Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
रेलवे से रिटायर्ड इंजीनियर को दबंग ठेकेदार ने अपने दो साथियों के साथ रात भर बंधक बनाकर पीटा राखी बंधवाने आए एक युवक की दो लोगों ने ब्लेड से रेत दिया गला, आरोपियों के तलाश मे पुलिस राज्य कर्मचारियों ने निकाली तिरंगा यात्राः डीएम ने बढाया हौसला एपीएन के छात्रों ने निकाली तिरंगा यात्रा पोषण व पुनर्वास केन्‍द्र में भर्ती बच्‍चों ने एक दूसरे को बांधी राखी गर्भावस्था में महिलाएं हो सकती हैं वैनिशिंग ट्विन सिंड्रोम की शिकार नगर पंचायतों में जलकर प्राप्त करने के लिए डीएम ने दिए निर्देश बेगम खैर गर्ल्स इण्टर कालेज की छात्राओं ने निकाली तिरंगा यात्रा 14 अगस्त को आयोजित हो रहे तिरगां यात्रा को लेकर तैयारियों पर चर्चा आज मेट्रो ट्रेन मॉडल का वर्चुअल अनावरण करेंगे मुख्यमंत्री योगी

मेधा ने किया त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण देनेे की मांग

बस्ती – सोमवार को मेधा पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता दीन दयाल त्रिपाठी के नेतृत्व में पदाधिकारियों और सदस्यों को जिलाधिकारी के प्रशासनिक अधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को तीन सूत्रीय ज्ञापन देकर त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में सर्वणों के लिये घोषित 10 प्रतिशत आरक्षण को चुनाव प्रक्रिया में शामिल करने की मांग किया।
ज्ञापन देते हुये दीन दयाल तिवारी ने कहा कि कोरोना संकट काल के बाद हो रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों के आरक्षित सूची में बस्ती जनपद के साथ ही प्रदेश के अनेक जनपदों में अंतिम रूप दिया जा रहा है। सरकार ने सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण दिये जाने की घोषणा किया है किन्तु इस नीति का त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में पालन नहीं हो रहा है। मांग किया कि सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण दिये जाने की घोषणा का पालन कराया जाय और उस अनुरूप उन्हें आरक्षण का लाभ दिया जाय।
कहा कि विचित्र विडम्बना है कि पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, जन जाति के घोषित सीटों पर सामान्य वर्ग के लोग चुनाव नहीं लड़ सकते किन्तु सामान्य वर्ग के सीट पर पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, जन जाति के लोग उम्मीदवार बन जाते हैं। यह स्थितियां समान अवसर और संविधान की मंशा के विपरीत है। तत्काल प्रभाव से ऐसा शासनादेश निर्गत किया जाय कि सामान्य वर्ग के सीट पर पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, जन जाति के लोग उम्मीदवार न बन सके और सामान्य वर्ग को दिये गये 10 प्रतिशत आरक्षण की भी स्थिति स्पष्ट किया जाय।
मुख्यमंत्री को भेजे 3 सूत्रीय मांग पत्र में सामान्य वर्ग के सीट पर पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, जन जाति के लोग उम्मीदवार न बन सके इसका शासनादेश जारी करने, सामान्य वर्ग को दिये गये 10 प्रतिशत आरक्षण का पालन कराये जाने, लोकसभा, विधानसभा चुनाव की तरह त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में नोटा को भी मतदान प्रक्रिया में शामिल करने आदि की मांग शामिल हैं।
ज्ञापन सौंपने वालों में मुख्य रूप से अंकेश पाण्डेय, अभयदेव शुक्ल, दीपक मिश्र, उमेश पाण्डेय ‘मुन्ना’ हरिओम तिवारी, मो. ताहिर, राहुल आदि शामिल रहे।