Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
यूपी की भाजपा सरकार को तिरंगा यात्रा भी लगता है अवैध- संजय सिंह जागरूकता का परिचय दें अन्त्योदय कार्ड धारक, बनवाएं आयुष्मान कार्ड 30 अक्टूबर तक जिले के सभी बैंक शाखाओं पर आयोजित किया जायेंगा कैम्प सपा की मासिक बैठक में बनी रणनीति इस बार दीपवाली में 11 फिट के दिये के साथ जगमगाएगा अमहट घाट श्रमिको के लिए कल्याणकारी योजनाओं को संचालित कर रही है प्रदेश सरकार-सुनील कुमार भराला टीकाकरण कर्मियों की लगन का फल है सफल टीकाकरण एक माह में नौ हजार अंत्योदय लाभार्थियों ने किया आवेदन श्री रामलीला महोत्सव में गुरुवार को राम बारात एवं राम विवाह का किया गया मंचन 100 करोड़ कोविड टीकाकरण में जिले ने दिया 8.55 लाख का योगदान

राशन कोटेदार पर मनमानी का आरोप, कार्यवाही की मांग

बस्ती। बहादुरपुर विकास खण्ड के ग्राम पंचायत सोनहा के नागरिकों ने राजबहादुर के नेतृत्व में सोमवार को जिलाधिकारी और जिला पूर्ति अधिकारी को ज्ञापन देकर राशन कोटेदार रोशन अली पर खाद्यान्न हड़प लेने का आरोप लगाते हुये मामले की जांच, कार्रवाई और राशन कोटा निरस्त करने की मांग किया है।
ज्ञापन में ग्रामीणों ने कहा है कि कलवारी थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत सोनहा के राशन कोटेदार रोशन अली द्वारा बड़े पैमाने पर मनमानी की जा रही है। पिछले दो वर्षो से मशीन पर अंगूठा लगवाकर तीन महीने में एक बार निर्धारित मूल्य से अधिक मूल्य लेकर नियत मात्रा से भी काफी कम राशन दिया जाता है। कभी भी मशीन से निकली पर्ची नहीं दिया जाता, ग्रामीणों द्वारा विरोध करने पर कोटेदार द्वारा देख लेने की धमकी दी जाती है। राशन कोटेदार का कहना है कि वह अधिकारियों को हिस्सा देता है, उसका कोई कुछ नहीं बिगाड पायेगा। ग्रामीणों ने ज्ञापन में कहा है कि गत 12 मई को शिकायती पत्र दिया गया था, उस पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। कोटेदार धमकी दे रहे हैं कि शिकायत वापस ले लो वरना तुम सभी लोगों का राशन कार्ड निरस्त करवा देंगे। ग्रामीणों ने मांग किया है कि उक्त कोटा निरस्त कर नये सिरे से कोटे की दूकान का चयन कराकर दोषी कोटेदार के विरूद्ध कार्रवाई की जाय।
ज्ञापन सौंपने वालों में सोनहा, अईलिया, भेड़वा गांव के सरिता देवी, फूलचन्द, राजेश कुमार, राम कुमार, पूनम देवी, विवेक पाण्डेय, पंकज मौर्य, साहबराम, पर्मिला, अवधेश कुमार मौर्य, राम प्रीत, हृदयराम, कैलाशनाथ आदि शामिल रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.