथा कार्य शैली का विस्तृत प्राविधान स्काउट गाइड का प्रयास सराहनीय- नीता यादव विकास कार्यो की समीक्षा बैठक मे डीएम ने दिए गोल्डेन कार्ड बनवाने में तेजी लाने के निर्देश

सिद्धार्थ एफपीसी कराएगा शकरकंद की उन्नत किस्म एसटी-14 की खेती

शकरकंद की उत्पादित फसल को खरीदेगी हैदराबाद की कंपनी

बस्ती के दो किसानों के खेत में रोपाई के लिए तैयार होंगी शकरकंद एसटी-14 की लता

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।

जनपद में किसानों उत्पाद के उचित मूल्य के लिए बनाये गए सिद्धार्थ एफपीसी तमाम प्रयास कर रही है इसी क्रम में  सिद्धार्थ प्रोड्यूसर कंपनी द्वारा जनपद में शकरकंद की एक ख़ास किस्म की खेती की तैयारी की जा रही है जो अभी तक की प्रचलित किस्मो से हटकर कई खूबियों वाली है

एसटी-14 नाम की शकरकंद की इस किस्म को जल्द पैदावार देने के लिए तैयार किए गया हैं. इस किस्म के कंद रोपाई के लगभग 105 से 110 दिन बाद पककर तैयार हो जाते हैं. इस किस्म के कंद बाहर से हल्के पीले दिखाई देते हैं. और अंदर का गुदागूदा हल्का नारंगी यापीला दिखाई देता हैं. इस किस्म के पौधों का प्रति हेक्टेयर उत्पादन 15 से 20 टन के बीच पाया जाता हैं

शकरकंद के इस विशेष किस्म की खेती की शुरुआत अब बस्ती जिले के आबोहवा में भी होने जा रही है. जिसकी खरीददारी आन्ध्रप्रदेश के हैदराबाद बाद की एक कंपनी करेगी जो शकरकंद के इस विशेष किस्म से तमाम तरह केउत्पाद तैयार करती है. वर्तमान में शकरकंद के इस किस्म की डिमांड हजारो टन में है लेकिन मांग के सापेक्ष उत्पादन अभी बहुत कम है. ऐसे में बस्ती के किसानों द्वारा बनाये गए सिद्धार्थ एफपीसी से उत्तर प्रदेश के कृषि विभाग के टेक्निकल सपोर्ट यूनिट व बीएमजीएफ की टीम के जरिये हैदराबाद की इस कम्पनी नें संर्पक कर जिले में शकरकंद की उन्नत किस्म एसटी-14 की खेती कराये जाने की पहल की है

सबसे पहले इस किस्म के पौधे जनपद के सदर ब्लाक के गौरा गाँव के रहनें वाले किसान राममूर्ति मिश्र वा रुधौली ब्लाक के पचारी कला गाँव के रहनें वाले किसान विजेंद्र बहादुर पाल के खेतो में तैयार किये जायेंगे. जहाँ से दूसरे किसानों को खेती के लिए तैयार पौधों की लताएँ रोपाई के लिए उपलब्ध कराई जायेंगी. शकरकंद के इस विशेष किस्म के नर्सरी की रोपाई इसी माह इन दोनों किसानों के खेतों में कर दी जायेगी जो सितम्बर माह के अंत तक रोपाई के लिए तैयार हो जायेंगी. जहाँ से दूसरे किसान लता की रोपाई अपने खेतों में कर सकेंगे

सिद्धार्थ एफपीसी के निदेशक राममूर्ति मिश्र नें बताया की शकरकंद के इस विशेष किस्म की डिमांड काफी है जबकि उत्पादन बहुत कम है. इस लिए इस किस्म के खेती से किसानों की आय में काफी इजाफा होगा .चूँकि इसके खरीददारी के लिए हैदराबाद की कंपनी से जुड़ाव किया जा रहा है ऐसे में किसानों को मार्केटिंग में किसी तरह की समस्या का सामना नहीं करना पडेगा.
निदेशक विजेंद्र बहादुर पाल नें बताया की शकरकंद की यह किस्म पोषक तत्वों की प्रचुर मात्रा  वाली है जिसमें मिनरल्स, जिंक, फास्फोरस, विटामिन आदि अन्य किस्मों से ज्यादा पाई जाती है जो सेहत के नजरिये से भी बेहद ख़ास मानी जा सकती है

Leave A Reply

Your email address will not be published.