Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
जब दोनों ने आपसी रजामंदी से शादी कर ली है तो दुष्कर्म का मामला नहीं बनता: हाईकोर्ट 30 जून तक धारा 144 का प्रतिबंधात्मक आदेश लागू मण्डलायुक्त ने दिया सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के निर्देश पत्रकार को मातृ शोक, पत्रकारों ने श्रद्वांजलि बस्ती गैंगरेप पीड़िता के परिवार से मिला आप प्रतिनिधिमंडल उप मुख्यमंत्री ने किया विकास खण्ड कार्यालय का भव्य उद्घाटन बाढ तैयारियों को लेकर जिला स्तरीय स्टीयरिंग गु्रप की बैठक गौर व बभनान क्षेत्र मे मरीजों के लिए यमराज बने झोलाछाप, प्रशासन बना मूक दर्शक अवैध रूप से संचालित अमित डेण्टल क्लीनिक पर विभाग का छापा, दो दिन के भीतर मांगा जबाब तैयार करें माइक्रों लेबिल कार्ययोजना: मण्डलायुक्त

प्राप्त शिकायतों का विधिपूर्ण समाधान करना ही आयोग का मुख्य उद्देश्य- डॉ0 रामबाबू हरित

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती। उ0प्र0।

उ0प्र0 अनुसूचित जाति एवं जनजाति आयोग के अध्यक्ष डॉ0 रामबाबू हरित ने सर्किट हाउस सभागार में जनपद के अनुसूचित जाति एवं जनजाति से संबंधित शिकायतो का अनुश्रवण/समीक्षा किया। उन्होने कहा कि प्राप्त शिकायतों का विधिपूर्ण समाधान करना ही आयोग का मुख्य उद्देश्य है। अनुसूचित जाति अथवा जनजाति के लोगों का जो भी प्रकरण हमें प्राप्त हो रहा है, निश्चित रूप से उसकी निरन्तर सुनवाई करते हुए समाधान किया जा रहा है।
उन्होने कहा कि मेरे अध्यक्ष पद का कार्यभार ग्रहण करने के उपरान्त जून 2021 से 342 मामले लम्बित थे, जिसमें पुलिस विभाग के 280, राजस्व विभाग के 40 व अन्य विभाग से संबंधित 22 मामले थे। आयोग को प्राप्त प्रार्थना पत्रों (801) में से 440 मामलों को संबंधित विभागों को निस्तारण हेतु कार्यवाही करायी गयी और 361 मामलों में आख्याए प्राप्त कर निस्तारित किया गया। उन्होने बताया कि लम्बित 06 प्रकरणों का निस्तारण कराते हुए पीड़ित परिवार को 09 लाख 75 हजार रूपये की आर्थिक सहायता आयोग के माध्यम से उपलब्ध करायी गयी।

अनुसूचित जाति एंव जनजाति आयोग के उपाध्यक्ष रामनरेश पासवान ने कहा कि जनपद में सर्वाधित मामले लगभग 80 प्रतिशत पुलिस विभाग से संबंधित है। मामलों को निस्तारित कराने में आयोग शासन की मंशा के अनुरूप काफी सक्रिय है। दलित/पीड़ित को यदि न्याय नही मिल रहा है तो ऐसे लोग आयोग में अपनी शिकायत दें सकते है,  जो भी शिकायते प्राप्त होती है तो उन्हें गम्भीरतापूर्वक संज्ञान लेकर त्वरित निस्तारण कराया जाता है। आयोग अनुसूचित जाति एंव जनजाति के हित चिन्तन के लिए विभागीय अधिकारियों को भी निर्देशित करने के साथ ही समाचार पत्रों इलेक्ट्रानिक मीडिया/सोशल मीडिया के माध्यम से भी उत्पीड़न का संज्ञान लेकर त्वरित कार्यवाही कराता है।

बैठक में सदस्य उ0प्र0 अनुसूचित जाति एंव जनजाति आयोग अनीता सिद्धार्थ, एडीएम अभय कुमार मिश्र, एसडीएम सदर पवन जायसवाल, पीडी कमलेश सोनी, बाल संरक्षण अधिकारी बीना सिंह, पुलिस विभाग के अधिकारी, समाज कल्याण विभाग के अधिकारी, महामंत्री चन्द्रशेखर मुन्ना, रामचरण चौधरी, जय प्रकाश तथा अन्य विभागीय अधिकारीगण उपस्थित रहें।