Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
आपदा प्रबंधन क्षमता एवं सम्बवर्धन के तहत प्राथमिक चिकित्सा पर एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित जो लोग फ्री में ‘बिजली’ देने की बात करते हैं, उन्होंने उत्तर प्रदेश को ‘अंधेरे’ में रखा: सीएम योगी तीन जिलों के डीएम व दो जिलों के एसपी हटा कर की गयी नई तैनाती रोड शो, पद-यात्रा, रैली तथा जुलूस 31 जनवरी तक रहेंगे प्रतिबन्धित अमेरिका के वैज्ञानिक जर्नल में प्रकाशित हुआ बस्ती के हर्षित का शोध पत्र यूपी चुनाव: ब्राह्मणों को साधने में जुटी BJP में अखिलेश ने लगाई सेंध, सपा का MYB फॉर्मूला बढ़ाएगा यो... परम्परागत एवं सादगीपूर्ण ढंग से मनाया जायेगा 73वां गणतंत्र दिवस पुण्यतिथि पर याद किये गये प्रखर समाजवादी जनेश्वर मिश्र भाजपा ने देश को बेरोजगारी दिया, कांग्रेस का भर्ती विधान घोषणा पत्र युवाओं का भविष्य संवारेगा- अंकुर ... वरिष्ठ पत्रकार रामसेवक पाण्डेय के निधन पर पत्रकारों ने जताया शोक

पहचान पत्र नहीं होने पर भी लगेगा टीका

– स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइन

– जिला स्तर पर खोजे जाएंगे ऐसे लाभार्थी और किए जाएंगे पंजीकृत

– बुजुर्ग, साधु-संत, जेल में बंद कैदी, मानसिक अस्पतालों में भर्ती मरीज, वृद्धाश्रम के लोग, भिखारी, पुनर्वास केन्द्रों में रह रहे मरीज शामिल होंगे इस श्रेणी में

बस्ती। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोई पहचान पत्र न रखने वाले लोगों का टीकाकरण करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसके मुताबिक ऐसे लोगों को कोविन ऐप में पंजीकृत किया जाएगा और उनके टीकाकरण के लिए विशेष सत्र आयोजित किए जाएंगे। मंत्रालय की गाइडलाइन के मुताबिक वैक्सीनेशन के लिए आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, एनपीआर कार्ड या पेंशन पेपर में से किसी एक पहचान पत्र जरूरी है।
अगर किसी के पास यह पहचान पत्र नहीं हैं तो उन्हें वैक्सीनेशन से वंचित नहीं रखा जा सकता। इसी के मद्देजनर मंत्रालय ने ऐसे लोगों का टीकाकरण कराने के लिए गाइलाइन जारी की है। इस श्रेणी में बुजुर्ग, साधु-संत, जेल में बंद कैदी, मानसिक अस्पतालों में भर्ती मरीज, वृद्धाश्रम के लोग, भिखारी, पुनर्वास केन्द्रों में रह रहे मरीज शामिल होंगे।

गठित होगी टॉस्क फोर्स

ऐसे लोगों को ढूंढने का काम जिले की टास्क फोर्स करेगी। वह अल्पसंख्यक विभाग, सामाजिक न्याय विभाग व समाज कल्याण विभाग के सहयोग से ऐसे लोगों की पहचान कर सकती है। इन लोगों का कोविन ऐप में पंजीकरण कराया जाएगा जिसमें लाभार्थी का नाम, जन्म का साल और लिंग दर्ज कराया जाएगा। मोबाइल नंबर और पहचान पत्र की अनिवार्यता नहीं होगी। इसका सत्यापन फैसिलिटेटर करेंगे जिसके बाद इन लोगों का वैक्सीनेशन किया जाएगा। गाइडलाइन के मुताबिक जिले की टास्क फोर्स जिलास्तर पर एक नोडल अधिकारी नियुक्त करेगी जो अलग-अलग समूह के लोगों की पहचान के लिए फैसीलिटेटर नियुक्त करेगा। यह फैसीलिटेटर लाभार्थियों की पहचान करेगा। नोडल अधिकारी वैक्सीनेशन सत्र का आयोजन कराएंगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.