Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
अयोध्या में बनेगा अनूठा मंदिरों का संग्रहालय, प्राचीन शैलियों के मंदिरों के बनाए जाएंगे कई मॉडल अंसल एपीआई के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने कसा शिकंजा, पुलिस कमिश्नर से अंसल के खिलाफ लखनऊ में दर्ज मु... कोटे के दूकान के आवंटन की मांगः डीएम को सौंपा ज्ञापन सदर विधायक महेन्द्र यादव ने मो. सलीम, शैलेन्द्र को बनाया प्रतिनिधि अदालत के आदेश के बाद भी नहीं मिला जमीन पर कब्जा, डीएम ने दिया कार्रवाई का निर्देश बच्चों के साथ ससुराल में शान्ती देवी ने शुरू किया धरना शासन के निर्देश पर हुआ परिषदीय स्कूलों की साफ—सफाई 01 जुलाई से 30 सितंबर तक संचालित किया जाएगा संभव अभियान,चिन्हित किये जायेंगे अतिकुपोषित बच्चे : सीडी... प्रतापगढ़: सिपाही संजय यादव की हत्या के मामले मे शामिल चार आरोपी पुलिस हिरासत में अलर्ट: प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 682 नए मामले

कत्थक में हो रहे हैं शास्त्रीय सीमा में भाव प्रदर्शन के नव प्रयोग

नृत्य गुरू पंडित अनुज मिश्रा ने छात्रों का किया मार्ग दर्शन

कबीर बस्ती न्यूज:

बस्ती। द कल्चरल क्वेस्ट नृत्यधाम द्वारा छात्रों को कत्थक के साथ ही नृत्य के विभिन्न मुद्राओं का प्रशिक्षण मास्टर शिव के मार्ग दर्शन में दिया जा रहा है। गुरुवे नमः नृत्यों नमः भारत के 8 शास्त्रीय नृत्य में एक उत्तर भारत नृत्य कत्थक । छात्राओं में भारतीय नृत्य के प्रति रुचि बढ़ाने और इस लोकप्रिय विधा में माहिर  बनाने के उद्देश्य से  भाव भंगिमाएं , शालिनी द्वारा फुटवर्क मुद्राएं। कमलेश शर्मा शारीरिक नृत्य व्यायाम, अंशिका वर्मा(अंशी ) द्वारा शास्त्रीय वस्त्र सज्जा ,रूप सज्जा एवं ताल का  प्रशिक्षण, राजीव रंजन द्वारा मंच संचालन का प्रशिक्षण छात्रों को निखार रहा है।
इसी परंपरा के साधक १३ वीं पीढ़ी के गुरु श्रेष्ठ पंडित अनुज मिश्रा  महाराज एवं श्रीमती नेहा सिंह द्वारा कोतवाली रोड स्थित नृत्य धाम ,नृत्य केंद्र पर नृत्य गोष्ठी का आयोजन  किया गया । कथक नृत्य के प्रख्यात गुरू अनुज मिश्रा  ने बताया कि  युवाओं में जिस तरह वेस्टर्न संगीत का बुखार सबके सर चढ़कर बोल रहा है उसी दौर में  मास्टर शिव  शास्त्रीय नृत्य शैली को अखंड साधना से छात्राओं को तरास रहे हैं । कहा कि वह दिन दूर नहीं जब जनपद बस्ती के नृत्य कलाकार देश-विदेश के बड़े मंच पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाएंगे। नृत्य गुरू मास्टर शिव ने बताया कि  कला के हर क्षेत्र में नवीन प्रयोग द्वारा अपनी कला का एक अपूर्व श्रृंगार कला साधकों द्वारा किया जा रहा है जिसे कला प्रशंसको द्वारा सहर्ष स्वीकारा जा रहा है कथक नृत्य में भी शास्त्र की सीमा में रहते हुए भाव प्रदर्शन के क्षेत्र में नितिन नवीन प्रयोग किए है।
नृत्य का प्रशिक्षण ले रही जिज्ञासा, अवनी गुप्ता, शान्वी वर्मा, ,सुहानी वर्मा ,अरिहंत, पलक चौधरी, पंखुड़ी मिश्रा, आदिती बाजपेई, सिमरन चौधरी, अन्वी गुप्ता, ऐश्वर्या गुप्ता, पीहू पटेल, आयुष चौधरी ,त्रिशा, दृष्टि श्रीवास्तव को उनके कुशल नृत्य प्रदर्शन पर कत्थक घराने की १३  वीं पीढ़ी  के गुरू पंडित अनुज मिश्रा एवं नेहा सिंह द्वारा प्रशस्ति पत्र देकर उनका हौसला बढ़ाया गया।
इस अवसर प्रेमलता सिंह ,डॉक्टर शैलजा, सतीश, अभिषेक ओझा, राहुल श्रीवास्तव, शैलजा सिंह राजपूत, पूजा वर्मा, पवन गुप्ता, इंद्रेश यादव, धनुषधारी चतुर्वेदी, पिंकी, ज्योति, सुधा, रजनी, रामधनी, श्वेता श्रीवास्तव, विपिन सोनी आदि मौजूद रहे।