Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
समय से समस्याओं का निराकरण कर हम लोगो की कर सकते है वास्तविक सेवा: गोविंदराजू एन.एस. थाना समाधान दिवस पर डीएम,एसपी ने की जनसुनवाई नवागत मंडलायुक्त योगेश्वर राम मिश्र ने मण्डलायुक्त पद का ग्रहण किया कार्यभार सांसद ने किया खेल महाकुंभ तैयारियों का निरीक्षण हर मोड़ पर खरा उतर रहा है भारतीय संविधान-डा. वी.के. वर्मा बाबा साहब के बनाये संविधान को ध्वस्त करना चाहती है केन्द्र व प्रदेश सरकार: प्रेमशंकर द्विवेदी संविधान दिवस पर संगोष्ठी का आयोजन लंदन की डिग्री, गोल्ड मेडल से सम्मानित हुये डा. वी.के. वर्मा वंचित छात्रों को शुल्क प्रतिपूर्ति, छात्रवृत्ति दिलाने की मांग को लेकर पद यात्रा निकालेगी मेधा सफाई कर्मचारी संघ: डीपीआरओ को सौंपा 12 सूत्रीय ज्ञापन, समस्याओं के निस्तारण की मांग

गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी को पद से बर्खास्त करने की मांग

भाकियू ने काला दिवस मनाकर सौंपा ज्ञापन

कबीर बस्ती न्यूजः

बस्ती । भारतीय किसान यूनियन राष्ट्रीय नेतृत्व के आवाहन पर सोमवार को यूनियन पदाधिकारियों, किसानों, मजदूरों ने नव नियुक्त जिलाध्यक्ष हृदयराम वर्मा के नेतृत्व में जिलाधिकारी कार्यालय पर काला दिवस मनाकर विरोध प्रदर्शन किया। अपर  जिलाधिकारी के माध्यम से प्रधानमंत्री को भेजे ज्ञापन में मांग किया गया है कि लखीमपुर खीरी हत्याकाण्ड के मुख्य साजिशकर्ता केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी को पद से बर्खास्त कर निर्दोष किसानों को जेल से रिहा किया जाय और किसानों के ऊपर लगाये गये झूठे मामलों को वापस लिया जाय।
ज्ञापन सौंपते हुये जिलाध्यक्ष हृदयराम वर्मा ने कहा कि लखीमपुर खीरी हत्याकाण्ड मामले में एक वर्ष बीत गये किन्तु किसानोें को न्याय नहीं मिला।  13 साथियों के परिजनों को मुआवजा भी नहीं दिया गया और शहीद हुये 5 किसानों के परिवारों में से किसी सदस्य को सरकारी नौकरी नहीं दी गई। मांग किया कि घटना के सभी गवाहांे और पैरवी कर रहे किसान नेताओं को मजबूत सुरक्षा प्रदान किया जाय जिससे शहीद किसानों के परिवारों को न्याय मिल सके। भाकियू के पूर्वी उत्तर प्रदेश अध्यक्ष अनूप चौधरी, दिवान चन्द पटेल,चौधरी प्रदीप किसान, शोभाराम ठाकुर, राम मनोहर चौधरी, जयराम चौधरी आदि ने चेतावनी दिया कि यदि लखीमपुर किसान हत्याकाण्ड मामले में न्याय न मिला तो राष्ट्रीय नेतृत्व के आवाहन पर किसान चरणबद्ध रूप से अपना आन्दोलन जारी रखेंगे।
काला दिवस मनाकर ज्ञापन देने वालों में मुख्य रूप से फूलचन्द चौधरी, कन्हैया प्रसाद किसान, अभिलाष चन्द्र श्रीवास्तव, बंश गोपाल किसान, त्रिवेनी चौधरी, राम नरेश चौधरी, पारसनाथ चौधरी, रामनयन किसान के साथ ही अनेक पदाधिकारी, कार्यकर्ता शामिल रहे।