Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
फाइलेरिया प्रभावित अंगों की सही देखभाल करें और राहत पाएँ : डीएमओ गन्ना लदे ट्राले के पलटने से,ड्राइवर की हुई मौत बस्ती के 2 वर्ष 8 माह के बच्चे आर्यन ने बनाया एक और विश्व रिकॉर्ड पुण्य तिथि पर याद किये गये आलोचना सम्राट आचार्य रामचन्द्र शुक्ल शिविर में पथ विक्रेताओं को दिया कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी सम्पूर्ण समाधान दिवस तहसील भानपुर में 04 को प्रकरणों के गुणवत्तापूर्ण निस्तारण न किए जाने पर डेढ़ दर्जन अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस मुख्यमन्त्री मत्स्य सम्पदा योजना प्रारम्भ वरिष्ठता सूची जारी करने की मांग को लेकर बीएएसए को सौंपा ज्ञापन शाइन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस में विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन

पूर्व मंत्री राम प्रसाद चौधरी व उनके परिवार का करीब आधा दर्जन असलहा निरस्त करने की संस्तुति,हडकम्प

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती। उ0प्र0।

उप्र बस्ती जिले के प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री राम प्रसाद चौधरी व उनके परिवार का करीब आधा दर्जन असलहा निरस्त करने की संस्तुति पर पूर्व मंत्री ने कहा  कि उनके ऊपर कोई भी ऐसा मुकदमा नहीं है, जिसमें असलहों का प्रदर्शन पाया गया है, जबकि उनके बेटे के खिलाफ षड्यंत्र कर एक घटना को पुलिस ने दर्शा दिया है। कहा है कि उनकी सुरक्षा खतरे में है, मगर सत्ता के इशारे पर उनके साथ अन्याय किया जा रहा है।  जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में सपा की ओर से पर्चा दाखिल किया गया तो सत्ता पक्ष बौखला गया है। उसी समय से वह लोग पुलिस व प्रशासन पर दबाव बनाकर पार्टी प्रत्याशी, जिलाध्यक्ष सपा का उत्पीड़न करते हुए कई स्थानों पर छापेमारी की। जब वह सफल नहीं हुए तो 28 जून को सत्ता पक्ष के लोगों के इशारे पर मेरा, मेरे पुत्र कविंद्र चौधरी व पत्नी कपूरा देवी का शस्त्र लाइसेंस निरस्त करने की पत्रावली कोतवाली पुलिस से डीएम को संस्तुति कर भेज दी है। कहा कि वे 1980 से लगातार राजनैतिक जीवन में संघर्ष कर रहा हूं। आरोप लगाया कि मेरे व मेरे बेटे पर जो भी मुकदमा दर्शाया गया है वह सब चुनावी रंजिश या आंदोलनों का है। जबकि बेटे कविंद्र पर 207 में थाना कप्तानगंज में आचार संहिता उल्लंघन का मामला दर्ज है जिसके आधार पर लाइसेंस निरस्त करने की संस्तुति की गई है। जबकि पत्नी पर जो आरोप है उसमें उसका दोष मेरे बेटे व मुझ पर दर्ज मुकदमा को दर्शाते हुए असलहा निरस्त करने की संस्तुति दी गई है। कहा कि मेरी सुरक्षा की कोई व्यवस्था नहीं है। यह साजिश है। प्रभारी डीएम सीडीओ डॉ. राजेश प्रजापति ने कहा कि ऐसा कोई मामला मेरे संज्ञान में नहीं है। कोई पत्रावली मेरे सामने अब तक नहीं आई है। फिर भी यदि संस्तुति की गई है तो इसे देखा जाएगा।