Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
मातृ शिशु स्वास्थ्य सेवाओं के लिए वरदान है एमसीपी कार्ड नवजात शिशु में जन्‍मजात विकृतियों को दूर करता है फोलिक एसिड गुरू जी की अकड पडी ढीली कर दिए गये निलम्बित दहेज उत्पीड़न के दो मामलों में 10 ससुरालियों पर केस पेन्शनर एसोसिएशन की बैठक 5 को पुरानी पेशन नीति बहाली की मांग को लेकर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को ज्ञापन सौंपेगे शिक्षक युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य एवं जीवन कौशल पर विशेष कार्यशाला का शुभारम्भ इलाज के दौरान समझा टीबी मरीजों का दर्द,  अब बने मददगार  नोडल अधिकारी नीना शर्मा ने रुधौली ब्लाक में चौपाल लगाकर सुनीं समस्याऐ जिले की नोडल अधिकारी के निरीक्षण में सब कुछ मिला गुड ही गुड

सभी धर्मो का सम्मान करने की धारणा केवल मंच तक नही बल्कि मन तक ले जाने की जरूरत

कबीर बस्ती न्यूजः

बस्ती । सर्वधर्म समभाव को समर्पित संगीतमयी साईं कथा का भव्य आयोजन गौरी दत्त धर्मशाला में हुआ। सांई कृपा संस्थान के तत्वावधान में आयोजित कार्यक्रम में प्रख्यात कथावाचक उमाशंकर जी महराज ने हिन्दू मुस्लिम सिक्ख इसाई सभी धर्मों के विशिष्ट जनों को अंग वस्त्र व प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया।
उमाशंकर जी महराज ने कहा सभी धर्मो का सम्मान करने की धारणा केवल मंच तक सीमित न रहे इसे मन तक ले जाने की जरूरत है। सांईकथा का रसपान कराते हुये उन्होने कहा सांईबाबा का सम्पूर्ण जीवन समाज की भलाई के लिये समर्पित था। वे समाज को सुखी और निरोगी देखना चाहते थे। बाबा ने सर्वधर्म समभाव और समाज को निरोगी रखने की मंगल कामना के लिये जो धूनि जलाई थी वह आज तक जल रही है। उमाशंकर जी महराज ने कहा सांईबाबा के उपदेश हर देश काल और परिस्थिति में प्रासंगिक रहेगा।
उन्होने 1852 में बाबा के प्राकट्य से लेकर अदृश्य होने तक के सभी घटनाक्रम पर विस्तार से प्रकाश डाला। बीच बीच में संगीत और बाबा से जुड़े सवाल जवाब के माध्यम से वे श्रद्धालुआ्रें का मनोरंजन करते रहे। कथा के समापन के बाद देर रात तक भण्डारा चलता रहा। सैकड़ों भक्तों ने प्रसाद ग्रहण किया। कार्यक्रम को भव्यता प्रदान करने और बढ़चढ़कर हिस्सा लेने के लिये सांई कृपा संस्थान के संयोजक संतकुमार नंदन ने धन्यवाद देते हुये हार्दिक आभार जताया है। सदर विधायक महेन्द्रनाथ यादव, डा. प्रकाश, रमेश श्रीवास्तव, अरूण श्रीवास्तव, संजू श्रीवास्तव, राजेश चित्रगुप्त, रेखा चित्रगुप्त, राजन गुप्ता, अंकुर वार्मा, मनोज श्रीवास्तव, सुमन श्रीवास्तव, अरूण कुमार, अर्चना श्रीवास्तव, गौरी सिंह, अशोक श्रीवास्तव, भूपेन्द्र कुमार, संतोष सिंह, चित्रांश श्रीवास्तव, किरन माया श्रीवास्तव, हेमन्त कुमार, राजा बाबू, कृष्णमुरारी आदि ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया।