Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
.......तो क्या... योगी राज मे गैंगरेप की शिकार अर्धविक्षिप्त युवती को मिल सकेगा न्याय ? नगर पुलिस व एन्टी व्हीकल थेफ्ट टीम की संयुक्त कार्यवाही में 3 क्विंटल 17.260 किलोग्राम गांजा के साथ ... फर्जी समूह बनाकर धोखा-धड़ी करके जमाकर्ताओं के धन हड़पने वाले 06 अभियुक्त गिरफ्तार एनटीपीसी ने सौंपा एसी एंबुलेंस एवं शव वाहन डा. वी.के. वर्मा ने स्वास्थ्य परीक्षण कर वृद्ध जनों में किया फल, मिष्ठान्न का वितरण अन्याय पर न्याय के विजय का पर्व है नवरात्रि - संजय चौधरी दो ऑक्सीजन गैस प्लांट का फीता काटकर किया गया उद्घाटन नहरों की सिल्ट सफाई का कार्य प्रारम्भ फ्री बिजली गारंटी पदयात्रा निकालेगी आपः सभाजीत सिंह त्योहारों को लेकर सम्पन्न हुई पीस कमेटी की बैठक, डीएम ने दिए निर्देश

पहचान पत्र नहीं होने पर भी लगेगा टीका

– स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइन

– जिला स्तर पर खोजे जाएंगे ऐसे लाभार्थी और किए जाएंगे पंजीकृत

– बुजुर्ग, साधु-संत, जेल में बंद कैदी, मानसिक अस्पतालों में भर्ती मरीज, वृद्धाश्रम के लोग, भिखारी, पुनर्वास केन्द्रों में रह रहे मरीज शामिल होंगे इस श्रेणी में

बस्ती। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोई पहचान पत्र न रखने वाले लोगों का टीकाकरण करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसके मुताबिक ऐसे लोगों को कोविन ऐप में पंजीकृत किया जाएगा और उनके टीकाकरण के लिए विशेष सत्र आयोजित किए जाएंगे। मंत्रालय की गाइडलाइन के मुताबिक वैक्सीनेशन के लिए आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, एनपीआर कार्ड या पेंशन पेपर में से किसी एक पहचान पत्र जरूरी है।
अगर किसी के पास यह पहचान पत्र नहीं हैं तो उन्हें वैक्सीनेशन से वंचित नहीं रखा जा सकता। इसी के मद्देजनर मंत्रालय ने ऐसे लोगों का टीकाकरण कराने के लिए गाइलाइन जारी की है। इस श्रेणी में बुजुर्ग, साधु-संत, जेल में बंद कैदी, मानसिक अस्पतालों में भर्ती मरीज, वृद्धाश्रम के लोग, भिखारी, पुनर्वास केन्द्रों में रह रहे मरीज शामिल होंगे।

गठित होगी टॉस्क फोर्स

ऐसे लोगों को ढूंढने का काम जिले की टास्क फोर्स करेगी। वह अल्पसंख्यक विभाग, सामाजिक न्याय विभाग व समाज कल्याण विभाग के सहयोग से ऐसे लोगों की पहचान कर सकती है। इन लोगों का कोविन ऐप में पंजीकरण कराया जाएगा जिसमें लाभार्थी का नाम, जन्म का साल और लिंग दर्ज कराया जाएगा। मोबाइल नंबर और पहचान पत्र की अनिवार्यता नहीं होगी। इसका सत्यापन फैसिलिटेटर करेंगे जिसके बाद इन लोगों का वैक्सीनेशन किया जाएगा। गाइडलाइन के मुताबिक जिले की टास्क फोर्स जिलास्तर पर एक नोडल अधिकारी नियुक्त करेगी जो अलग-अलग समूह के लोगों की पहचान के लिए फैसीलिटेटर नियुक्त करेगा। यह फैसीलिटेटर लाभार्थियों की पहचान करेगा। नोडल अधिकारी वैक्सीनेशन सत्र का आयोजन कराएंगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.