Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
यूपी की भाजपा सरकार को तिरंगा यात्रा भी लगता है अवैध- संजय सिंह जागरूकता का परिचय दें अन्त्योदय कार्ड धारक, बनवाएं आयुष्मान कार्ड 30 अक्टूबर तक जिले के सभी बैंक शाखाओं पर आयोजित किया जायेंगा कैम्प सपा की मासिक बैठक में बनी रणनीति इस बार दीपवाली में 11 फिट के दिये के साथ जगमगाएगा अमहट घाट श्रमिको के लिए कल्याणकारी योजनाओं को संचालित कर रही है प्रदेश सरकार-सुनील कुमार भराला टीकाकरण कर्मियों की लगन का फल है सफल टीकाकरण एक माह में नौ हजार अंत्योदय लाभार्थियों ने किया आवेदन श्री रामलीला महोत्सव में गुरुवार को राम बारात एवं राम विवाह का किया गया मंचन 100 करोड़ कोविड टीकाकरण में जिले ने दिया 8.55 लाख का योगदान

बेटे की कोरोना से मौत, सदमे में मां ने भी दम तोड़ा

बस्ती। कुदरहा क्षेत्र के ग्राम परसांव में बृहस्पतिवार की सुबह पत्रकार अखिलेश का करोना संक्रमण से मौत की खबर आई तो पूरे गांव में कोहराम मच गया। बेटे की मौत का सदमा माता पार्वती बर्दाश्त नहीं कर सकीं और शुक्रवार को उन्होंने भी दम तोड़ दिया। गांव में मां-बेटे की मौत ने ग्रामीणों को झकझोर कर रख दिया है। शुक्रवार को मां का भी अंतिम संस्कार कर दिया गया।
परसांव गांव निवासी अखिलेश कृष्ण मोहन लखनऊ में एक पत्रिका में बतौर पत्रकार काम करते थे। अखिलेश लखनऊ में ही परिवार के साथ रहते थे। परिजनों के मुताबिक, 17 अप्रैल को अचानक अखिलेश को तेज बुखार हुआ। उन्होंने तत्काल कोरोना की जांच कराई तो रिपोर्ट पॉजिटिव आई। उसके बाद वह एक निजी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती हो गए।
इसके बावजूद जब उनकी हालत बिगड़ने लगी तो राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त सेवा निवृत्त शिक्षक पिता राम गुलाम के आग्रह पर अखिलेश को पीजीआई में शिफ्ट कर दिया गया। वहां भी इलाज शुरू हुआ। परिवार को अस्पताल प्रशासन दिलासा देता रहा, मगर 13 मई को अखिलेश ने अंतिम सांस ली। भोर में हुई मौत के बाद कोरोना प्रोटोकाल के तहत शव परिवार के लोग सीधे लेकर टांडा स्थित सरयू तट पर पहुंचे, जहां अंतिम संस्कार किया गया। बेटे के खोने की खबर जैसे ही मां पार्वती तक पहुंची, वह पछाड़ खाकर गिर गईं। बेहोश जानकर ग्रामीण और परिवार के लोग उन्हें लेकर सीएचसी बनहरा पहुंचे, जहां चिकित्सकों ने पार्वती को मृत घोषित कर दिया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.