Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
अयोध्या में बनेगा अनूठा मंदिरों का संग्रहालय, प्राचीन शैलियों के मंदिरों के बनाए जाएंगे कई मॉडल अंसल एपीआई के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने कसा शिकंजा, पुलिस कमिश्नर से अंसल के खिलाफ लखनऊ में दर्ज मु... कोटे के दूकान के आवंटन की मांगः डीएम को सौंपा ज्ञापन सदर विधायक महेन्द्र यादव ने मो. सलीम, शैलेन्द्र को बनाया प्रतिनिधि अदालत के आदेश के बाद भी नहीं मिला जमीन पर कब्जा, डीएम ने दिया कार्रवाई का निर्देश बच्चों के साथ ससुराल में शान्ती देवी ने शुरू किया धरना शासन के निर्देश पर हुआ परिषदीय स्कूलों की साफ—सफाई 01 जुलाई से 30 सितंबर तक संचालित किया जाएगा संभव अभियान,चिन्हित किये जायेंगे अतिकुपोषित बच्चे : सीडी... प्रतापगढ़: सिपाही संजय यादव की हत्या के मामले मे शामिल चार आरोपी पुलिस हिरासत में अलर्ट: प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 682 नए मामले

कलेक्टर की अध्यक्षता में जिला साक्षरता समिति की बैठक


प्रौढ़ शिक्षा योजना के तहत चलेगा पढ़ना-लिखना अभियान
जिले में 15 वर्ष से अधिक उम्र के लगभग 75 हजार
असाक्षरों को पंाच साल में साक्षर बनाने का लक्ष्य

बलौदाबाजार, 28 अक्टूबर 2020/कलेक्टर श्री सुनील कुमार जैन की अध्यक्षता में जिला साक्षरता मिशन की कार्यकारिणी समिति की बैठक आज यहां जिला कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित की गई। बैठक में प्रौढ़ शिक्षा योजना के अंतर्गत आगामी पांच वर्षों के लिए पढ़ना लिखना अभियान की जिले में स्वीकृति की जानकारी दी गई। वित्तीय वर्ष 2020-21 से शुरू होकर यह योजना 2024-25 तक चलेगी। योजना में 15 वर्ष से अधिक उम्र समूह के लोगों को साक्षर बनाना अभियान का प्रमुख लक्ष्य होगा। जिले में 75 हजार 360 असाक्षर लोगों को पांच साल में साक्षर बनाने के लिये प्रारंभिक रूप से चिन्हित किया गया है। चालू वर्ष में इनमें से 8 हजार असाक्षरों को साक्षर बनाने का लक्ष्य तय किया गया है।
समिति की बैठक में अधिकारियों ने बताया पढ़ना लिखना अभियान मूल रूप से बुनियादी साक्षरता पर केन्द्रित होगा। बलौदाबाजार जिले की साक्षरता दर वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार 70.63 प्रतिशत है। इनमें 82.79 प्रतिशत पुरूष एवं 58.57 प्रतिशत महिला साक्षर हैं। पन्द्रह वर्ष से अधिक आयु के असाक्षर व्यक्तियों की संख्या जिले में 3 लाख 82 हजार के लगभग हैं। आगामी पांच सालों में इनमें से लगभग 76 लाख लोगों को साक्षर बनाना है। इनमें 54 हजार महिला एवं 22 हजार के लगभग पुरूष शामिल हैं। बैठक में तय किया गया कि इस वित्तीय साल इनमें से 8 हजार लोगों को साक्षर बनाया जायेगा। विकासखण्ड वार इस लक्ष्य को आवंटित करने पर बलौदाबाजार को 2 हजार, बिलाईगढ़ एवं कसडोल को डेढ़-डेढ़ हजार और सिमगा, पलारी एवं भाटापारा विकासखण्ड को एक-एक हजार का लक्ष्य दिया गया है।
राजीव गांधी शिक्षा मिशन के परियोजना समन्वयक श्री सोमेश्वर राव ने बताया कि 15 वर्ष से अधिक उम्र के असाक्षर लोगों को बुनियादी रूप से साक्षर बनाना योजना का प्रमुख लक्ष्य है। चिन्हित लोगों को चार महीने की अवधि में 120 घण्टे की पढ़ाई कराई जायेगी। शहरी और ग्रामीण दोनों इलाकों में योजना समान रूप से संचालित होगी। एनसीसी, एनएसएस, नेहरू युवा केन्द्र एवं समाजसेवी संस्थाओं के सहयोग से योजना का संचालन किया जायेगा। महिला, अनुसूचित जाति, जनजाति एवं समाज के वंचित तबके के लोगों को प्राथमिकता से कवर किया जायेगा। बैठक में जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी डाॅ फरिहा आलम सिद्धिकी, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास श्री बी.के.राजपूत, जिला शिक्षा अधिकारी श्री चैनसिंह धु्रव, राजीव गांधी शिक्षा मिशन के समन्वयक श्री सोमेश्वर राव सहित कार्यकारिणी समिति के सदस्य उपस्थित थे।