Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
यूपी की भाजपा सरकार को तिरंगा यात्रा भी लगता है अवैध- संजय सिंह जागरूकता का परिचय दें अन्त्योदय कार्ड धारक, बनवाएं आयुष्मान कार्ड 30 अक्टूबर तक जिले के सभी बैंक शाखाओं पर आयोजित किया जायेंगा कैम्प सपा की मासिक बैठक में बनी रणनीति इस बार दीपवाली में 11 फिट के दिये के साथ जगमगाएगा अमहट घाट श्रमिको के लिए कल्याणकारी योजनाओं को संचालित कर रही है प्रदेश सरकार-सुनील कुमार भराला टीकाकरण कर्मियों की लगन का फल है सफल टीकाकरण एक माह में नौ हजार अंत्योदय लाभार्थियों ने किया आवेदन श्री रामलीला महोत्सव में गुरुवार को राम बारात एवं राम विवाह का किया गया मंचन 100 करोड़ कोविड टीकाकरण में जिले ने दिया 8.55 लाख का योगदान

मेधा ने किया त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण देनेे की मांग

बस्ती – सोमवार को मेधा पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता दीन दयाल त्रिपाठी के नेतृत्व में पदाधिकारियों और सदस्यों को जिलाधिकारी के प्रशासनिक अधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को तीन सूत्रीय ज्ञापन देकर त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में सर्वणों के लिये घोषित 10 प्रतिशत आरक्षण को चुनाव प्रक्रिया में शामिल करने की मांग किया।
ज्ञापन देते हुये दीन दयाल तिवारी ने कहा कि कोरोना संकट काल के बाद हो रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों के आरक्षित सूची में बस्ती जनपद के साथ ही प्रदेश के अनेक जनपदों में अंतिम रूप दिया जा रहा है। सरकार ने सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण दिये जाने की घोषणा किया है किन्तु इस नीति का त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में पालन नहीं हो रहा है। मांग किया कि सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण दिये जाने की घोषणा का पालन कराया जाय और उस अनुरूप उन्हें आरक्षण का लाभ दिया जाय।
कहा कि विचित्र विडम्बना है कि पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, जन जाति के घोषित सीटों पर सामान्य वर्ग के लोग चुनाव नहीं लड़ सकते किन्तु सामान्य वर्ग के सीट पर पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, जन जाति के लोग उम्मीदवार बन जाते हैं। यह स्थितियां समान अवसर और संविधान की मंशा के विपरीत है। तत्काल प्रभाव से ऐसा शासनादेश निर्गत किया जाय कि सामान्य वर्ग के सीट पर पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, जन जाति के लोग उम्मीदवार न बन सके और सामान्य वर्ग को दिये गये 10 प्रतिशत आरक्षण की भी स्थिति स्पष्ट किया जाय।
मुख्यमंत्री को भेजे 3 सूत्रीय मांग पत्र में सामान्य वर्ग के सीट पर पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, जन जाति के लोग उम्मीदवार न बन सके इसका शासनादेश जारी करने, सामान्य वर्ग को दिये गये 10 प्रतिशत आरक्षण का पालन कराये जाने, लोकसभा, विधानसभा चुनाव की तरह त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में नोटा को भी मतदान प्रक्रिया में शामिल करने आदि की मांग शामिल हैं।
ज्ञापन सौंपने वालों में मुख्य रूप से अंकेश पाण्डेय, अभयदेव शुक्ल, दीपक मिश्र, उमेश पाण्डेय ‘मुन्ना’ हरिओम तिवारी, मो. ताहिर, राहुल आदि शामिल रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.