Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
निरीह मरीजों का खून जांच कर रहे है यमराज ...लिख रहे हैं मौत की इबारत...मलाई काट रहे हैं जिम्मेदार वरिष्ठ साहित्यकार सत्येन्द्रनाथ मतवाला पंचतत्व में विलीनः श्रद्धांजलि सभा में नम हुई आंखे बस्ती सदर ब्लॉक में अपनी मांगों को लेकर प्रधान संघ ब्लॉक इकाई ने किया धरना प्रदर्शन नगरीय क्षेत्र में पीएम आवास योजना के धीमी प्रगति पर कमिश्नर नाराज नंद बाबा दुग्ध मिशन को लेकर संपन्न हुई बैठक,  सीडीओ ने दिए निर्देश स्टांप एवं राजस्व वादों के निस्तारण में तेजी लाने के निर्देश डा. वी.के वर्मा कजाकिस्तान में सम्मानित चौरसिया समाज के  महासम्मेलन में राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक मुद्दों पर विमर्श विधायक अजय सिंह ने किया 10 सड़कों का लोकार्पण निर्माणाधीन परियोजनाओं को 30 नवंबर तक पूरा करने के कड़े निर्देश

आखिर कब बदलेगी पचपेड़िया रोड की तस्वीर

बस्ती – जनपद में करोड़ों की परियोजनाओं आई, शिलान्यास और लोकार्पण हुआ, स्थानीय जनप्रतिनिधियों द्वारा कराये गये विकास कार्यों की फेहरिस्त भी काफी लम्बी है, किन्तु शहर को राष्ट्रीय राजमार्ग से जोड़ने के लिये बेहद उपयोगी पचपेड़िया रोड की तस्वीर नहीं बदली। यह बातें व्यापारी नेता आनंद राजपाल ने कहीं।
उन्होने कहा प्रशासनिक अमला समस्या को लेकर बिलकुल गंभीर नही रहा, बल्कि आन्दोलन के दौरान डराने धमकाने और झूठे वादों का सहारा लेते रहे। एक बार फिर पचपेड़िया रोड के निर्माण के लिये व्यापार मंडल और स्थानीय नागरिकों के सहयोग से आरपार का संघर्ष छेड़ा जायेगा। इस बार हर घर से एक व्यक्ति धरना प्रदर्शन में हिस्सा लेगा। आनंद राजपाल ने कहा दो बार सड़क की मरम्मत और निर्माण का बजट आया, किन्तु जनप्रतिनिधियों की अडंगेबाजी से काम अधर में रह गया। नतीजा ये है कि रोड गड्ढों में तब्दील हो चुकी है। आये दिन राहगीर गिरकर चोटिल होते हैं।
बरसात के दिनों में समस्या और विकट हो जाती है। गर्मी के मौसम में वाहनों के आवागमन से उठने वाली धूल लोगों को बीमार कर देती है साथ ही प्रतिष्ठानों में रखे सामान बरबाद हो जाते हैं। जबकि इस रोड पर कई नामचीन स्कूल, व्यापारिक प्रतिष्ठान, एजेंसियां, सरकारी दफ्तर, बाल सुधार गृह और अस्पताल हैं। दिन रात ये सड़क व्यस्त रहती है। आनंद राजपाल ने कहा स्थानीय प्रतिनिधियों और प्रशासन को न जाने क्या परेशानी है कि तीन सालों में हजारों करोड़ रूपये जनपद के विकास पर खर्च हुये लेकिन पचपेड़िया रोड की बदहाली नही दूर हुई। जन सहयोग से एक बार फिर समस्या के समाधान के लिये प्रयास शुरू किये जायेंगे।