Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
सपा की बैठक में निकाय चुनाव पर चर्चाः जावेद पिण्डारी, समीर चौधरी निकाय चुनाव प्रभारी बने अनिश्चितकालीन पूर्ण कार्य बहिष्कार करने के दृष्टिगत सभी विद्युत उपकेन्द्रों पर जोनल/सेक्टर मजिस्ट्रे... अवैध अतिक्रमण करने वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर दर्ज कराएं एफआईआर: डीएम निकाय चुनाव के लिये ‘आप’ ने झोंकी ताकत, कार्यकर्ता सम्मेलन में बनी रणनीति जयन्ती पर याद किये गये प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद गोष्ठी के माध्यम से किसानों को दी गयी महत्वपूर्ण योजनाओं की जानकारी दीदी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा विश्व विकलांग दिवस पर पर दिव्यांगों को किया गया सम्मानित पत्नी के अपहरण की आशंका, पति ने लगाया न्याय की गुहार सिर्फ रक्त और यौन सम्पर्क से फैलता है एड्स, मरीजों से न करें भेदभाव विश्व एड्स दिवस: डीएम ने फीता काटकर किया हस्ताक्षर अभियान का शुभारंभ

विधायक संजय ने किया राज्य पेयजल एवं स्वच्छता मिशन में कम पंूजीवाले ठेकेदारों को अवसर देने की मांग

बड़ी कम्पनियों के आगे बेरोजगार हो गये हैं छोटे ठेकेदार

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती। उ0प्र0।

भारतीय जनता पार्टी विधायक संजय प्रताप जायसवाल ने नियम 51 के तहत प्रमुख सचिव विधानसभा को पत्र भेजकर राज्य पेयजल एवं स्वच्छता मिशन के अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराये जाने हेतु टैंक निर्माण आदि कार्यो में छोटे ठेकेदारों को भी अवसर दिये जाने का आग्रह किया है।
पत्र में विधायक संजय प्रताप ने कहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों में शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराये जाने हेतु टैंक निर्माण हेतु निविदा प्रकाशित हुई थी, पूर्व में निर्माण कार्य कार्यदायी संस्था जल निगम द्वारा कराया जाता था जो अब राज्य पेयजल एवं स्वच्छता मिशन के अन्तर्गत कराया जा रहा है। टैंक निर्माण हेतु प्रकाशित निविदा में कुछ ऐसी शर्तें रखी गई है जिससे छोटी पंूजीवाले पंजीकृत ठेकेदार निविदा में हिस्सा न ले सकें। स्टीमेट में बड़ी पूंजी वाली कम्पनियों की सहमति से 30-35 प्रतिशत अधिक का बनवाकर शासन से स्वीकृत करा लिया गया और बाद में उन्ही कम्पनियों ने टेण्डर हासिल कर लिया।  इस कारण से कम पूंजीवाली पंजीकृत फर्मे निविदा में हिस्सा लेने से वंचित हो गई। विधायक संजय ने कहा है कि उन्हें अवगत कराया गया है कि प्रदेश के कुछ जनपदों में तो बिना निविदा प्रकाशित किये ही बड़ी पूंजी वाली कम्पनियों को कार्य आवंटित कर दिया गया।
विधायक संजय ने पत्र में कहा है कि पूर्व में उक्त कार्य कार्यदायी संस्था जल निगम द्वारा किया जाता रहा है, स्टीमेट व शर्तें जल निगम के द्वारा ही बनाई जाती थी जो कम लागत में तैयार होती थी और इसका लाभ पंजीकृत छोटी पूंजी के पंजीकृत ठेकेदारों को भी मिलता था। सरकार ने कार्यदायी संस्था जल निगम को दर किनार कर योजना को राज्य एवं पेयजल एवं स्वच्छता मिशन को दे दिया है। इसमंें निविदा की शर्तो में 400-500 गांवों का एक लाट बनाकर निविदा प्रकाशित की गई है। इस प्रकार की शर्तो के कारण छोटी पूंजी के ठेकेदार बेरोजगार हो गये है। उन्होने आग्रह किया है कि बढ़ती बेरोजगारी को देखते हुये पूर्व की भांति निविदा में शर्तें लागू करते हुये कम पूंजी के पंजीकृत ठेकेदारों को भी योजना का लाभ दिलाया जाय।