Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
लगातार चौथी बार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य बने वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रेमशंकर द्विवेदी 08 अक्टबूर को लखनऊ जायेंगे कांग्रेस सेवादल के कार्यकर्ता व पदाधिकारी पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ हेतु सपा समर्थको ने किया हवन जयंती पर आचार्य रामचन्द्र शुक्ल को किया नमन् उपेक्षित प्रतिमा को विकसित करने की मांग   आचार्य रामचन्द्र शुक्ल को जयंती पर किया नमन गायत्री शक्तिपीठ पर महानवमी के दिन किया गया हवन, पूजन पुलिस अधीक्षक ने वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच किया बहादुरपुर पुलिस चौकी का उद्घाटन गैंगरेप का 1 आरोपी डाक्टर गिरफ्तार, दो अभी भी फरार सवारियां बिठा कर जा रही दो ट्रैक्टकर ट्राली समेत 3 वाहन सीज गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी को पद से बर्खास्त करने की मांग

शौचालय और आवास आवंटन में किया गया बड़ा घोटाला

जिला संवाददाता श्रीकांत पांडेय

दो दर्जन से अधिक शौचालय अपूर्ण, जिम्मेदारों के आंख कान बन्द,यहां अपात्रों को भी दिया गया आवास योजना का लाभ, पात्र हुए वंचित

सिद्धार्थनगर। प्रदेश सरकार द्वारा संचालित जन कल्याणकारीयोजनाओं का बुरा हाल हैं। शौचालय और आवास योजना भ्रष्टाचार का शिकार हो गया है। प्रधान से लेकर जिम्मेदार अधिकारियों तक सरकारी धन को लूटने मे काई कसर नही छोडा जा रहा है। जिसका उदाहरण है विकासखंड डुमरियागंज के
महतिनिया ग्राम सभा। जहां ग्राम सभा के लालाजोत तेनुआ मे शौचालय और आवास योजनाओं मे बडा खेल किया गया है। ग्राम प्रधान द्वारा न तो शौचालय का पूर्णरूप से निर्माण कराया गया और न ही पात्र व्यक्तियों को आवास दिया गया। आधा अधूरा शौचालय बना कर संबंधित अधिकारियों की मिलीभगत से पैसे का बंदरबांट किया गया। जहां एक तरफ प्रदेश सरकार बहन बेटियों के सम्मान में घर-घर शौचालय बनवा रही है तो वहीं इस तरह के लोभी प्रधान अधिकारियों के सहयोग से सरकार की आवास और शौचालय योजना का माखौल उड़ा रहे हैं। गांव के ही दीप नारायण पांडे, दादू, गुल्ला, जखीम, काले खान, बेचन गफ्फार मोहम्मद सत्तार, लक्ष्मी, मोहम्मद सत्तार, मसूद गाजी, रफीक हसरत, कन्हैया, राजू,जेबुन्निसा आदि ग्रामवासियों ने प्रधान पर आधा अधूरा शौचालय बनवाने औरआवास आवंटन में अपात्रों को आवास जारी करने का आरोप लगाया और बताया कि 318 शौचालय पहले आया था और 45 बाद में लेकिन न तो सभी शौचालय का नियमानुसार आवंटन हुआ न ही पात्र व्यक्तियों को आवास जारी हुआ। ग्रामीणों ने उच्चाधिकारियों को शिकायती पत्र भेजकर जांच कराकर उचित कानूनी कार्यवाही कराने की मांग की है।