Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
बस्ती में चल रहे भोजपुरी फिल्म सतरंगी बालम में नजर आयेंगी फेमस हिरोइन नीलू शंकर इनकम टैक्स की रेड के खिलाफ आप कार्यकर्ताओं ने सौंपा ज्ञापन विधि सम्मत ही करें कानून का उपयोग -सौम्या अग्रवाल अस्पताल जाएं तो विशेष सतर्कता अपनाएँ : - सीएमओ जितने साल का होता हूं उतने पौधे पृथ्वी को भेंट करता हूं-पत्रकार अशोक श्रीवास्तव स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार तथा कार्यक्रमों में तेजी लाने के निर्देश जब एक बाप ही बन गया अपने नवजात् बेटे के मौत का सौदागर........... 95 सहायक अध्यापको को सौंपा गया नियुक्ति पत्र छूटे परिवारों के लिए चलेगा अभियान, बनेगा आयुष्मान कार्ड 24 को गायत्री शक्तिपीठ पर मनाया जायेगा गुरु पूर्णिमा

श्रीकृष्ण प्रेम मंें पागल बनोगे तो मिलेगी शांति:स्वामी राघवाचार्य

 

सात दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती। भोग भक्ति में बाधक है। बिना वैराग्य के भक्ति रोती है। परमात्मा जिसे अपना मानते हैं उसे ही अपना असली स्वरूप दिखाते हैं। मनुष्य परमात्मा के साथ प्रेम नहीं करता इसीलिये ईश्वर का अनुभव नहीं कर पाता। श्रीकृष्ण प्रेम मंें पागल बनोगे तो शांति मिलेगी। सब साधनों का फल प्रभु प्रेम है। यह सद्विचार यह सद् विचार जगत गुरू स्वामी राघवाचार्य जी महाराज ने शिव नगर तुरकहिया में भाजपा जिलाध्यक्ष महेश शुक्ल के आवास पर आयोजित 7 दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा के ंतीसरे दिन व्यासपीठ से व्यक्त किया।
परमात्मा के यश कीर्तन और भक्ति महिमा का विस्तार से वर्णन करते हुये महात्मा जी ने कहा कि सच्चे सदगुरू का कोई स्वार्थ नहीं होता। सतसंग से संयम, सदाचार, स्नेह और सेवा के भाव का विस्तार होता है। निरन्तर जप से जन्म कुण्डली के ग्रह भी सुधर जाते हैं।
भक्त प्रहलाद, हिरण्यकश्यप आदि के अनेक उदाहरण देते हुये महात्मा जी ने कहा कि प्रभु भजन में आनन्द आये तो भूख प्यास भूल जाती है। मानव जीवन का उद्देश्य केवल धन संग्रह नही है। धर्म मुख्य है। धन को धर्म की मर्यादा में रहकर ही प्राप्त करना चाहिये। जगत में दूसरों को रूलाना नहीं, खुद रो लेना, रोने से पाप जलता है।
भाजपा जिलाध्यक्ष महेश शुक्ल , माता श्यामा देवी ने विधि विधान से परिजनों, श्रद्धालुओं के साथ व्यास पीठ का वंदन किया। श्रद्धालु भक्तों अरविन्द पाल, आलोक सिंह, गणेश नारायण मिश्रा, प्रत्युष विक्रम सिंह, अरविंद श्रीवास्तव, आर. के. पाण्डेय, अखण्ड पाल,सुधाकर पाण्डेय, ब्रह्मानंद शुक्ल, अखण्ड प्रताप सिंह, जान पाण्डेय, अवनिश शुक्ल, सतीश सोनकर, चंद्र शेखर मुन्ना, गिरीश पाडेय आदि ने भागवत कथा का रस पान किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.