Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
टीकाकरण में शिथिलता एवं लापरवाही पाये जाने पर 06 प्रभारी चिकित्साधिकारियों तथा 04 खण्ड विकास अधिकारि...  धान क्रय केन्द्र के संचालन में शिथिलता एवं लापरवाही पाये जाने पर गिरा तीन अधिकारियों पर कार्यवाही क... अगर बेटा परेशान करे तो मां-बाप डायल करें 14567 एल्डर हेल्पलाईन नम्बर कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु पर डीएम ने वितरित किया राज्य सरकार द्वारा घोषित रू0 50... समान वेतन, अधिकारों की मांग को लेकर संविदा कर्मियों ने मुख्यमंत्री को भेजा 7 सूत्रीय ज्ञापन व्यापारी से 10 लाख की रंगदारी मांगने वाले 3 अभियुक्त पहुंचे जेल छुट्टी बिताकर लौटने वालों की कोविड जांच के बाद ही होगी ज्वाइनिंग खेल के आयोजन में योगदान करने वालों को मिला पुरस्कार, प्रमाण-पत्र 45 बच्चों को ऑपरेशन से मिला नया जीवन महामहिम राज्यपाल श्रीमती आनन्दीबेन पटेल का जिले मे आगमन को लेकर तैयारियों की समीक्षा

कृषि विज्ञान केन्द्र बस्ती पर गेहू के ट्रायल का हुआ निरीक्षण

बस्ती – भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद- भारतीय गेहूं एवं जौ अनुसंधान संस्थान, करनाल के निदेशक डॉ जी.पी. सिंह एवं उनके वैज्ञानिक दल डॉ ज्ञानेंद्र सिंह (वैज्ञानिक, फसल इंप्रूवमेंट क्रॉप) डॉ अमित शर्मा एवं अन्य वैज्ञानिकों द्वारा कृषि विज्ञान केंद्र, बस्ती के प्रक्षेत्र पर विकसित प्रजातियों के एडाप्टिव ट्रायल का अवलोकन किया गया। डॉ जी.पी. सिंह का कहना है कि सभी ट्रायल अच्छी प्रकार से लगे हैं अगले वर्ष से जिले को नई प्रजातियां प्रदान की जायेंगी, केंद्र अपने यहां उन प्रजातियों का उत्पादन कर जनपद के किसानों को उपलब्ध करावे ताकि जनपद में गेहूं का उत्पादन बढ़ सके। डॉ. सिंह एवं उनकी टीम ने केंद्र पर स्थापित सभी इकाइयों का अवलोकन किया और कहा कि किसानों की आय बढ़ाने में प्रदर्शन इकाईयां बहुत महत्वपूर्ण साबित होती हैं। किसान भाई प्रैक्टिकल ट्रेनिंग प्राप्त कर आई.एफ.एस. (IFS) मॉडल अपने क्षेत्र पर लगावे तथा अपनी आर्थिक स्थिति को समृद्ध करें। इस अवसर पर माननीय निदेशक महोदय द्वारा विश्व जल दिवस का उद्घाटन किया और “जल ही जीवन है” और बूंद-बूंद वर्षा जल को संचित करने पर बल दिया ताकि भूमिगत जल का विकास हो सके और सभी प्राणियों एवं फसलों को मीठा जल प्रदान हो सके। केंद्र के अध्यक्ष डॉ. एस.एन. सिंह ने करनाल की टीम को परिसर भ्रमण कराया तथा केंद्र के सभी वैज्ञानिक श्री आर.वी. सिंह (कृषि प्रसार), डॉ डी.के. श्रीवास्तव (पशुपालन), डॉ राकेश शर्मा (प्रक्षेत्र प्रबंधक) ने सभी इकाइयों के बारे में जानकारी निदेशक महोदय को प्रदान किया। निदेशक महोदय ने बताया कि आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, कुमारगंज, अयोध्या का यह सबसे अच्छा केंद्र है इसके कंधों पर अधिक जिम्मेदारी है यह केंद्र देश में मॉडल कृषि विज्ञान केंद्र के रूप में विकसित होकर जनपद के किसानों के विकास में सतत कार्य करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.