Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
सिद्वार्थनगर पहुंची राज्यपाल श्रीमती आनन्दी बेन पटेल, कार द्वारा बौद्ध तीर्थ लुम्बिनी के लिए प्रस्था... मनरेगा से स्वीकृत 24 में से मात्र 08 कार्य पूर्ण होने पर जिलाधिकारी ने व्यक्त किया असंतोष बैठक मे लिया गया मशरूम तथा काला नमक की खेती को बढावा देने का लिए निर्णय टेढे-मेढे पैर वाले बच्चो के उपचार के लिए की जायेंगी परिवारों की काउंसलिंग 40 दिव्यांगजनो को मिला ट्राईसाइकिल मार्ग दुर्धटना मे घायल हे0कां0 गोविन्द कुमार की मौत, पार्थिव शरीर को एसपी ने दी सलामी कांग्रेस जिला कार्यकारिणी का विस्तार, उपाध्यक्ष, महासचिव, सचिव, कोषाध्यक्ष घोषित अधिवक्ता दिवस के रूप में प्रथम राष्ट्रपति डा.राजेन्द्र प्रसाद को जयन्ती पर किया नमन् जयन्ती पर याद किये गये प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद फोकस्ड सैम्पलिंग के जरिए माप रहे कोरोना का प्रभाव

तीन कृषि कानूनों की वापसी शहीद किसानों को सच्ची श्रद्धांजलि

मांगे पूरी होने तक जारी रहेगा किसान आन्दोलन- दिवान चन्द पटेल

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।

भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश सचिव दिवान चन्द पटेल  ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा तीन कृषि कानूनों को वापस लिये जाने के निर्णय की सराहना करते हुये कहा कि किसान अपने अधिकारोें का एक चरण जीत गये हैं। यह सफलता उन किसानों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि है जिन्होने आन्दोलन में अपने प्राण गंवा दिये। कहा कि केन्द्र की अहंकारी मोदी सरकार को किसानों की बात समझने में एक वर्ष से अधिक का वक्त लग गया। सरकार किसानों की हितैषी होती तो लगभग 700 किसानों को शहादत न देनी पड़ती। कहा कि अभी एक मोर्चे पर जीत मिली है। एमएसपी , न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गारन्टी कानून, स्वामी नाथ आयोग की रिपोर्ट लागू किये जाने, बिजली विधेयक आदि मुद्दांे को राष्ट्रीय नेतृत्व के आवाहन पर आन्दोलन जारी रहेगा।
प्रेस को जारी बयान के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया में दिवान चन्द पटेल ने कहा कि सरकार संसद में कानून वापस लेने की प्रक्रिया पूरी करने के साथ ही न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गारन्टी कानून पर अपनी स्थिति स्पष्ट करें और किसानों से वार्ता कर सहमति बनाये साथ ही जिन किसानों पर फर्जी मुकदमंें दर्ज किये गये हैं उसे वापस लेने के साथ ही   किसान आन्दोलन में शहादत देने वाले किसानों को शहीद का दर्जा देने के साथ ही उनके परिवारों को समुचित मुआवजा दिया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.