Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
कुपोषण के साथ बीमारियों से भी बचाती है कीड़े मारने की दवा माध्यमिक शिक्षक संघ का वार्षिक सम्मेलन एवं विचार गोष्ठी सम्पन्न 7 दिवसीय धार्मिक अनुष्ठान 13 सेः भूमि पूजन में उमड़े श्रद्धालु पूंजीपती मित्रों को फायदा पहुंचाने के लिये देश के आर्थिक ढांचे का सत्यानाश कर रहे हैं पीएम: प्रेमशंक... प्रभारी मंत्री राकेश सचान 08 फरवरी को बस्ती में मण्डल में स्थापित किए जायेंगे 31 एग्री जंक्शन निर्माण कार्य अपूर्ण पाये जाने से डीएम खफा: वेतन रोकने के निर्देश “बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं‘‘जन जागरूकता वाहन को डीएम ने दिखाई हरी झण्डी चित्रांश क्लब की ओर से ‘एक शाम शहीदों के नाम’’ कार्यक्रम आयोजित नहीं सुनी जा रही हैं पेन्शनर्स की समस्याः दिया आन्दोलन की चेतावनी

परिवार नियोजन कार्यक्रम को सुदृढ़ करने में रिपोर्टिंग की अहम भूमिका

पीएसआई इंडिया के सहयोग से ड्रग डिस्ट्रीब्यूटर्स और दवा विक्रेताओं के साथ स्वास्थ्य विभाग ने किया संवाद

कबीर बस्ती न्यूजः

गोरखपुर: परिवार नियोजन के साधन मातृ शिशु और किशोर स्वास्थ्य सुरक्षा में अहम भूमिका निभाते हैं। सरकारी अस्पतालों की तुलना में निजी दुकानों पर इन साधनों की मांग कहीं ज्यादा है। ऐसे में अगर निजी दवा विक्रेता इन उपभोक्ताओं की पूरी जानकारी साझा करते हैं तो सरकारी योजनाएं और सुदृढ़ होंगी। यह कहना है राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबन्धक पंकज आनंद का। डीपीएम पीएसआई इंडिया के सहयोग से आयोजित कार्यशाला में ड्रग डिस्ट्रीब्यूटर्स व दवा विक्रेताओं के साथ संवाद कर रहे थे।कार्यशाला में परिवार नियोजन के साधनों के निजी उपभोक्ताओं से जुड़ी सूचनाएं सरकार से साझा करने पर सहमति बनी।
जिला कार्यक्रम प्रबन्धक ने कहा कि अगर ड्रग डिस्ट्रीब्यूटर्स और दवा विक्रेताओं की तरफ से साधनों के उपभोक्ताओं के लिंग, आयु वर्ग और पसंदीदा साधन की जानकारी महीने में एक बार साझा की जाती है तो इससे नीति निर्माण में मदद मिलेगी और समुदाय को भी इससे फायदा होगा। जिले के सभी सीएचसी, पीएचसी, हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स और एएनएम सब सेंटर्स तक परिवार नियोजन के अस्थायी साधन अंतरा, छाया, माला एन, ईसीपी, आईयूसीडी और कंडोम की सुविधा उपलब्ध है।
दवा विक्रेता समिति (रजि) गोरखपुर के अध्यक्ष योगेन्द्र नाथ दूबे और महामंत्री आलोक चौरसिया ने पीएसआई इंडिया और स्वास्थ्य विभाग को आश्वस्त किया कि वाट्स एप ग्रुप के जरिये सभी आवश्यक सूचनाएं साझा की जाएंगी । उन्होंने कहा कि बदलते दौर में जनसंख्या नियोजन के लिए और मातृ शिशु व किशोर स्वास्थ्य के लिए परिवार नियोजन के साधनों की उपयोगिता काफी बढ़ चुकी है । निजी क्षेत्र में भी यह साधन अलग अलग नामों से मौजूद हैं। पहली बार इन साधनों को उपयोगकर्ताओं के रिपोर्टिंग की पहल हुई है जो स्वागत योग्य है । परिवार नियोजन की दिशा में संस्था के प्रयासों की संगठन ने सराहना की। उन्होंने बताया कि शहरी क्षेत्र में करीब 4000 रिटेल दवा विक्रेता और डेढ़ हजार थोक दवा विक्रेता हैं जो पीएसआई इंडिया संस्था के इस पहल में जुड़ेंगे । कार्यक्रम में 50 से अधिक दवा विक्रेताओं ने प्रतिभाग किया है। जो लोग प्रतिभाग नहीं कर सके उन्हें भी इसके बारे में जानकारी दी जाएगी।
कार्यक्रम का संचालन पीएसआई इंडिया के राज्य प्रतिनिधि सुभ्रीत खरे ने किया । इस अवसर पर चेयरमैन अर्जुन अग्रवाल, संयोजक संतोष श्रीवास्तव, कोषाध्यक्ष राजेश अग्रवाल, संगठन से जुड़े पंकज शर्मा, अमित पोद्दार, राहुल चोखानी, अजय अग्रवाल, कृष्णकांत त्रिपाठी, अंकुर, राजीव, रोहित, रवि, दुर्गेश, दिलीप, शिव शंकर, विनोद, नीलेश, शैलेश, मुकेश, सतीश, आनंद, राकेश, अजय, रोहित दूबे, अनुज, मुरलीधर, राज, संदीप और पीएसआई इंडिया संस्था से स्थानीय प्रतिनिधि रेखा प्रमुख तौर पर मौजूद रहीं।
गुणवत्ता सुनिश्चित कराने में योगदान
जिला कार्यक्रम प्रबन्धक पंकज आनंद ने बताया कि पीएसआई इंडिया संस्था शहरी क्षेत्र में गुणवत्तापरक स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध करवाने और रिपोर्टिंग में गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए प्रयासरत है। इसी कड़ी में बसन्तपुर शहरी स्वास्थ्य केंद्र पर अन्य स्वास्थ्य केंद्रों के चिकित्कों की बैठक कराई जा चुकी है । इसके अलावा प्राइवेट फैसिलिटिज के साथ भी बैठक की गयी ताकि उनसे परिवार नियोजन सम्बन्धित रिपोर्टिंग एचएमआईएस पोर्टल पर नियमित तौर पर करवाई जा सके।