Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
लंदन की डिग्री, गोल्ड मेडल से सम्मानित हुये डा. वी.के. वर्मा वंचित छात्रों को शुल्क प्रतिपूर्ति, छात्रवृत्ति दिलाने की मांग को लेकर पद यात्रा निकालेगी मेधा सफाई कर्मचारी संघ: डीपीआरओ को सौंपा 12 सूत्रीय ज्ञापन, समस्याओं के निस्तारण की मांग पीएम आयुष्मान योजना: पहले से बना था कार्ड, मिला आयुष्मान का वरदान आदर्श पौधशाला तथा राजकीय सार्वजनिक उद्यान चंगेरवा का डीएम ने किया निरीक्षण डीएम के निर्देश पर रूधौली तहसील मे चला बृहद अवैध अतिक्रमण हटाओ अभियान डीएम ने दिया वाल्टरगंज चीनी मिल के कर्मचारियों का वेतन दिलाने का आश्वासन बीआरसी में तीन दिवसीय टीएलएम निर्माण कार्यशाला शुरू संविदा कर्मियों से परिषदीय शिक्षकों, शिक्षा मित्रों, अनुदेशकों की जांच का मामला गरमाया गांव – गांव में परिवार नियोजन की अलख जगा रहा है सारथी वाहन

तीन दिवसीय सीरो कन्वर्जन व सर्वे की पूरी हुई तैयारियां, आज होगी शुरुआत

– तीन दिनों तक चलने वाले सर्वे में 31 गांवों के लोगों के लिए जाएंगे रक्त नमूने

– 42 गांवों के 42 कोविड प्रभावित व्यक्तियों का सीरो कन्वर्जन के लिए लेंगे सैम्पल

संवाददाता,संतकबीरनगरकोविड – 19 पर नियन्त्रण के लिए जनपद में सीरो सर्वे व कन्वर्जन के लिए सैम्पलिंग की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। 9 जून से 11 जून तक तीन दिनों तक चलने वाले सीरो सैम्पलिंग के दौरान यह पता चलेगा कि लोगों के शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास आखिर कितना हुआ है। जनपद में चिन्हित किए गए 31 गांवों में सीरो स्टडी के लिए तथा 42 गांवों के 42 कोविड प्रभावित व्यक्तियों का सीरो कन्वर्जन के लिए सैम्पल लिए जाएंगे।

      जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ अनिल कुमार चौधरी ने बताया कि कोरोना से बचाव के प्रभावी उपायों की रणनीति के तहत शासन ने प्रदेश के लोगों में रोग प्रतिरोधक क्षमता के आकलन के लिए किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी लखनऊ के सहयोग से सीरो सर्वे की योजना बनाई। सीरो सर्वे के दौरान सैम्पलिंग के साथ ही कुछ सवालों के जवाब भी लिए जाएंगे। उन्हीं जवाबों के साथ सैम्पल को केजीएमयू लैब भेजा जाएगा। जांच के बाद लोगों में रोग प्रतिरोधक क्षमता का आंकलन किया जाएगा । जिससे यह पता चल सके कि लोग कितने सुरक्षित हैं। नौ जून से 11 जून तक होने वाले सीरो सर्वे के लिए जिले में 31 गांवों को चिह्नित किया गया है। इसमें से हर गांव के 24 व्यक्तियों के सैम्पल लिए जाएंगे। केजीएमयू की लैब की रिपोर्ट के आधार पर कोविड को रोकने के लिए आगे की रणनीति तय की जाएगी। ताकि कोरोना की तीसरी लहर से लोगों को बचाया जा सके। स्वास्थ्य विभाग ने सीरो सर्वे के लिए प्रत्येक ब्लॉक के लिए अलग-अलग टीम बनाईं गई हैं तथा टीम में शामिल सदस्यों का नमूना लेने, सवाल पूछने तथा नमूनों को संरक्षित करने से सम्बन्धित त्रिस्तरीय प्रशिक्षण भी हो चुका है।

अधीक्षकों को बनाया गया है नोडल

सीरो सर्वे के लिए हर ब्लाक की अलग अलग टीम बनाई गई है। इसमें उस ब्लाक / सीएचसी/ पीएचसी क्षेत्र के अधीक्षक को नोडल अधिकारी बनाया गया है। साथ ही एक लैब टेक्नीशियन, एक एएनएम व गांव की आशा कार्यकर्ता शामिल की गई हैं।

सीरो सर्वे के लिए जाएंगे हर गांव से 24 नमूने

सीरो सर्वे के लिए चिन्हित किए गए 31 गांवों से 24 लोगों के रक्त का नमूना लिया जाएगा। इसके लिए गांव को आबादी और भौगोलिक क्षेत्रफल के हिसाब से चार भागों में बांटा जाएगा। हर हिस्से से 6 लोगों के रक्त का नमूना लिया जाएगा। इसमें, कोविड प्रभावित, अप्रभावित, वयस्क, बुजुर्ग, युवा सभी आयु वर्ग के लोगों को शामिल किया जाएगा।

कोरोना से लड़ाई में होगी महत्वपूर्ण भूमिका

एपीडेमियोलाजिस्ट ( जिला महामारी रोग विशेषज्ञ ) डॉ मुबारक अली ने बताया कि कोरोना से हो रही लड़ाई में सीरो सर्वे की महत्वपूर्ण भूमिका है। यही आगे की रणनीति बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा। इसी की रिपोर्ट के आधार पर बचाव की अगली रणनीति बनाई जाएगी। रिपोर्ट बताएगी कि लोगों में कितनी प्रतिरोधक क्षमता का विकास हुआ है।

पर्यवेक्षण के लिए तैनात हुए अधिकारी

इस कार्य की निगरानी व सहयोगात्मक पर्यवेक्षण के लिए विभिन्न ब्लाकों में कुल 13 अधिकारियों की तैनाती की गई है। इसके तहत डॉ मुबारक अली व सुनील चौधरी को बघौली, डीपीएम विनीत श्रीवास्तव व डॉ जनमेजय सिंह को सेमरियांवा, संजीव सिंह व सुरजीत सिंह को हैसर, डॉ वी पी पाण्डेय तथा अंगद सिंह को खलीलाबाद, सुमन शुक्ला को पौली, डॉ अबू बकर को सांथा, दीनदयाल वर्मा को नाथनगर, डॉ अनिल कुमार चौधरी को मेंहदावल तथा जयेन्द्र को बेलहर कला की जिम्मेदारी दी गई है। यह रोज शाम 5 बजे प्रगति व कार्य रिपोर्ट सौंपेंगे।