Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
फ्रंटलाइन वर्कर तथा वरिष्ठ नागरिकों से कोविड-19 की प्रिकॉशन डोज लगवाने की अपील रोटरी मण्डल 3120 के सहायक मण्डलाध्यक्ष बने आशीष श्रीवास्तव वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से दी गई स्वीप, शिकायत, मीडिया मानीटरिंग, एनवीडी के संबंध में विस्तार ... 23 जनवरी को दो पालियों में करायी जायेंगी टेट की परीक्षा सांस से सम्बन्धित कोविड मरीजों के लिए लाभकारी है चेस्ट फिजियोथैरेपी एक दिन में कोरोना संक्रमण के 17,776 नये मामले आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर यूपी मे अब तक 167 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज घर से नाराज़ होकर मुंबई पहुंच गई बालिका को सीडब्लयूसी ने उसके पिता को सौंपा विधान सभा चुनाव को लेकर बैठक मे सौंपी गई जिम्मेदारियां गृह भ्रमण कर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता देंगी पांच सेवाएं

ईश्वर के लिये जो जीता है वही सन्यासी है – श्रीमद्भागवत कथा

बस्ती । ईश्वर के लिये जो जीता है वही सन्यासी है। गोपियां ईश्वर के लिये जीती थी इसलिये उन्हें प्रेम सन्यासिनी कहा गया। प्रभु प्रेम में हृदय का द्रवित होना ही तो मुक्ति है। कृष्ण कथा और बासुरी का श्रवण करते समय चाहें आंखे खुली ही क्यों न हो समाधि लग जाती है। कृष्ण कथा में प्राणायाम करने की कोई आवश्यकता नही है यह जगत को भुला देती है। मिठास प्रेम में होती है, बस्तु में नहीं। स्वाद गोपियों के माखन में नहीं प्रेम में था। यशोदा के हृदय में बसा हुआ कन्हैया जागा है किन्तु हमारे हृदय का कन्हैया सोया हुआ है। यह सद्विचार आचार्य दिव्यांशु जी महाराज ने दुधौरा ग्राम में पं.धनीराम बाबा के पावन स्थान पर भगवान श्रीकृष्ण के बाल लीला, गोवर्धन लीला आदि का रोचक वर्णन करते हुये व्यक्त किया।
महात्मा जी ने कन्हैया के बाल लीला के विविध प्रसंगो, गोपियों के साथ अनुराग, माखन चोरी आदि प्रसंगों का विस्तार से वर्णन करते हुये कहा कि जब तक परमात्मा को प्रेम से न बाधा जाय संसार का बन्धन बना रहता है। ईश्वर को फल दोगे तो वे तुम्हें रत्न देंगें। पाप के जाल से छूटना आसान नही है, जब तक पुण्य का बल बढता नही पाप की आदत नहीं छूटती।
बाल लीला का वर्णन करते हुये महात्मा जी ने कहा कि परमात्मा को बश में करने का सर्वोत्तम साधन है प्रेम। कन्हैया ने कभी जूते नहीं पहने, गायों की जैसी सेवा उन्होने किया शायद ही कोई कर सके। गाय में सभी देवों का वास है, गाय सेवा से अपमृत्यु टल सकती है। बासुरी का महत्व बताते हुये महात्मा जी ने कहा कि बांसुरी अपने स्वामी के इच्छानुसार ही बोलती है। इसलिये भगवान की जो इच्छा हो वही बोलना चाहिये।
कथा क्रम में भक्त प्रहलाद, कुन्ती की भक्ति और भीष्म का प्रेम, राधा के त्याग, गोकुल भूमि की महिमा और ग्वाल बाल गोपिकाओं का श्री कृष्ण के प्रति समर्पण का वर्णन करते हुये महात्मा जी ने कहा कि संसार में कुन्ती जैसा बरदान किसी ने नहीं मांगा । कुन्ती ने कन्हैया से दुःख मांगा जिससे उनका कन्हैया उनसे दूर न जाय। आजकल तो लोग भगवान से केवल सुख मांगते हैं किन्तु बिना दुख के साधना पूर्ण ही नही हो सकती। परमात्मा की चाह में विरह ही तो भक्ति की प्रतिष्ठा है।
मुख्य यजमान राममंगल मिश्र ने पत्नी ज्ञानमती मिश्रा के साथ व्यास पीठ का विधि विधान से पूजन किया। श्रीमद् भागवत कथा में बड़ी संख्या में क्षेत्रीय नागरिक उपस्थित रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.