Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
फाइलेरिया प्रभावित अंगों की सही देखभाल करें और राहत पाएँ : डीएमओ गन्ना लदे ट्राले के पलटने से,ड्राइवर की हुई मौत बस्ती के 2 वर्ष 8 माह के बच्चे आर्यन ने बनाया एक और विश्व रिकॉर्ड पुण्य तिथि पर याद किये गये आलोचना सम्राट आचार्य रामचन्द्र शुक्ल शिविर में पथ विक्रेताओं को दिया कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी सम्पूर्ण समाधान दिवस तहसील भानपुर में 04 को प्रकरणों के गुणवत्तापूर्ण निस्तारण न किए जाने पर डेढ़ दर्जन अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस मुख्यमन्त्री मत्स्य सम्पदा योजना प्रारम्भ वरिष्ठता सूची जारी करने की मांग को लेकर बीएएसए को सौंपा ज्ञापन शाइन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस में विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन

अतिवृष्टि से खराब हुयी फसल की क्षतिपूर्ति प्राप्त करने के लिए निर्धारित प्रारूप पर आवेदन कर सकते हैं किसान

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।

अतिवृष्टि से खराब हुयी फसल की क्षतिपूर्ति प्राप्त करने के लिए बीमित किसान निर्धारित प्रारूप पर सूचना भर कर निकट के कृषि बीज गोदाम, ब्लाक, तहसील, मुख्यालय पर कृषि विभाग के कार्यालय में जमा कर सकते है। इसके अलावा टोल फ्री नम्बर-1800,200,5142 पर निःशुल्क अवगत करा सकते है। यह जानकारी विकास भवन सभागार में आयोजित किसान दिवस में किसानों को दी गयी। सीडीओ डॉ0 राजेश कुमार प्रजापति ने बताया कि 50 प्रतिशत से अधिक फसल की क्षति होने पर बीमित किसानों को तत्काल 25 प्रतिशत धनराशि उनके खाते में बीमा कम्पनी द्वारा भेजी जायेंगी।
सीडीओ ने बताया कि पिछले वर्ष 04 करोड़ रूपये से अधिक धनराशि बीमित किसानों को क्षतिपूर्ति का दिया गया है। उन्होने कहा कि राजस्व, कृषि एंव बीमा कम्पनी की संयुक्त टीम द्वारा फसलों की क्षति का आकलन किया जा रहा है। बीमित किसानों को इसकी क्षतिपूर्ति शीघ्र ही उपलब्ध करायी जायेंगी।
डिप्टी आरएमओ गोरखनाथ तिवारी ने बताया कि जनपद में 01 नवम्बर से धान खरीद की जायेंगी। सभी किसान पोर्टल पर रजिस्टेªशन करा लें और जिन्होने पहले रजिस्टेªशन कराया है वे उसका रिनिवल करा लें। जनपद में इस वर्ष कुल 121 धान क्रय केन्द्र खोले जायेंगे, जिसमें से 61 क्रय केन्द्रों की स्थापना कर दी गयी है। शेष केन्द्रों को भी 25 अक्टॅूबर तक स्थापित कर दिया जायेंगा।
कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक डॉ0 आरवी सिंह ने बताया कि 500 मिली0लीटर नैनो यूरिया 45 किलो यूरिया के एक बैग से ज्यादा किफायती है। इसका उपयोग आसान है तथा यह वायु अथवा जल को प्रदूषित नही करता है। 120 लीटर पानी में इसका घोल बनाकर छिड़काव करने से यह सीधे पौधों को प्राप्त होता है तथा क्षति कम होती है, जबकि यूरिया के दाने पूरी तरह पौधो को नही मिल पाते है। साथ ही वायु एंव जल को प्रदूषित भी करते है। इसलिए नैनों यूरिया उपयोग करना ज्यादा किफायती है।
किसान दिवस में किसान पृथ्वीराज, तीरथराज, विश्वनाथ चौधरी, रामउजागिर सिंह, विजेन्द्र बहादुर पाल ने किसानों की समस्याओं को रखा। विभागीय अधिकारियों मनीष सिंह, सुधाकर चक्रवर्ती, लीड बैंक मैनेजर अविनाश चन्द्रा, सहायक अभियन्ता डॉ0 राजेश कुमार, बीमा कम्पनी, मत्स्य के संदीप वर्मा, विद्युत के अधिशासी अभियन्ता तथा अन्य अधिकारियों ने उनकी समस्याओ का निदान किया।