Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
समाजवादी पार्टी सांस्कृतिक प्रकोष्ठ पदाधिकारियों की घोषणा रोटरी ने ग्राम प्रधान को भेंट किया कोरोना से बचाव का संसाधान राज्य स्तरीय फार्म एन फ़ूड अवार्ड से नवाजे गए किसान संघर्ष और साधना की मिसाल है सप्रे जी का जीवन : हृदय नारायण दीक्षित फोकस्ड सैम्पलिंग में नहीं मिला एक भी कोरोना मरीज डीएम, एसपी ने किया जिला कारागार का किया गया आकस्मिक निरीक्षण यशकान्त सिंह अध्यक्ष, अनिल दूबे प्रमुख संघ के महामंत्री बन कोविड-19 से संबंधित आवश्यक मेडिकल सामग्री तैयार करने का उधम शुरू करें उधमी: डीएम कोविड-19 गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए मनाया जाएगा स्वतंत्रता दिवस प्राकृतिक तरीको से घटाए यूरिक एसिड का लेवल- डा.वी.के.वर्मा

भागवत कथा ही साक्षात कृष्णः स्वामी राघवाचार्य

सात दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती। श्रीमद्भागवत कथा मनुष्य के समस्त इच्छाओं को पूरा करती है। यह कल्पवृक्ष के समान है। इसके लिए मनुष्य को निर्मल भाव से कथा सुनने और सत्य के मार्ग पर चलना चाहिए। मनुष्य से गलती हो जाना बड़ी बात नहीं। लेकिन ऐसा होने पर समय रहते सुधार और प्रायश्चित जरूरी है। ऐसा नहीं हुआ तो गलती पाप की श्रेणी में आ जाती है। यह सद् विचार जगत गुरू स्वामी राघवाचार्य जी महाराज ने शिव नगर तुरकहिया में भाजपा जिलाध्यक्ष महेश शुक्ल के आवास पर आयोजित 7 दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा के दूसरे दिन व्यासपीठ से व्यक्त किया।
कथा व्यास ने कहा कि, भागवत कथा ही साक्षात कृष्ण है और जो कृष्ण है, वही साक्षात भागवत है। भागवत कथा भक्ति का मार्ग प्रशस्त करती है। भागवत की महिमा सुनाते हुए महात्मा जी ने कहा कि, एक बार नारद जी ने चारों धाम की यात्रा की, लेकिन उनके मन को शांति नहीं हुई। नारद जी वृंदावन धाम की ओर जा रहे थे, तभी उन्होंने देखा कि एक सुंदर युवती की गोद में दो बुजुर्ग लेटे हुए थे, जो अचेत थे। युवती बोली महाराज मेरा नाम भक्ति है। यह दोनों मेरे पुत्र हैं, जिनके नाम ज्ञान और वैराग्य है। यह वृंदावन में दर्शन करने जा रहे थे। लेकिन बृज में प्रवेश करते ही यह दोनों अचेत हो गए। बूढे हो गए। आप इन्हें जगा दीजिए। इसके बाद देवर्षि नारद जी ने चारों वेद, छहों शास्त्र और 18 पुराण व गीता पाठ भी सुना दिया। लेकिन वह नहीं जागे। नारद ने यह समस्या मुनियों के समक्ष रखी। ज्ञान, वैराग्य को जगाने का उपाय पूछा। मुनियों के बताने पर नारद जी ने हरिद्वार धाम में आनंद नामक तट पर भागवत कथा का आयोजन किया। मुनि कथा व्यास और नारद जी मुख्य परीक्षित बने। इससे ज्ञान और वैराग्य प्रथम दिवस की ही कथा सुनकर जाग गए। उन्होंने कहा कि, गलती करने के बाद क्षमा मांगना मनुष्य का गुण है, लेकिन जो दूसरे की गलती को बिना द्वेष के क्षमा कर दे, वो मनुष्य महात्मा होता है। जिसके जीवन में श्रीमद्भागवत की बूंद पड़ी, उसके हृदय में आनंद ही आनंद होता है। भागवत को आत्मसात करने से ही भारतीय संस्कृति की रक्षा हो सकती है। भगवान को कहीं खोजने की जरूरत नहीं, वह हम सबके हृदय में मौजूद हैं।
महेश शुक्ल , माता श्यामा देवी ने विधि विधान से परिजनों, श्रद्धालुओं के साथ व्यास पीठ का वंदन किया। मुख्य रूप से सांसद हरीश द्विवेदी क्षेत्रीय मंत्री पी एन पाठक, विनोद शुक्ल, रविन्द्र गौतम, प्रत्युष विक्रम सिंह, अरविंद श्रीवास्तव, आर. के. पाण्डेय, सुधाकर पाण्डेय, ब्रह्मानंद शुक्ल, अखण्ड प्रताप सिंह, जान पाण्डेय, अवनीश शुक्ल, सतीश सोनकर, चंद्र शेखर ‘मुन्ना’, गिरीश पाण्डेय के साथ श्रद्धालु श्रोता उपस्थित रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.