Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
टोल प्लाजा के अलावा अन्य सर्विस रोड पर वाहनों से वसूली पर तत्काल प्रतिबंध लगाने के लिए डीएम ने दिया ... बहू की प्रताड़ना से परेशा बुजुर्ग दम्पति ने पुलिस अधीक्षक से लगाई न्याय की गुहार जर्जर सड़क निर्माण की मांग को लेकर बबिता शुक्ला ने सौंपा ज्ञापन ग्राम पंचायतां में कराये गये कार्यो में अनियमितता पाये जाने पर दुरूपयोग की गयी धनराशि की वसूली तथा उ... सिचाई बन्धु की बैठक मे विकास कार्यों पर हुई चर्चा विधायक संजय ने चौपाल में गिनाई उपलब्धियां, प्राथमिक शिक्षा  को बेहतर बनाने पर जोर ग्राम पंचायतों मे हुए गबन पर प्रधान व सिक्रटरी पर गिरी डीएम के कार्रवाई की गाज, वसूली के आदेश स्थायी लोक अदालत के गठन क्षेत्राधिकार तथा कार्य शैली का विस्तृत प्राविधान स्काउट गाइड का प्रयास सराहनीय- नीता यादव विकास कार्यो की समीक्षा बैठक मे डीएम ने दिए गोल्डेन कार्ड बनवाने में तेजी लाने के निर्देश

मेडिकल स्टाफ की क्रूरता मासूम के जान पर पडा भारी, फुलडोज इंजेक्षन लगाने का आरोप

बच्चे के मौत पर गंभीर हुआ अस्पताल प्रषासन, तीन सदस्यरय टीम करेगी प्रकरण की जांच

रिर्पोट- रत्नेन्द्र पाण्डेय पंकज

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।

जिला अस्पताल के चिल्ड्रन वार्ड मे बहस्पतिवार को स्टाफ की लापरवाही के चलते 9 माह के बालक की मौत हो गयी। बच्चा लूज मोषन की समस्या से ग्रसित था। जब बच्चा सीरियस था उसे तत्काल इलाज की आवष्यकता थी तब वार्ड की सभी स्टाफ चाय-नाष्ता पर मषगूल रहीं। मेडिकल स्टाफ की यह गंभीर लापरवाही मासूमों के जान पर भारी पड रही है। इस घटना से बच्चे की मां और पिता का रो-रोकर बुरा हाल है। हलांकि कि इस सम्बन्ध मे बच्चे के पिता भैरोपुर थाना कलवारी जनपद बस्ती निवासी आसिफ के षिकायती प्रार्थना पत्र प्रमुख अधीक्षक डा0 आलोक वर्मा ने तीन सदस्यीय जांच टीम का गठन कर एक सप्ताह के भीतर जांच रिर्पोट देने का निर्देष दिया है।
जानकारी के जिले के कलवारी थाना क्षेत्र के भैरोपुर गांव निवासी आसिफ अपने 9 माह के बच्चे के तबियत खराब होने के कारण जिला अस्पताल के चिल्ड्रन वार्ड मे बहस्पतिवार को दोपहर मे भर्ती कराया। बच्चे को लूजमोषन की षिकायत थी। बच्चे के पिता ने डा0 वी0पी यादव के परामर्ष पर दोपहर 12 बजे भर्ती कराया। बच्चे की हालत काफी गंभीर थी। आसिफ के अनुसार तैनात स्टाफ नर्स से अनुरोध करने के बाद भी बच्चे का इलाज षुरू नही किया गया। सभी लोग चाय नाष्ते मे बिजी रहे। इसकी षिकायत आसिफ ने चिकित्सक से कर दी। जिसपर चिकित्सक वी0पी0 यादव ने मेडिकल स्टफ को बच्चे की खराब स्थित को बताते हुए तत्काल इलाज षुरू करने को कहा। आरोप है कि इससे गुस्साए मेडिकल स्टाफ ने बच्चे को फुलडाज इंजेक्षन लगा दिया। जिससे बच्चे की कुह ही समय मे मौत हो गयी।
इस सम्बन्ध मे प्रमुख अधीक्षक डा0 आलोक वर्मा ने बताया कि पकरण मे तीन सदस्यरय टीम का गठन कर एक सप्ताह के भीतर रिर्पोट मांगी गयी है। जांच मे जो भी कर्मी दोशी पाया जायेगा उसके विरूद्व सख्त कार्यवाही की जायेगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.