Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
11 दिसम्बर को आयोजित होगा राष्ट्रीय लोक अदालत पूर्वांचल विकास बोर्ड के सलाहकार साकेत मिश्रा ने गिनाई भाजपा सरकार की उपलब्धियां पुलिस अधीक्षक ने किया यातायात माह नवम्बर-2021 का समापन अपर पुलिस अधीक्षक द्वारा की गई सेवानिवृत्त कर्मचारियों की विदाई भारतीय एकता सदभावना मिशन के राष्ट्रीय महासचिव बने नोमान डीएम ने किया 2 किसान सेवा सहकारी समिति का औचक निरीक्षण कप्तानगंज की समिति पर बन्द मिला ताला छात्र संघ चुनाव में एनएसयूआई ने अंकुर पाण्डेय को घोषित किया अपना उम्मीदवार शिक्षकों ने बैठक में बनाया राष्ट्रीय आन्दोलन में हिस्सेदारी की रणनीति टीईटी परीक्षा के साल्वर गैंग के 5 गुर्गों को पुलिस ने किया गिरफ्तार ई0वी0एम0 एवं वी0वी0 पैट जागरूकता अभियान के तहत डीएम ने किया एल0ई0डी0 वैन को हरी झ्ांडी दिखाकर रवाना

गंगाजल को हाथ में लेकर झूठी कसम खाने वाली कांग्रेस की राज्य सरकार- पूर्व जिला पंचायत सभापति अश्वनी शर्मा

भाटापारा।भाटापारा पूर्व जिला पंचायत सभापति अश्वनी शर्मा ने आज मुख्यमंत्री भुपेश बघेल पर तीखा हमला करते हुए कांग्रेस की राज्य सरकार को लबरा सरकार बताया। उन्होंने कहा कि सत्ता में आने के लिए कांग्रेस पार्टी और उसके नेता गंगाजल को हाथ में लेकर कसम खाए थे,जिन वादों के साथ राज्य में कांग्रेस की सरकार आई, कांग्रेस ने उनमें से एक भी वादों को पूरा नहीं किया। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ दौरे के दौरान कहा था 2 साल का बोनस देंगे अगर हमारी सरकार आती है। सरकार आए आज 22 महीना हो गया पर राहुल गांधी और उनकी सरकार ने आज तक बोनस नहीं दिया। भूपेश सरकार की कथनी और करनी का इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि भाटापारा में युवक कांग्रेस शराब दुकान के बाहर ओवर रेट के लिए धरना प्रदर्शन करती है। बेरोजगारों को 25 सौ भत्ता देने की सरकार ने बात कही थी, आज तक एक भी बेरोजगार को 01 रुपिया भी नहीं दिया।
आज के इस धरने के माध्यम से हम मांग करते है कि धान खरीदी 1 नवम्बर से प्रारंभ की जाए एवं प्रति एकड़ 20 क्विंटल खरीदी की जाए।
अश्वनी शर्मा ने राज्य सरकार से कहा कि केंद्र की हमारी नरेंद मोदी सरकार ने छत्तीसगढ़ से 60 लाख मेट्रिक टन चावल खरीदने का लक्ष्य निर्धारित किया है।60 लाख मेट्रिक टन चावल के लिए 90 लाख मेट्रिक टन धान की आवश्यकता होगी।शर्मा ने कहा कि पिछले वर्ष राज्य शासन ने 83 लाख मेट्रिक टन धान खरीदा था,पिछले वर्ष की तुलना में केंद्र सरकार चावल ज्यादा मात्रा में राज्य सरकार से खरीद रही है,इसलिए राज्य सरकार को किसानों से 15 क्विंटल प्रति एकड़ में खरीदने के स्थान पर 20 क्विंटल प्रति एकड़ खरीदना चाहिए।
धान ख़रीदी पिछले वर्ष 01 दिसम्बर से की गई थी जिस कारण किसानों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा था।इस बार किसानों के हितों को ध्यान में रख कर राज्य सरकार धान खरीदी 01 दिसम्बर के स्थान पर 01 नवम्बर से एवं प्रति एकड़ 20 क्विंटल धान खरीदने की व्यवस्था करे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.