Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
श्री अग्रसेन जी महाराज जयन्ती पर मरीजों में किया फल का वितरण दौड़ में संध्या, अंशू रहीं अव्वल, रेवरादास, निदूरी टीम का रहा दबदबा राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद साऊंघाट के  अधिवेशन में उठा पुरानी पेंशन नीति का मुद्दा 70 की उम्र में दी टीबी को मात..... बीपीएम ने गोद लेकर टीबी मरीज की की थी मदद 1 अक्टूबर को किसान मोर्चा द्वारा बृहद वृक्षारोपण कराने की बनी योजना सांसद ने किया गांव के लोगों के जीवन में गुणात्मक और रचनात्मक परिवर्तन लाने के लिए पूरी ईमानदारी और न... जनपद न्यायाधीश व जिलाधिकारी ने संयुक्त रूप से किया राजकीय सम्प्रेक्षण गृह (किशोर) का औचक निरीक्षण जिलाधिकारी कार्यालय पर होता है मुख्यमंत्री पोर्टल का मजाक मातृ-शिशु स्वास्थ्य के लिए मिसाल बनीं डॉ शशि सिंह 1 से 31 अक्टूबर तक चलाया जाएगा विशेष संचारी रोग नियन्‍त्रण अभियान

दिन दहाडे हो रही है करोडों के टैक्स की चोरी, सरकारी खजाने पर स्वंय चोट पहुंचा रहे हैं जिम्मेदार

  • सेल्स टैक्स विभाग भूल गया अपना दायित्व

– टेक्स की चोरी कर कर जिम्मेदार और व्यवसाई हो रहे हैं मालामाल

– कोई भी व्यवसायिक प्रतिष्ठान नही देता ग्राहक को पक्की रसीद

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती। यहां यह कहावत चरितार्थ हो रहा है अंधेर नगरी चैपट राजा। यह पंक्ति जिले के सेल्सटेक्स विभाग पर सटीक बैठ रहा है। जहां विभाग के मिली भगत से हजारों व्यवसायिक प्रतिष्ठान सरकारी खजाने पर प्रतिदिन करोडों की गहरी चोट पहुंचा रहे है। इस कारनामें मे व्यवसायिक प्रतिष्ठाानों के अलावा विभाग के लम्बरदार लोग भी शामिल हैं। जो व्यवसाईयों को टेक्स चोरी करने का रास्ता भी बताते हैं। इसका सारा खामियाजा उपभोक्ताओं को भुगतना पड रहा है। यह कहा जाना भी गलत नहीं होगा। सरकार की रडार पर न आएं इसके लिए ये शातिराना ढंग से पैंतरे भी बदलते रहते हैं। सूत्रों की मानें तो सेलटैक्स विभाग के कुछ लोगों की मिलीभगत से इस खेल को अंजाम दिया जा रहा है।
बुधवार को सेल्स टेक्स चोरी की हकीकत जानने निकली कबीर बस्ती न्यूज की टीम के समक्ष चैकाने वाला नजारा सामने आया। शहर के जिला पूर्ति कार्यालय के निकट स्थित एक जलपान गृह के बड़े प्रतिष्ठान के भीतर टीम दोपहर बाद 01.30 बजे दाखिल हुई। प्रतिष्ठान के भीतर कुछ कुर्सियों को छोड़कर बाकी कुर्सियों पर लोग बैठकर चाऊमिन, डोसा, टिकिया सहित अन्य व्यंजनों का आनन्द ले रहे थे। यहां तक तो ठीक था, लेकिन ग्राहकों को जो बिल थमाया जा रहा था वह कागज का एक छोटा सा टुकड़ा था, जिसपर हाथ से रकम दर्ज की गई थी। टीम ने भी वेटर से टिकिया मंगाया। जब वेटर से बिल लाने के लिए कहा गया तो उसने एक छोटा सा कागज का टुकड़ा थमा दिया। जिसमें रकम दर्ज थी। वेटर से जब पक्की रशीद मांगी गई, तो उसने कहा सभी ग्राहकों को यही रशीद दी जाती है। दुकान मालिक से जब इसे लेकर बात की गई, तो उन्होंने कहा कि लाइए आपको पक्की रशीद दे रहा हूं।
टीम ने जब दुकानदार से कहा कि आप टैक्स की चोरी कर रहे हैं, ग्राहकों को क्यों नहीं पक्की रशीद दे रहे हैं। इसपर दुकानदार ने कोई वाजिब उत्तर नहीं दिया। सिर्फ इतना ही कहा कि लाइए आपको पक्की रशीद दे दे रहा हूं। जिसके बाद उसने दूसरा बिल थमा दिया।
जिले में बहुत से मेडिकल स्टोर, बड़े मिठाई दुकानदार, ज्वैलरी शॉप, किराना, मीट व चिकेन कारोबारियों में 80 प्रतिशत ऐसे हैं, जो ग्राहकों को पक्की रशीद नहीं देते हैं। टैक्स चोरी कर एक तरफ जहां ये काला धन इकट्ठा कर मालामाल हो रहे हैं, तो वहीं दूसरी तरफ सरकार को प्रतिमाहकरोड़ों का चूना लगा रहे हैं, जो जांच का विषय है।
इस सम्बन्ध मे जब सेलटैक्स के असिस्टेंट कमिश्नर विकास द्विवेदी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि जाँच करा कर कार्रवाई की जाएगी। कहते हैं कि पक्की रशीद की मांग करना ग्राहकों का अधिकार है।