Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
टीकाकरण में शिथिलता एवं लापरवाही पाये जाने पर 06 प्रभारी चिकित्साधिकारियों तथा 04 खण्ड विकास अधिकारि...  धान क्रय केन्द्र के संचालन में शिथिलता एवं लापरवाही पाये जाने पर गिरा तीन अधिकारियों पर कार्यवाही क... अगर बेटा परेशान करे तो मां-बाप डायल करें 14567 एल्डर हेल्पलाईन नम्बर कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु पर डीएम ने वितरित किया राज्य सरकार द्वारा घोषित रू0 50... समान वेतन, अधिकारों की मांग को लेकर संविदा कर्मियों ने मुख्यमंत्री को भेजा 7 सूत्रीय ज्ञापन व्यापारी से 10 लाख की रंगदारी मांगने वाले 3 अभियुक्त पहुंचे जेल छुट्टी बिताकर लौटने वालों की कोविड जांच के बाद ही होगी ज्वाइनिंग खेल के आयोजन में योगदान करने वालों को मिला पुरस्कार, प्रमाण-पत्र 45 बच्चों को ऑपरेशन से मिला नया जीवन महामहिम राज्यपाल श्रीमती आनन्दीबेन पटेल का जिले मे आगमन को लेकर तैयारियों की समीक्षा

जयन्ती पर महारानी लक्ष्मीबाई, इंदिरा गांधी को किया नमन्, सम्मानित हुई विभूतियां

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।

प्रेमचन्द साहित्य एवं जन कल्याण संस्थान की ओर से गुरूवार को कलेक्टेªट परिसर में महारानी लक्ष्मीबाई की जयंती और पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी के जन्म दिन पर उन्हें याद किया गया।
मुख्य अतिथि डा. ओमप्रकाश पाण्डेय ने कहा कि महारानी लक्ष्मीबाई  और पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी की परिस्थितियां भले भिन्न रहीं हों किन्तु दोनों का मूल उद्देश्य समर्थ और शक्तिशाली भारत का निर्माण करना था। इस बड़े उद्देश्य को लेकर दोनों ने अपना सर्वस्व बलिदान कर दिया। ऐसे महान नारियों को सदैव स्मरण किये जाने की जरूरत है।
अध्यक्षता करते हुये वरिष्ठ साहित्यकार सत्येन्द्रनाथ ‘मतवाला’ ने कहा कि रानी लक्ष्मीबाई मराठा शासित झाँसी राज्य की रानी और 1857 की राज्यक्रांति की द्वितीय शहीद वीरांगना थीं। उन्होंने सिर्फ 29 साल की उम्र में अंग्रेज साम्राज्य की सेना से युद्ध किया और रणभूमि में वीरगति को प्राप्त हुईं। उनका योगदान सदैव याद किया जायेगा।
वरिष्ठ कवि डा. रामकृष्ण लाल ‘जगमग’ ने लक्ष्मीबाई पर केन्द्रित सुभद्रा कुमारी चौहान की रचना का स्मरण करते हुये कहा कि ‘सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी, बूढ़े भारत में भी आई फिर से नयी जवानी थी, गुम हुई आजादी की कीमत सबने पहचानी थी, दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी। चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी, बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी’ कविता सुनते ही आज भी देश प्रेम जाग जाता है। उनका बलिदान भारत के युवाओं के लिये प्रेरणाश्रोत है।
इस अवसर पर डा. वी.के. वर्मा, विनय कुमार श्रीवास्तव, राजेश पाण्डेय, नीरज कुमार वर्मा, सुमन सागर, चन्द्रबली मिश्र, श्याम प्रकाश शर्मा रामभद्र, जगदम्बा प्रसाद भावुक, डा. पंकज सोनी, डा. बाबूराम वर्मा, दीपक सिंह को प्रेमचन्द साहित्य एवं जन कल्याण संस्थान की ओर से प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.