Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
सम्पूर्ण समाधान दिवस में 98 मामलें में 06 का निस्तारण जेण्डर रेसियों बढाने के लिए घर-घर सर्वे करके भरवायें मतदाता फार्म: मण्डलायुक्त डीएम एसपी से मिले अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य, संचालित योजनाओं पर चर्चा भाजपा नेता बलराम ने किया पब्लिक डायग्नोसिस सेन्टर के जांच की मांग नये-नये प्रयोग एवं तकनीकों से जनपद के कृषकों को आच्छादित कर करें लाभान्वित: डा0 बिजेन्द्र सिंह माउंट कार्मल कॉलेज में छात्राओं ने धूमधाम से मनाया वार्षिक उत्सव मिलजुल कर भाईचारे के साथ त्योहार मनाने की परंपरा को कायम रखने की अपील महिलाओं के सम्मान को ठेस पहुंचाने वालों के साथ सख्ती से निपटेगी पुलिस अस्पताल मे झांकने नही जाते हैं डाक्टर, हराम का उठाते हैं एक लाख रूपया महीना बस्ती के शशांक को नई दिल्ली में मिला आपदा फ़रिश्ता राष्ट्रीय सम्मान

डीएम के आकस्मिक निरीक्षण मे डियूटी से नदारद मिले 3 लिपिक, वेतन रोकने के निर्देश

कबीर बस्ती न्यूजः

बस्ती: जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने सोमवार प्रातः 10:30  बजे विकास भवन स्थित जिला समाज कल्याण तथा अल्पसंख्यक कल्याण कार्यालय का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान 03 लिपिक अनुपस्थित पाए गए। उन्होंने अनुपस्थित तीनों लिपिकों का वेतन रोकते हुए स्पष्टीकरण तलब किया है। निरीक्षण के दौरान सीडीओ डॉ राजेश कुमार प्रजापति तथा डीडीओ अजीत श्रीवास्तव, समाज कल्याण अधिकारी श्रीप्रकाश पांडे एवं अन्य कर्मचारी गण उपस्थित रहे।
सर्वप्रथम समाज कल्याण कार्यालय में निरीक्षण के दौरान उन्होंने पाया कि विश्वनाथ वर्मा बिना किसी सूचना के अनुपस्थित हैं। दूसरे लिपिक अमित कुमार हस्ताक्षर बनाकर कोषागार चले गए थे। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि प्रातः 10:00 से 12:00 बजे तक कोई कर्मचारी कार्यालय किसी भी कार्य से नहीं छोड़ेगा। अल्पसंख्यक कल्याण विभाग में राम सुरेश हस्ताक्षर करके कहीं चले गए थे, जो अनुपस्थित पाए गए। जिलाधिकारी ने आईजीआरएस संबंधित शिकायतों के निस्तारण की स्थिति जानने के लिए कनिष्ठ लिपिक मोहम्मद अनस से रजिस्टर मांगा परंतु वे रजिस्टर नहीं दिखा पाए। जिलाधिकारी ने सभी का वेतन रोकते हुए स्पष्टीकरण तलब किया है।

 उन्होंने समाज कल्याण अधिकारी को निर्देशित किया कि उनके कार्यालय द्वारा अनुसूचित जाति के व्यक्तियों के लिए विभिन्न योजनाएं संचालित की जाती हैं। इसलिए प्रत्येक लिपिक को योजनावार कार्य विभाजन संबंधी आदेश जारी करें, ताकि समय से सुचारूरूप से कार्य का संपादन हो सके। उन्होंने निर्देश दिया है कि प्रत्येक अधिकारी-कर्मचारी 10:00 से 12:00 बजे तक कार्यालय में उपस्थित रहकर जन सुनवाई करेगे, आईजीआरएस के प्रकरणों का निस्तारण करेगे तथा निस्तारित प्रकरणों में दोनों पक्ष से फीडबैक भी प्राप्त करेगा ;