Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
लंदन की डिग्री, गोल्ड मेडल से सम्मानित हुये डा. वी.के. वर्मा वंचित छात्रों को शुल्क प्रतिपूर्ति, छात्रवृत्ति दिलाने की मांग को लेकर पद यात्रा निकालेगी मेधा सफाई कर्मचारी संघ: डीपीआरओ को सौंपा 12 सूत्रीय ज्ञापन, समस्याओं के निस्तारण की मांग पीएम आयुष्मान योजना: पहले से बना था कार्ड, मिला आयुष्मान का वरदान आदर्श पौधशाला तथा राजकीय सार्वजनिक उद्यान चंगेरवा का डीएम ने किया निरीक्षण डीएम के निर्देश पर रूधौली तहसील मे चला बृहद अवैध अतिक्रमण हटाओ अभियान डीएम ने दिया वाल्टरगंज चीनी मिल के कर्मचारियों का वेतन दिलाने का आश्वासन बीआरसी में तीन दिवसीय टीएलएम निर्माण कार्यशाला शुरू संविदा कर्मियों से परिषदीय शिक्षकों, शिक्षा मित्रों, अनुदेशकों की जांच का मामला गरमाया गांव – गांव में परिवार नियोजन की अलख जगा रहा है सारथी वाहन

कलेक्टर की अध्यक्षता में जिला साक्षरता समिति की बैठक


प्रौढ़ शिक्षा योजना के तहत चलेगा पढ़ना-लिखना अभियान
जिले में 15 वर्ष से अधिक उम्र के लगभग 75 हजार
असाक्षरों को पंाच साल में साक्षर बनाने का लक्ष्य

बलौदाबाजार, 28 अक्टूबर 2020/कलेक्टर श्री सुनील कुमार जैन की अध्यक्षता में जिला साक्षरता मिशन की कार्यकारिणी समिति की बैठक आज यहां जिला कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित की गई। बैठक में प्रौढ़ शिक्षा योजना के अंतर्गत आगामी पांच वर्षों के लिए पढ़ना लिखना अभियान की जिले में स्वीकृति की जानकारी दी गई। वित्तीय वर्ष 2020-21 से शुरू होकर यह योजना 2024-25 तक चलेगी। योजना में 15 वर्ष से अधिक उम्र समूह के लोगों को साक्षर बनाना अभियान का प्रमुख लक्ष्य होगा। जिले में 75 हजार 360 असाक्षर लोगों को पांच साल में साक्षर बनाने के लिये प्रारंभिक रूप से चिन्हित किया गया है। चालू वर्ष में इनमें से 8 हजार असाक्षरों को साक्षर बनाने का लक्ष्य तय किया गया है।
समिति की बैठक में अधिकारियों ने बताया पढ़ना लिखना अभियान मूल रूप से बुनियादी साक्षरता पर केन्द्रित होगा। बलौदाबाजार जिले की साक्षरता दर वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार 70.63 प्रतिशत है। इनमें 82.79 प्रतिशत पुरूष एवं 58.57 प्रतिशत महिला साक्षर हैं। पन्द्रह वर्ष से अधिक आयु के असाक्षर व्यक्तियों की संख्या जिले में 3 लाख 82 हजार के लगभग हैं। आगामी पांच सालों में इनमें से लगभग 76 लाख लोगों को साक्षर बनाना है। इनमें 54 हजार महिला एवं 22 हजार के लगभग पुरूष शामिल हैं। बैठक में तय किया गया कि इस वित्तीय साल इनमें से 8 हजार लोगों को साक्षर बनाया जायेगा। विकासखण्ड वार इस लक्ष्य को आवंटित करने पर बलौदाबाजार को 2 हजार, बिलाईगढ़ एवं कसडोल को डेढ़-डेढ़ हजार और सिमगा, पलारी एवं भाटापारा विकासखण्ड को एक-एक हजार का लक्ष्य दिया गया है।
राजीव गांधी शिक्षा मिशन के परियोजना समन्वयक श्री सोमेश्वर राव ने बताया कि 15 वर्ष से अधिक उम्र के असाक्षर लोगों को बुनियादी रूप से साक्षर बनाना योजना का प्रमुख लक्ष्य है। चिन्हित लोगों को चार महीने की अवधि में 120 घण्टे की पढ़ाई कराई जायेगी। शहरी और ग्रामीण दोनों इलाकों में योजना समान रूप से संचालित होगी। एनसीसी, एनएसएस, नेहरू युवा केन्द्र एवं समाजसेवी संस्थाओं के सहयोग से योजना का संचालन किया जायेगा। महिला, अनुसूचित जाति, जनजाति एवं समाज के वंचित तबके के लोगों को प्राथमिकता से कवर किया जायेगा। बैठक में जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी डाॅ फरिहा आलम सिद्धिकी, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास श्री बी.के.राजपूत, जिला शिक्षा अधिकारी श्री चैनसिंह धु्रव, राजीव गांधी शिक्षा मिशन के समन्वयक श्री सोमेश्वर राव सहित कार्यकारिणी समिति के सदस्य उपस्थित थे।