Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
कुपोषण के साथ बीमारियों से भी बचाती है कीड़े मारने की दवा माध्यमिक शिक्षक संघ का वार्षिक सम्मेलन एवं विचार गोष्ठी सम्पन्न 7 दिवसीय धार्मिक अनुष्ठान 13 सेः भूमि पूजन में उमड़े श्रद्धालु पूंजीपती मित्रों को फायदा पहुंचाने के लिये देश के आर्थिक ढांचे का सत्यानाश कर रहे हैं पीएम: प्रेमशंक... प्रभारी मंत्री राकेश सचान 08 फरवरी को बस्ती में मण्डल में स्थापित किए जायेंगे 31 एग्री जंक्शन निर्माण कार्य अपूर्ण पाये जाने से डीएम खफा: वेतन रोकने के निर्देश “बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं‘‘जन जागरूकता वाहन को डीएम ने दिखाई हरी झण्डी चित्रांश क्लब की ओर से ‘एक शाम शहीदों के नाम’’ कार्यक्रम आयोजित नहीं सुनी जा रही हैं पेन्शनर्स की समस्याः दिया आन्दोलन की चेतावनी

श्रीकृष्ण प्रेम मंें पागल बनोगे तो मिलेगी शांति:स्वामी राघवाचार्य

 

सात दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती। भोग भक्ति में बाधक है। बिना वैराग्य के भक्ति रोती है। परमात्मा जिसे अपना मानते हैं उसे ही अपना असली स्वरूप दिखाते हैं। मनुष्य परमात्मा के साथ प्रेम नहीं करता इसीलिये ईश्वर का अनुभव नहीं कर पाता। श्रीकृष्ण प्रेम मंें पागल बनोगे तो शांति मिलेगी। सब साधनों का फल प्रभु प्रेम है। यह सद्विचार यह सद् विचार जगत गुरू स्वामी राघवाचार्य जी महाराज ने शिव नगर तुरकहिया में भाजपा जिलाध्यक्ष महेश शुक्ल के आवास पर आयोजित 7 दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा के ंतीसरे दिन व्यासपीठ से व्यक्त किया।
परमात्मा के यश कीर्तन और भक्ति महिमा का विस्तार से वर्णन करते हुये महात्मा जी ने कहा कि सच्चे सदगुरू का कोई स्वार्थ नहीं होता। सतसंग से संयम, सदाचार, स्नेह और सेवा के भाव का विस्तार होता है। निरन्तर जप से जन्म कुण्डली के ग्रह भी सुधर जाते हैं।
भक्त प्रहलाद, हिरण्यकश्यप आदि के अनेक उदाहरण देते हुये महात्मा जी ने कहा कि प्रभु भजन में आनन्द आये तो भूख प्यास भूल जाती है। मानव जीवन का उद्देश्य केवल धन संग्रह नही है। धर्म मुख्य है। धन को धर्म की मर्यादा में रहकर ही प्राप्त करना चाहिये। जगत में दूसरों को रूलाना नहीं, खुद रो लेना, रोने से पाप जलता है।
भाजपा जिलाध्यक्ष महेश शुक्ल , माता श्यामा देवी ने विधि विधान से परिजनों, श्रद्धालुओं के साथ व्यास पीठ का वंदन किया। श्रद्धालु भक्तों अरविन्द पाल, आलोक सिंह, गणेश नारायण मिश्रा, प्रत्युष विक्रम सिंह, अरविंद श्रीवास्तव, आर. के. पाण्डेय, अखण्ड पाल,सुधाकर पाण्डेय, ब्रह्मानंद शुक्ल, अखण्ड प्रताप सिंह, जान पाण्डेय, अवनिश शुक्ल, सतीश सोनकर, चंद्र शेखर मुन्ना, गिरीश पाडेय आदि ने भागवत कथा का रस पान किया।