Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
डीआरएमएस हास्पिटल अब जिला प्रशासन को दे रहा है चुनौती  मरीजों से कर रहा है छल बंदियों की संख्या को देखते हुए राज्य सरकार ने नई जेलों के निर्माण का लिया फैसला भूतत्व एवं खनिकर्म विभाग की बडी कार्रवाई: अभियान में 150 से अधिक आरोपियों के खिलाफ मुकदमा उत्तर प्रदेश में 65 घंटे से चल रही बिजली कर्मियों की हड़ताल खत्म 45 साल महिला की गला रेतकर हत्या प्राणघातक चोट पहुंचाने के मामले में 3 महिलाओं सहित 9 लोगों की जमानत अर्जी खारिज कुशीनगर: अधिशासी अभियंता सहित तीन के खिलाफ मुकदमा लखनऊ: ऊर्जा मंत्री के साथ संषर्घ समिति के नेताओं की बैठक निकला बेनतीजा, बिजली संकट बरकरार अमेठी: ट्रेनी विमान डायमंड-40 दुर्घटनाग्रस्त: पायलट व एक प्रशिक्षु पायलट की मौत लखनऊ: पुलिस के मनमानी पर हाईकोर्ट का पॉवर ब्रेक, डीजीपी को जारी करना पडा निर्देश

दूध पिलाने वाली माताएं भी लगवा सकेंगी कोविड का टीका

– नेशनल एक्सपर्ट ग्रूप ऑन वैक्सीन एडमिनिस्ट्रेशन फॉर कोविड-19 ने दी सलाह
– टीकाकरण के 14 दिन बाद कर सकते हैं रक्तदान

बस्ती। दूध पिलाने वाली माताएं भी कोविड का टीका लगवा सकेंगी। नेशनल एक्सपर्ट ग्रूप ऑन वैक्सीन एडमिनिस्ट्रेशन फॉर कोविड-19 ने टीकाकरण के लिए अपनी मंजूरी दे दी है। अभी तक अन्य लोगों के साथ दूध पिलाने वाली माताओं को भी टीका नहीं लगाया जा रहा था। एक्सपर्ट ग्रुप की सिफारिश के अनुसार कोविड मरीज को ठीक हो जाने के तीन माह बाद ही कोविड का टीका लगाया जाएगा।

अगर उसने पहला डोज लगवा लिया है तो उसे दूसरा डोज तीन महीने बाद लगेगा। गंभीर रूप से बीमार ऐसे लोग जिन्हें अस्पताल या आईसीयू की जरूरत है, ऐसे लोगों को स्वस्थ होने के चार से आठ सप्ताह बाद टीका लगवाने की सलाह दी गई है। टीकाकरण के लिए रणनीति तैयार करने में यह एक्पर्ट ग्रूप अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। कोविड आपदा में लगातार बदलते हालात तथा वैश्विक स्तर पर टीकाकरण से जुड़े वैज्ञानिक साक्ष्यों तथा अनुभवों के आधार पर नेशनल एक्सपर्ट ग्रूप द्वारा एडवॉयजरी जारी की जाती है। इस पर राज्य सरकारों द्वारा अमल कराया जाता है।

टीका लगवाने के 14 दिन बाद कर सकते हैं रक्तदान

अगर आप ने कोविड का टीका लगवाया है तो टीका लगवाने के 14 दिन बाद रक्तदान कर सकते हैं। इसी के साथ अगर कोई भी कोविड मरीज निगेटिव होने के 14 दिन बाद रक्तदान कर सकता है। उसकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट निगेटिव होनी चाहिए। कोविड काल में कोई भी स्वस्थ व्यक्ति बिना झिझक के रक्तदान कर सकता है। आपदा में आमतौर से रक्तदान कम हो जाता है, और ब्लड बैंक में रक्त की कमी हो जाती है। इसका कारण लोगों के बीच फैली भ्रांतिया मुख्य वजह होती है। एक्सपर्ट ग्रुप द्वारा इस संबंध में सलाह देकर लोगों की भ्रांतियां दूर करने का प्रयास किया गया है।