Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
समय से समस्याओं का निराकरण कर हम लोगो की कर सकते है वास्तविक सेवा: गोविंदराजू एन.एस. थाना समाधान दिवस पर डीएम,एसपी ने की जनसुनवाई नवागत मंडलायुक्त योगेश्वर राम मिश्र ने मण्डलायुक्त पद का ग्रहण किया कार्यभार सांसद ने किया खेल महाकुंभ तैयारियों का निरीक्षण हर मोड़ पर खरा उतर रहा है भारतीय संविधान-डा. वी.के. वर्मा बाबा साहब के बनाये संविधान को ध्वस्त करना चाहती है केन्द्र व प्रदेश सरकार: प्रेमशंकर द्विवेदी संविधान दिवस पर संगोष्ठी का आयोजन लंदन की डिग्री, गोल्ड मेडल से सम्मानित हुये डा. वी.के. वर्मा वंचित छात्रों को शुल्क प्रतिपूर्ति, छात्रवृत्ति दिलाने की मांग को लेकर पद यात्रा निकालेगी मेधा सफाई कर्मचारी संघ: डीपीआरओ को सौंपा 12 सूत्रीय ज्ञापन, समस्याओं के निस्तारण की मांग

पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस मूल्य वृद्धि के खिलाफ सपा ने प्रदर्शन कर सौंपा ज्ञापन

बस्ती – सोमवार को प्रदेश नेतृत्व के आवाहन पर समाजवादी पार्टी नेताओं, कार्यकर्ताओं ने पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस मूल्य वृद्धि, महिला उत्पीड़न, बिगड़ती कानून व्यवस्था, बकाया गन्ना मूल्य भुगतान, बेरोजगारी आदि के सवालों को लेकर जिलाधिकारी कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन कर जिलाधिकारी के प्रशासनिक अधिकारी के माध्यम से राज्यपाल को 5 सूत्रीय ज्ञापन सौंपा। ‘लिखो मुकदमा डालो जेल, यह जालिम का अंतिम खेल’ ‘ खून बेचना है क्योेंकि पेट्रोल खरीदना है’ पेट्रोल, डीजल, ‘रसोई गैस मूल्य वृद्धि वापस लो’ जैसी हाथों में तख्तियां लिये समाजवादी नेता सरकार विरोधी नारे लगा रहे थे। कंधे पर गैस सिलेन्डर लिये सपा नेताओं ने मूल्य वृद्धि के सवाल पर सरकार को घेरा।
ज्ञापन देेने से पूर्व सपा जिलाध्यक्ष महेन्द्रनाथ यादव ने कहा कि पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस मूल्य वृद्धि से जनता त्राहि-त्राहि कर रही है। इस वृद्धि का दुष्प्रभाव समाज के सभी वर्गो पर पड़ रहा है। भाजपा की सरकार में मंहगाई सर चढकर बोल रही है और बहू बेटियों की आबरू सुरक्षित नही है। कहा कि बेरोजगारी लगातार बढ रही है। चार महीने से अधिक का समय हो गया सरकार किसानों की नहीं सुन रही है और युवाओं को रोजगार नहीं मिल रहा है। लगातार झूठ बोलने वाली भाजपा को प्रदेश की जनता आने वाले विधानसभा के चुनाव में करारा जबाब देने का मन बना चुकी है। मांग किया कि सरकार व्यापक जनहित में पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस मूल्य वृद्धि का निर्णय वापस ले।
राज्यपाल को भेजे 5 सूत्रीय ज्ञापन में पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस मूल्य वृद्धि को तत्काल प्रभाव से वापस लिये जाने, खाद्य सामग्री मूल्य वृद्धि पर नियंत्रण कर उपभोक्ताओं को राहत देने, महिलाओं पर बढ रहे अत्याचार पर अंकुश लगाने, किसानों के बकाया गन्ना मूल्य का व्याज सहित भुगतान सुनिश्चित कराने, बढती बेरोजगारी, व्यापारियों के उत्पीड़न, गिरती कानून व्यवस्था पर सरकार तत्काल प्रभाव से कदम उठाये जाने आदि की मांग शामिल है।
ज्ञापन देने वालों में मुख्य रूप से पूर्व विधायक राजेन्द्र चौधरी, जितेन्द्र कुमार उर्फ नन्दू चौधरी, दूधराम, के साथ ही सुमन सिंह, जावेद पिण्डारी, समीर चौधरी, अरविन्द सोनकर, कविन्द्र चौधरी ‘अतुल’ यज्ञेश पाण्डेय, विजय विक्रम आर्य, दीनानाथ चौरसिया, सुरेन्द्र सिंह ‘छोटे’ राजेन्द्र चौरसिया, राजेन्द्र यादव, रजवन्त यादव, रामनाथ प्रजापति, धर्मराज यादव, मो. शाहिर, राजेन्द्र चौधरी, मो. उमर, मो. सलीम, रन बहादुर यादव, अमरेन्द्र कुमार पाण्डेय शिबलू, राघवेन्द्र सिंह, मो. जावेद, अखिलेश यादव, भोला पाण्डेय, मो. हारिश, मो. जहीर, रघुनन्दन राम साहू, सुशील यादव, मो. युनूस, शफीक अंसारी, राम गोपाल कसौधन, प्रधान तूफानी, प्रशान्त यादव, रजनीश यादव, आमिश खान, राम उजागिर गौतम, मो. स्वालेह, चन्द्रेश सोनी, रमेश कुमार गौतम, जीबू खान, याकूब अहमद, नसीबुल्लाह, अमित यादव, घनश्याम यादव, वीरेन्द्र कुमार चौधरी, जर्सी यादव, बदामा पाण्डेय, शबनम, प्रशान्त यादव, अब्दुल कलाम के साथ ही पार्टी के अनेक पदाधिकारी, कार्यकर्ता शामिल रहे।