Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
अयोध्या में बनेगा अनूठा मंदिरों का संग्रहालय, प्राचीन शैलियों के मंदिरों के बनाए जाएंगे कई मॉडल अंसल एपीआई के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने कसा शिकंजा, पुलिस कमिश्नर से अंसल के खिलाफ लखनऊ में दर्ज मु... कोटे के दूकान के आवंटन की मांगः डीएम को सौंपा ज्ञापन सदर विधायक महेन्द्र यादव ने मो. सलीम, शैलेन्द्र को बनाया प्रतिनिधि अदालत के आदेश के बाद भी नहीं मिला जमीन पर कब्जा, डीएम ने दिया कार्रवाई का निर्देश बच्चों के साथ ससुराल में शान्ती देवी ने शुरू किया धरना शासन के निर्देश पर हुआ परिषदीय स्कूलों की साफ—सफाई 01 जुलाई से 30 सितंबर तक संचालित किया जाएगा संभव अभियान,चिन्हित किये जायेंगे अतिकुपोषित बच्चे : सीडी... प्रतापगढ़: सिपाही संजय यादव की हत्या के मामले मे शामिल चार आरोपी पुलिस हिरासत में अलर्ट: प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 682 नए मामले

जनपद में सक्रिय 56 गोशालाओं की निगहबानी करेंगे नामित नोडल अधिकारी

विकास कार्यो की समीक्षा बैठक
कबीर बस्ती न्यज:

बस्ती: जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने जनपद में सक्रिय 56 गोशालाओं के लिए एक-एक जिला स्तरीय अधिकारी को नोडल नामित करने का निर्देश दिया है। कलेक्टेªट सभागार में आयोजित विकास कार्यो की समीक्षा बैठक में उन्होेने कहा कि ये अधिकारी नियमित रूप से गोशाला का भ्रमण करेंगे, वहॉ की कमियों को दूर करायेंगे।
उन्होेने जल जीवन मिशन की समीक्षा करते हुए निर्देश दिया है कि सभी परियोजनाओं के बारे में अद्यतन सत्यापन रिपोर्ट उपलब्ध कराये। उल्लेखनीय है कि जल निगम -शहरी एवं ग्रामीण दो भागों में कार्य करता है। शहरी क्षेत्र के अधिशासी अभियन्ता रेहान फारूकी ने बताया कि अमृत योजना के तहत नगर पालिका परिषद बस्ती में 09 ओवरहेड टैंक बनवाये जा रहे है। ग्रामीण क्षेत्र के अधिशासी अभियन्ता संजय जायसवाल ने बताया कि फेज एक में जल निगम द्वारा 117 गॉव में पानी टंकी बनवाई गयी है, जिसमें से 63 ग्राम पंचायतों को हैण्डओवर हो गये है, 54 ग्राम पंचायतों की परियोजना का संचालन जल निगम द्वारा किया जा रहा है। शासन के नये निर्देश के बाद अब सभी राजस्व गॉव में हर घर नल योजना के अन्तर पेयजल पहुॅचाया जायेंगा, इसके लिए मेघा इण्टरप्राइजेज को कार्यदायी संस्था नामित किया गया हैै। इनके द्वारा फेज टू में 476 राजस्व गॉव, फेज थ्री में 1700 राजस्व गॉव का डीपीआर तैयार किया जा रहा है, शेष गॉव चौथे फेज में लिए जायेंगे। उल्लेखनीय है कि जिले में कुल 3109 राजस्व गॉव है।
जिलाधिकारी ने सरकारी विभागों पर विद्युत बकाये की स्थिति की समीक्षा किया। उन्होने पाया कि बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा 09 करोड़ रूपये, जल निगम द्वारा 03 करोड़ रूपये तथा स्वास्थ्य विभाग द्वारा 1.50 करोड़ रूपये का भुगतान किया गया है परन्तु विद्युत विभाग द्वारा अभी तक इसको समायोजित नही किया गया है, जिसके कारण भुगतान शो नही कर रहा है। जिलाधिकारी ने इस स्थिति पर असंतोष व्यक्त किया तथा निर्देश दिया कि तीन दिन के भीतर समायोजन करके रिपोर्ट करें।
उन्होने जनपद में निर्माणाधीन पुलों के प्रगति का समीक्षा किया। प्रोजेक्ट मैनेजर ए.के. सिंह ने बताया कि बारहछत्तर में प्रस्तावित पुल जिसे वन विभाग द्वारा इसके निर्माण के लिए भारत सरकार से अनुमति मिल गयी है। अगले एक सप्ताह में इसका कार्य शुरू हो जायेंगा। नयी सड़को के निर्माण की समीक्षा करते हुए उन्होने निर्देश दिया कि निर्माण कार्य निर्धारित समय से पूरा कराये तथा गुणवत्ता का विशेष ध्यान दें।
उन्होने नहरों में पानी, पीएम किसान सम्मान निधि, सम्मान निधि की ईकेवाईसी, आयुष्मान कार्ड, सामुदायिक शौचालय, स्वरोजगार, सहकारी देयों की वसूली, मनरेगा, प्रधानमंत्री आवास, मुख्यमंत्री आवास आदि योजनाओं का भी समीक्षा किया। उन्होने निर्देश दिया कि सभी विभाग मासिक लक्ष्य अवश्य पूरा करें। आईजीआरएस की कोई शिकायत डिफाल्टर श्रेणी में न जाय।
बैठक का संचालन अर्थ एवं संख्याधिकारी सादुल्ला ने किया। इसमें सीडीओ डा. राजेश कुमार प्रजापति, डीडीओ अजीत श्रीवास्तव, उपायुक्त एन.आर.एल.एम रामदुलार, डिप्टी सीएमओ डा. जय सिंह, अधिशासी अभियन्ता सिंचाई राकेश कुमार गौतम, विद्युत के हेमन्त सिंह, पीडब्ल्यूडी के शुभनारायण एवं अशोक कुमार तथा विभागीय अधिकारीगण उपस्थित रहें।