Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
अयोध्या में बनेगा अनूठा मंदिरों का संग्रहालय, प्राचीन शैलियों के मंदिरों के बनाए जाएंगे कई मॉडल अंसल एपीआई के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने कसा शिकंजा, पुलिस कमिश्नर से अंसल के खिलाफ लखनऊ में दर्ज मु... कोटे के दूकान के आवंटन की मांगः डीएम को सौंपा ज्ञापन सदर विधायक महेन्द्र यादव ने मो. सलीम, शैलेन्द्र को बनाया प्रतिनिधि अदालत के आदेश के बाद भी नहीं मिला जमीन पर कब्जा, डीएम ने दिया कार्रवाई का निर्देश बच्चों के साथ ससुराल में शान्ती देवी ने शुरू किया धरना शासन के निर्देश पर हुआ परिषदीय स्कूलों की साफ—सफाई 01 जुलाई से 30 सितंबर तक संचालित किया जाएगा संभव अभियान,चिन्हित किये जायेंगे अतिकुपोषित बच्चे : सीडी... प्रतापगढ़: सिपाही संजय यादव की हत्या के मामले मे शामिल चार आरोपी पुलिस हिरासत में अलर्ट: प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 682 नए मामले

कोरोना से बचाव में शामिल की जाय होम्योपैथिक औषधियां

बस्ती। केन्द्रीय होम्योपैथी परिषद के पूर्व सदस्य एवं प्रदेश के वरिष्ठ होम्योपैथिक चिकित्सक डा. अनुरूद्ध वर्मा एवं जिला अस्पताल के आयुष चिकित्साधिकारी डा. वी के वर्मा ने सरकार से कोरोना की दूसरी लहर से उत्त्पन्न परस्थितियों से निपटने के लिए इंटीग्रेटेड अप्रोच अपनाने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा है कि इस बार कोरोना  संक्रमण पहले से ज्यादा संक्रामक और गंभीर है जिसका असर बुजुर्गों के साथ – साथ युवकों एवं बच्चों पर भी ज्यादा पड़ रहा है जिसके कारण लगभग सारे अस्पताल मरीजों से भर गये ऐसी स्थिति में इस गंभीर स्थिति से निपटने के लिए यदि होम क्वारेंटिंन रोगियों एवं अस्पतालों में भर्ती रोगियों को निर्धारित एलोपैथी प्रोटोकाल उपचार के साथ इंटीग्रेटेड अप्रोच जिसमें होम्योपैथी को शामिल किया जाए तो बेहतर परिणाम प्राप्त होगें और अस्पतालों पर निर्भरता कम होगी और रोगी जल्दी स्वस्थ होंगे। डाक्टरद्वय ने कहा कि सी सी आर एच ने होम्योपैथिक चिंकित्सकों के लिए कोरोना के उपचार के लिये गाइड लाइन जारी की है जिसमे रोगी के लक्षणों के आधार पर    औषधियों की जानकारी दी गई है उसके अनुसार उन्हें   उपचार की अनुमति दी जानी चाहिए। उन्होंने बताया कि इस बार का संक्रमण फेफडों को ज्यादा प्रभावित कर रहा है जिससे रोगियों में ऑक्सीजन की कमी हो जा रही है और उन्हें कृत्रिम ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही है। उन्होंने कहा कि होम्योपैथी में ऐसी अनेक औषधियाँ उपलब्ध है जो ऑक्सीजन की कमी को दूर करने में सहयोग कर सकती हैं इससे   कृत्रिम ऑक्सीजन पर निर्भरता कम होगी। उन्होंने कहा कि कोरोना से वचाव एवँ उपचार में होम्योपैथी को शामिल करने से अस्पतालों पर दवाव कम होगा जिससे इलाज में आसानी होगी। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष आयुष मंत्रालय ने कोरोना काल मंे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्युनिटी) बढ़ाने के लिये आर्सेनिक एल्बम 30 औषधि लेने की सलाह दी थी जिसके सकारात्मक परिणाम प्राप्त हुये है उस व्यवस्था को पुनः लागू किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस महामारी से निपटने के लिए सभी चिकित्सा पद्धातिओं का संयुक्त प्रयास आवश्यक है इससे इस पर प्रभावी रूप से नियंत्रण प्राप्त करने में सहयोग प्राप्त होगा।